ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार बिहारशरीफगर्मी की मार : शेखपुरा के 10 स्कूलों के 21 से अधिक बच्चे हुए बेहोश

गर्मी की मार : शेखपुरा के 10 स्कूलों के 21 से अधिक बच्चे हुए बेहोश

गर्मी की मार : शेखपुरा के 10 स्कूलों के 21 से अधिक बच्चे हुए बेहोशगर्मी की मार : शेखपुरा के 10 स्कूलों के 21 से अधिक बच्चे हुए बेहोशगर्मी की मार : शेखपुरा के 10 स्कूलों के 21 से अधिक बच्चे हुए...

गर्मी की मार : शेखपुरा के 10 स्कूलों के 21 से अधिक बच्चे हुए बेहोश
हिन्दुस्तान टीम,बिहारशरीफWed, 29 May 2024 09:45 PM
ऐप पर पढ़ें

गर्मी की मार : शेखपुरा के 10 स्कूलों के 21 से अधिक बच्चे हुए बेहोश
कुछ का निजी तो 12 बच्चों का सदर अस्पताल में कराया गया इलाज

3 स्कूलों के 3 शिक्षक भी गर्मी के कारण हो गये बेहोश

फोटो

29 शेखपुरा 01 -शेखपुरा सदर अस्पताल में बुधवार को गर्मी के कारण बीमार हुए बच्चे इलाजरत।

शेखपुरा, हिन्दुस्तान संवाददाता।

देह को झुलसाने वाली गर्मी और भारी उमस के बावजूद सरकारी स्कूलों को खुला रखने का फरमान बच्चों के लिए जानलेवा साबित हो रहा है। बुधवार को एक-दो नहीं, जिले के 10 स्कूलों के 21 से अधिक बच्चे गर्मी के कारण बेहोश हो गये। इतना ही नहीं तीन स्कूलों के शिक्षक की भी गर्मी की बजह से तबीयत बिगड़ गयी और वे बेहोश हो गये। कुछ बच्चों को निजी क्लीनिक तो 12 बच्चों को सदर अस्पताल में इलाज कराया जा रहा है। जबकि, चेहरे पर पानी का छिंटा मारने के शेष बच्चे होश में आये तो परिजन उन्हें घर लेकर गये हैं। इधर, गर्मी के कारण बच्चों की तबीयत बिगड़ने से नाराज अरियरी प्रखंड के मनकौल गांव के ग्रामीण सड़क पर उतर आये। शेखपुरा - ससबहना रोड को आधे घंटे तक जाम रखा। स्कूल बंद करने की मांग की।

गर्मी के कारण बच्चों के बीमार होने का सिलसिला की शुरुआत अरियरी प्रखंड के मनकौल गांव के मिडिल स्कूल से हुई। इसके बाद कई स्कूलों से बच्चों के बेहोश होने की खबर आने लगी। इसकी सूचना शिक्षा विभाग के अधिकारियों के पास पहुंची तो अफरा-तफरी मच गया। मनकौल गांव के अनिल महतो, दिनेश कुमार, उमेश प्रसाद आदि ने कहा कि बच्चों के बेहोश होने की जानकारी मिलते ही ग्रामीण स्कूल की ओर दौड़े। कुछ बच्चों को चेहरे पर पानी दिया गया तो वे होश में आ गये। जबकि, आठवीं कक्षा की रागिनी और स्नेहा कुमारी को गांव के ही निजी क्लीनिक में भर्ती कराया गया है। वहीं, गम्भीर स्थिति में आठवीं कक्षा की सोनाली, अंजलि, जूली, शिवानी, पिंकी और पाचवीं कक्षा की पिंकी कुमारी को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

इधर, शहर के जमालपुर मिडिल स्कूल में भी आधा दर्जन बच्चों के बेहोश होने पर इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसके अलावा तीन शिक्षक भी गर्मी की चपेट में आकर बेहोश गये हैं। इनमें हुसैनाबाद मिडिल स्कूल की वीणा कुमारी, चोरबर मिडिल स्कूल के असुदल्लाह बारी एवं सिरारी जनता हाई स्कूल के शिक्षक शामिल हैं। इतना ही नहीं सिरारी जनता हाई स्कूल के चार बच्चे गर्मी की चपेट आकर बीमार हो गये हैं। इसके अलावा भदौसी मिडिल स्कूल में तीन बच्चे, बेलछी बेलदारिया मिडिल स्कूल, गगौर बिंद टोला मिडिल स्कूल, हुसैनाबाद मिडिल स्कूल, कन्हौली प्राइमरी स्कूल, नीमी मिडिल स्कूल, चरुआवा मिडिल स्कूल और भदौस मिडिल स्कूल में बच्चों के बेहोश होने की सूचना मिली है।

स्कूल बंद करने के लिए सड़क जाम:

बच्चों के बेहोश होने से नाराज मनकौल के ग्रामीण सड़क पर उतर आये। गाड़ियों की आवाजाही ठप कर गर्मी को देखते हुए स्कूल बंद करने की मांग की। शिक्षा विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। करीब आधे घण्टे तक शेखपुरा-ससबहना रोड में वाहनों का आवागमन ठप रहा। बाद में स्कूल के एचएम और शिक्षकों द्वारा इस संबंध में विभाग के वरीय अधिकारियों से मंत्रणा करने का आश्वाशन दिया तो लोग शांत हुए। वहीं, कई शिक्षक संघ के नेताओ ने भीषण गर्मी में स्कूल को खुला रखने के राज्य सरकार के फैसले की कड़ी निंदा की है।

बच्चों का हाल-चाल जानने अस्पताल पहुंचे डीईओ:

डीईओ ओमप्रकाश सिंह ने कहा कि बच्चों के बेहोश होने की सूचना मिलने पर संबंधित प्रखंड के बीईओ और बीपीआरओ को स्कूलों में भेजा गया है। इतना ही नहीं सदर अस्पताल पहुंचकर डीईओ ने खुद बीमार बच्चों का हाल-चाल जाना। उन्होंने कहा कि स्कूलों को बंद करने की मांग कई शिक्षक संगठनों द्वारा की गयी है। इसका फैसला सरकार कर सकती है।

खाली पेट बच्चों को न भेजें स्कूल:

डीईओ ने अभिभावकों से बच्चों को स्कूल खाली पेट नहीं भेजने की अपील की है। साथ ही सभी एचएम को स्कूलों में पानी की पुख्ता व्यवस्था और हवा के लिए कमरों में पंखे लगाने को कहा है। इधर, बच्चों और शिक्षकों के बेहोश होने की घटना पर जिला का स्वास्थ्य महकमा ने एडवाइजरी जारी किया है। एसीएमओ डॉ अशोक कुमार सिंह ने कहा कि गर्मी में धूप में कभी भी खुले बदन नहीं जाएं। भरपेट भोजन और पानी पीयें।

स्कूलों का संचालन सुबह 6 से 10 बजे तक करने का अनुरोध

भीषण गर्मी में बच्चों और शिक्षकों के बेहोश होने की बढ़ती घटना पर डीएम जे प्रियदर्शनी ने संज्ञान लिया है। डीएम ने सुबह छह बजे से 10 बजे तक स्कूलों का संचालन करने के लिए शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक को पत्र लिखा है। डीपीआरओ सौरभ भारती ने बताया कि डीएम ने अपर मुख्य सचिव को पत्र भेजा है।

इन स्कूलों के बच्चें हुए बीमार :

1. मनकौल मिडिल स्कूल

2.जमालपुर मिडिल स्कूल

3. हुसैनाबाद मिडिल स्कूल

4. भदौसी मिडिल स्कूल

5.बेलछी बेलदारिया मिडिल स्कूल

6. गगौर बिंद टोला मिडिल स्कूल

7.कन्हौली प्राइमरी स्कूल

8. नीमी मिडिल स्कूल

9. चरुआवा मिडिल स्कूल

10. भदौस मिडिल स्कूल

इन स्कूलों के शिक्षक भी हुए बेहोश:

1. हुसैनाबाद मिडिल स्कूल

2. चोरबर मिडिल स्कूल

3. सिरारी जनता हाई स्कूल

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।