Wednesday, January 26, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार बिहारशरीफकेसीसी : नये 1906 तो पुराने 121 आवेदन पेंडिंग

केसीसी : नये 1906 तो पुराने 121 आवेदन पेंडिंग

हिन्दुस्तान टीम,बिहारशरीफNewswrap
Tue, 30 Nov 2021 09:40 PM
केसीसी : नये 1906 तो पुराने 121 आवेदन पेंडिंग

हिन्दुस्तान पड़ताल :

केसीसी : नये 1906 तो पुराने 121 आवेदन पेंडिंग

किसानों को केसीसी देने में बैंक कर रहा मनमानी

पूंजी की कमी से अनाज के उत्पादन पर दिख रहा असर

विभाग और बैंकों का चक्कर काट रहे धरतीपुत्र

जिला नहीं अब प्रखंड स्तर पर लगेगा विशेष कैंप

फोटो

किसान : रबी की बुआई करते किसान।

बिहारशरीफ। कार्यालय प्रतिनिधि

केसीसी (किसान क्रेडिट कार्ड) ज्यादा से ज्यादा किसानों को देने के दावे किये जा रहे हैं। प्रक्रिया को रफ्तार देने के लिए कैंप लग रहे हैं। परंतु, हकीकत ठीक उलट है। खामियाजा धरती पुत्रों को भुगतना पड़ रहा है। जिला कृषि विभाग द्वारा विभिन्न बैंकों के भेजे गये 11906 नये आवेदन पेंडिंग पड़े हैं। हद तो यह कि नवीकरण (पुराने) के लिए दिये 121 आवेदन फाइलों में धूल फांक रही है। योजना का लाभ पाने के लिए लाभुक कार्यालय और बैंकों के खाक छान रहे हैं। हाकिमों से आश्वासन के अलावा उन्हें कुछ नहीं मिल रहा है।

केसीसी के लिए विभाग द्वारा अबतक 2118 आवेदन बैंकों को दिये गये हैं। इनमें से महज 212 की स्वीकृति दी गयी है। विडंबना यह कि 70 किसानों को ही राशि मिल पायी है। नवीकरण के लिए भेजे गये 677 आवेदन में से 556 को स्वीकृति दे दी गयी है। लेकिन, राशि 228 किसानों को ही मिल पायी है। विभाग इसके लिए सारा दोष बैंकों पर मढ़ रहा है। वहीं, बैंक नियम व शर्तों का हवाला देकर पल्ला झाड़ रहा है। जबकि, केसीसी पर सालाना चार फीसद ब्याज आवेदकों से बैंक वसूलता है। योजना के तहत डेढ़ लाख तक का केसीसी के लिए सिक्यूरिटी मनी नहीं देनी है। इससे ज्यादा पर बैंक के नियमों के अनुसार सिक्यूरिटी के तौर पर जमीन के कागजात, एलआईसी का बॉर्ड पेपर या फिक्स डिपॉजिट के कागज जमा करने पड़ते हैं। योजना का उद्देश्य यह कि किसानों खेती-बाड़ी के लिए आर्थिक तंगी नहीं झेलनी पड़े। उत्पादन में और वृद्धि हो।

नये छोड़िये, नवीकरण में भी अनदेखी:

नये आवेदनों के निष्पादन में बैंकों द्वारा देरी की जा रही है। इतना ही नहीं जो पहले ले चुके हैं, उन्हें भी केसीसी देने में लापरवाही बरती जा रही है। विभाग की अनदेखी ऐसी कि बीस में से दस प्रखंडों से एक भी किसान का आवेदन अबतक बैंकों को भेजे ही नहीं गये हैं। नवीकरण के लिए सबसे ज्यादा गिरियक से 293 आवेदन बैंकों को भेजे गये। इसमें 266 को स्वीकृति दी गयी है। शेष फाइलों में अटकी है। बिंद से 260 आवेदन दिये गये। स्वीकृति मिली 174 का। बेन से 10 आवेदन भेजे गये। परंतु, स्वीकृति एक को भी नहीं दी गयी है।

आवेदन करने में सबसे आगे सिलाव तो पीछे चण्डी :

केसीसी के लिए आवेदन करने में सिलाव के किसान सबसे आगे हैं। यहां से अबतक 846 आवेदन दिये जा चुके हैं। दूसरे पायदान पर अस्थावां है। 607 धरती पुत्रों ने आवेदन दिया है। जबकि, चंडी के किसान केसीसी लेने में रुचि नहीं ले रहे हैं। आवेदन करने में सबसे पीछे हैं। महज दो आवेदन अबतक दिये गये हैं।

देते हैं नहीं, बनाते हैं रोज बहाने:

किसान अधिकारियों की अनदेखी और बैंकों की मनमानी से मजधार में अटके हैं। कई किसानों ने बताया कि विभाग से केसीसी के आवेदन बैंकों को भेज दिये गये हैं। लेकिन, बैंककर्मी स्वीकृति तो देते नहीं। उल्टे रोज-रोज नये बहाने बनाते हैं। डेढ़ लाख तक का केसीसी बनाने के लिए नियम के विरुद्ध सिक्यूरिटी मनी की मांग की जाती है।

आज राजगीर में लगेगा विशेष कैंप:

ज्यादा से ज्यादा किसानों को केसीसी का लाभ देने और पेंडिंग आवेदन के निष्पादन के लिए जिला पर दो बार कैंप लग चुके हैं। लेकिन, किसान बहुत कम पहुंच पाये थे। अब प्रखंड स्तर पर कैंप लगाने का निर्णय प्रशासन द्वारा लिया गया है। एक दिसंबर को राजगीर, तीन को सिलाव और आठ को चंडी में शिविर लगाया जाएगा। जल्द ही अन्य प्रखंडों की तिथि भी तय कर दी जाएगी। कैंपों में कृषि, गव्य और मत्स्य विभाग और बैंकों के अधिकारी रहेंगे। ऑन स्पॉट आवेदनों की जांच कर किसानों को लाभ दिया जाएगा। इच्छुक किसान जरूरी कागजात के साथ कैंप में पहुंचे।

कहते हैं अधिकारी

बैंकों से पेंडिग आवेदनों का जल्द से जल्द निराकरण करने को कहा गया है। समन्वय बनाकर त्रुटियों का निराकरण किया जा रहा है। सोमवार को राजगीर में विशेष कैंप लगेगा। इच्छुक किसान आवेदन कर सकते हैं।

संजय कुमार, जिला कृषि पदाधिकारी

नये आवेदन एक नजर में:

केसीसी के लिए भेजे गये आवेदन : 2118

बैंकों से स्वीकृति आवेदन अबतक : 212

अबतक राशि दी गयी : 70(किसान)

दी गयी कुल राशि : 85 लाख 33 हजार

पेंडिंग पड़े कुल आवेदन : 1906

नवीकरण के आवेदन:

नवीकरण के लिए भेजे गये आवेदन: 677

बैंकों से स्वीकृति आवेदन अबतक : 556

अबतक राशि दी गयी : 228 किसानों को

दी गयी कुल राशि : 1 करोड़ 93 लाख 38 हजार 900

पेंडिंग पड़े कुल आवेदन : 121

epaper

संबंधित खबरें