DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › बिहारशरीफ › इंदाय : जयपुर के काली मंदिर में महिषासुर का वध करेंगी मां दुर्गा
बिहारशरीफ

इंदाय : जयपुर के काली मंदिर में महिषासुर का वध करेंगी मां दुर्गा

हिन्दुस्तान टीम,बिहारशरीफPublished By: Newswrap
Sun, 26 Sep 2021 09:20 PM
इंदाय : जयपुर के काली मंदिर में महिषासुर का वध करेंगी मां दुर्गा

इंदाय : जयपुर के काली मंदिर में महिषासुर का वध करेंगी मां दुर्गा

पंडाल बनाने के लिए कोलकाता से बुलाये गये हैं कारीगर

8 फीट ऊंची होगी मां दुर्गा की आकर्षक प्रतिमा

36 साल से इन्दाय मोहल्ले में स्थापित हो रहीं माता रानी

फोटो

26मनोज01-शेखपुरा के इन्दाय दुर्गा मंदिर के पास बन रहा पंडाल।

शेखपुरा। निज संवाददाता

शहर के इन्दाय मोहल्ले में बन रहे पूजा पंडाल को भव्य आकार दिया जा रहा है। यहां पिछले 36 सालों से दुर्गा पूजा होती आ रही है। कोरोना काल में पिछले साल पंडाल नहीं बनाया गया था। इस वर्ष दुर्गा पूजा समिति द्वारा जोर-शोर से दुर्गा पूजा को यादगार बनाने की तैयारी चल रही है। श्रद्धालुओं की सहूलियत के लिए बेहतर इंतजाम किये जा रहे हैं। इन्दाय में बन रहे पंडाल को जयपुर के काली मंदिर का स्वरूप दिया जा रहा है। पंडाल बनाने के लिए कारीगर कोलकाता से मंगवाये गये हैं। भव्य पंडाल में मां दुर्गा महिषासुर का वध करती भक्तों को दर्शन देंगी। मूर्तिकारीगर ओम पंडित ने बताया कि दुर्गा प्रतिमा करीब आठ फीट ऊंची रहेगी। दुर्गा मां की दोनों तरफ गणेश जी, लक्ष्मी जी व अन्य देवी देवताओं की मूर्तियां रहेंगी। पंडाल को आकर्षक लुक देने के लिए सजावट का सामान कोलकाता से लाया गया है। पूजा समिति के अध्यक्ष ललन कुमार उर्फ पुचूस, महासचिव मिथलेश कुमार, रंजन कुमार,गोलू कुमार, पवन कुमार, विजय यादव, रामबालक, विकास कुमार, मनीष व अन्य ने बताया कि दशहरा मेले में इन्दाय आने वाले भक्तों को अलग अहसास होगा।

65 फीट ऊंचा भव्य पंडाल बनेगा:

इन्दाय दुर्गा पूजा समिति का भव्य पंडाल करीब 65 फीट से ऊंचा रहेगा। पंडाल में आकर्षक लुक देने के लिए सतरंगी लाइटें लगायी जाएंगी। पंडाल बना रहे कारीगर विमल कुमार ने बताया कि जखराज स्थान मोड़ से शहर के स्टेशन चौक तक सड़क के दोनों ओर लाइटिंग का पुख्ता इंतजाम रहेगा। जयपुर के काली मंदिर जैसा बन रहे पंडाल पर करीब 9 लाख रुपए खर्च होने का अनुमान आयोजकों ने लगाया है।

सुरक्षा के लिए सीसीटीवी भी :

दुर्गा पूजा के दौरान मां के दर्शन को पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए पंडाल में सीसीटीवी कैमरे लगाये जाएंगे। इस बार पंडाल के बगल में श्रद्धालुओं की सहूलियत के लिए पूजन सामग्रियों के स्टॉल भी लगाये जाएंगे। पंडाल के निकट कोरोना संक्रमण को देखते हुए मास्क एवं सेनेटाइजर का प्रबंध किया जाएगा।

1985 से स्थापित हो रही प्रतिमा:

सर्वप्रथम वर्ष 1985 में इन्दाय मोहल्ले की स्व. मुनकी देवी ने खुले स्थान पर मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित की थी। इसके बाद लोगों के सहयोग से यहां दुर्गा प्रतिमा हर साल स्थापित की जा रही है। इंदाय में एक दुर्गा मंदिर भी बनवाया गया है। यह आस्था का केन्द्र बना हुआ है। पूजा कमेटी के लोगों ने बताया कि नवमी एवं दसवीं को दर्शन पूजन के लिए काफी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं।

पूजा के कमेटी के अध्यक्ष बोले :

दशहरा मेला में मां दुर्गा के दर्शन को आने वाले श्रद्धालुओं के लिए बेहतर इंतजाम किया जा रहा है। मेला के दौरान सुरक्षा पर विशेष फोकन किया जा रहा है। पंडाल को आकर्षक लुक देने का प्रयास हो रहा है। कोलकाता से कारीगर बुलाये गये हैं। मां की मोहनी सूरत देख भक्तजन अह्लादित होंगे।

ललन कुमार, अध्यक्ष, दुर्गा पूजा समिति, इन्दाय

संबंधित खबरें