DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार बिहारशरीफइलेक्ट्रॉनिक गजटों पर अधिक समय बिताने से आंखें हो रहीं खराब

इलेक्ट्रॉनिक गजटों पर अधिक समय बिताने से आंखें हो रहीं खराब

हिन्दुस्तान टीम,बिहारशरीफNewswrap
Wed, 27 Oct 2021 09:51 PM
इलेक्ट्रॉनिक गजटों पर अधिक समय बिताने से आंखें हो रहीं खराब

इलेक्ट्रॉनिक गजटों पर अधिक समय बिताने से आंखें हो रहीं खराब

बच्चों की दिनचर्या पर अभिभावक रखें ख्याल

पावापुरी आदर्श मध्य विद्यालय में विश्व दृष्टि दिवस पर कार्यशाला, छात्रों की हुई आंख जांच

फोटो:

आई कैंप: पावापुरी आदर्श मध्य विद्यालय में विश्व दृष्टि दिवस पर कार्यशाला में शामिल डॉक्टर व छात्र छात्राएं।

पावापुरी। निज संवाददाता

मोबाइल, कम्प्युटर जैसे इलेक्ट्रॉनिक गजटों पर अधिक समय बिताने से आंखें खराब हो रही है। बच्चों की दिनचर्या पर अभिभावकों को विशेष ख्याल रखना चाहिए। आंखें बहुत ही संवेदनशील अंग है। कई बार थोड़ी सी लापरवाही आंखों के लिए घातक साबित होती है।

पावापुरी आदर्श मध्य विद्यालय में बुधवार को विश्व दृष्टि दिवस पर कार्यशाला में पावापुरी विम्स के डॉ. अजीत कुमार ने छात्रों को बताया कि शरीर में किसी भी प्रकार के बीमारी होने पर उसका प्रभाव आंखों पर पड़ता है। आंखें अनमोल उपहार है। इसकी सही से देखभाल है। आहार में फल तथा सब्जियों को प्रचुर मात्रा में शामिल करें। ताकि पर्याप्त विटामिन ए मिल सके। यह आंखों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक पोषक तत्व है। दिनचर्या में व्यायाम को भी शामिल करें। अगर आप किसी भी इलेक्ट्रॉनिक गजटों पर लगातार काम कर रहे हैं, तो थोड़ी थोड़ी देर पर आंखों को आराम जरूर दें।

डॉ. अमित राजन ने लोगों से आंखों में किसी तरह की परेशानी होने पर इसकी तुरंत जांच कराने की सलाह दी। वर्ष 2021-22 में विश्व दृष्टि दिवस के विषय लव योर आई पर जानकारी देते हुए कहा कि व्यक्ति को प्रतिदिन सुबह उठकर एवं रात को सोते समय आंख एवं उसके चारों ओर त्वचा को साफ पानी से धोना चाहिए। चेहरे को पोंछने के लिए साफ और अपना अलग तौलिया इस्तेमाल करें। धूप और तेज रोशनी से आंखों को बचायें। इसमें दर्जनों लोगों के आंखों की जांच की गयी। मौके पर डॉ. फरमूद आलम इंटर्न संजीत कुमार सिंह, पुष्पेंद्र कुमार, प्रेम कुमार मेहता, रवि रंजन, नीतीश कुमार, रबित कुमार, रौशन कुमार, विजय कुमार व अन्य मौजूद थे।

आंख स्वस्थ रखने के टिप्स:

पुस्तक को आंखों से डेढ़ फीट की दूरी पर रखें। चलती बस में, लेटे हुए, बहुत कम प्रकाश में कभी न पढ़ें। विटामिन ए युक्त भोज्य पदार्थ जैसे- पालक, गाजर, पपीता, आम, दूध, मछली एवं अंडे का सेवन करें। आंखों का इलाज स्वयं न करें। नीम-हकीमों के चक्कर में कभी न पड़ें। 40 साल की उम्र के बाद आंखों की नियमित जांच कराएं।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें