DA Image
Sunday, November 28, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार बिहारशरीफशहर निकाय : गठन के 6 माह बाद भी स्थायती ऑफिस नहीं

शहर निकाय : गठन के 6 माह बाद भी स्थायती ऑफिस नहीं

हिन्दुस्तान टीम,बिहारशरीफNewswrap
Sun, 17 Oct 2021 09:11 PM
शहर निकाय : गठन के 6 माह बाद भी स्थायती ऑफिस नहीं

शहर निकाय : गठन के 6 माह बाद भी स्थायती ऑफिस नहीं

कागज पर चल रहा नये नगर निकाय, कार्यालय न रहने से ही हो रही फजीहत

जिले में 10 नये नगर निकायों का किया गया है गठन

फोटो:

निगम : नगर निगम का प्रशासनिक भवन।

बिहारशरीफ। निज प्रतिनिधि

कहने को तो 10 नये निकायों का गठन नालंदा में हुआ है। नगर निगम का भी क्षेत्र विस्तार हुआ है। लेकिन, छह माह से ये सिर्फ कागजों पर ही संचालित हैं। धरातल पर विधिपूर्वक अस्तित्व में नहीं आये हैं। और तो और, नगर निगम के विस्तारित क्षेत्र अब भी वैधानिक रूप से नगर निगम का हिस्सा नहीं बन पाये हैं। यही कारण है कि 12 गांवों में नगर निगम द्वारा बुनियादी सुविधाएं जैसे सफाई, नाली-गली का सर्वे, डोर-टू डोर कचरा उठाव जैसे कार्यों की शुरुआत नहीं की गयी।

इन क्षेत्रों की 60 हजार आबादी को कल्याणकारी योजनाओं के लाभ से वंचित रहना पड़ रहा है। नगर आयुक्त अंशुल अग्रवाल का कहना है कि विस्तार क्षेत्र के लिए गजट प्रकाशित हुआ था। लेकिन, निगम को किसी तरह का आदेश नहीं आया है। वार्ड गठन जैसे कार्य होने के बाद सब सुचारू हो सकता है। वार्ड गठन का कार्य भी जिला स्तर द्वारा ही होता है।

निकाय बनने के बाद रोक दी गयीं योजनाएं:

निकाय का हिस्सा बनने के बाद से आवास योजना, मनरेगा के कार्यों को रोक दिया गया है। मनरेगा व ग्रामीण कार्य विभाग, पथ मरम्मत का कार्य भी रोक दिया गया है। जन्म व मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने के लिए इन क्षेत्रों के लोगों को परेशानी हो रहा है। प्रखंड यह कहकर पल्ला झाड़ रहा है कि यह काम निकाय से होगा। हकीकत यह है कि नगर निकाय का कार्यालय ही अस्तित्व में नहीं आया है। नगर विकास विभाग के आदेश में बरसात को सफाई कराने का फरमान जारी किया गया था। नजदीकी निकायों के अधिकारियों को इसके लिए प्रभारी बनाया गया था। आदेश के आलोक में एक-दो बार सफाई की करवाकर उक्त क्षेत्र के अधिकारी अपने कर्तव्यों की इतिश्री कर ली है।

इन गांवों को नगर निगम में किया गया है शामिल:

नगर निगम बिहारशरीफ का विस्तार व नये निकाय गठन के बाद गांवों व पंचायतों का भूगोल व नक्शा बदल गया है। नगर निगम का विस्तारित क्षेत्र में बबूरबन्ना, ईमादपुर, पचासा, राणाबिगहा, कोसुक, तकियापर, रोजबदरेआलम, तकियाकला, कल्याणपुर, चक-रसलपुर, जहांगीरपुरा, मघड़ा को शामिल कर लिया गया है।

इन नगर निकायों का किया गया गठन:

हरनौत, सरमेरा, अस्थावां, पावापुरी, नालंदा, एकंगरसराय, गिरियक, रहुई, परवलपुर व चंडी को नये नगर निकाय बनाये गये हैं तो राजगीर नगर पंचायत को उत्क्रमित कर नगर परिषद का दर्जा दिया गया है।

पूर्व के नगर निकाय:

बिहारशरीफ- नगर निगम। हिलसा-नगर परिषद। राजगीर नगर पंचायत(अब नगर परिषद)। सिलाव नगर पंचायत। इस्लामपुर नगर पंचायत।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें