ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार बिहारशरीफपिछड़े-अतिपिछड़े व दलित के विकास में बाधक है भाजपा-राजीव

पिछड़े-अतिपिछड़े व दलित के विकास में बाधक है भाजपा-राजीव

पिछड़े-अतिपिछड़े व दलित के विकास में बाधक है भाजपा-राजीवपिछड़े-अतिपिछड़े व दलित के विकास में बाधक है भाजपा-राजीवपिछड़े-अतिपिछड़े व दलित के विकास में बाधक है भाजपा-राजीवपिछड़े-अतिपिछड़े व दलित के...

पिछड़े-अतिपिछड़े व दलित के विकास में बाधक है भाजपा-राजीव
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,बिहारशरीफSat, 21 Jan 2023 10:30 PM
ऐप पर पढ़ें

पूर्व विधायक ने प्रेस बयान जारी कर भाजपा पर साधा निशाना

फोटो:

राजीव-पूर्व विधायक राजीव रंजन। (फाइल फोटो)

बिहारशरीफ, हिन्दुस्तान प्रतिनिधि।

इस्लामपुर के पूर्व विधायक, जदयू नेता राजीव रंजन ने जातीय गणना पर रोक लगाने की याचिकाओं को खारिज किये जाने के निर्णय का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने पिछड़े-अतिपिछड़े व दलितों के विकास के रास्ते को साफ कर दिया है। इस निर्णय से भाजपा बेनकाब हो गयी है। दरअसल, भाजपा इन वर्गों के विकास में बाधक है। जातीय गणना रोकने के उसके मंसूबे पूरी तरह से ध्वस्त हो गये हैं।

उन्होंने कहा कि इन वर्गों के विकास के लिए उनकी वास्तविक संख्या जानना जरुरी है। भाजपा लगातार इसमें अड़ंगा लगा रही है। इसके नेता कभी अव्यवहारिक बताते हैं कभी इसे धर्म से जोड़ देते हैं। विकास के मामले में चुप्पी साध जाते हैं। देश मे संसाधन सीमित हैं। ऐसे में सामाजिक व आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को आगे बढ़ाने के लिए विशेष योजनाएं चलानी जरुरी है। देश के विकास के लिए यह जरुरी है कि योजनाओं का लाभ समाज के सभी लोगों तक पहुंचे।

श्री रंजन ने कहा कि भाजपा के कुछ नेता चाहते ही नहीं कि उनकी पार्टी में पिछड़े-अतिपिछड़े या दलित समाज का कोई नेता आगे बढ़े। यही वजह है कि इतने मंच-मोर्चे और कार्यकर्ता होने के बावजूद पार्टी के पास आज भी कोई ठोस दलित-पिछड़ा चेहरा नहीं है। उनके नाम पर राजनीतिक रोटियां सेंकने वाले नेता आज भी पार्टी में जमे हुए हैं. हालात यह है कि पिछड़ों के नाम पर सबसे ज्यादा सत्ता सुख भोगने वाले इनके सबसे वरिष्ठ नेता भी पिछड़े समाज से नहीं आते हैं। भाजपा पिछड़ों के विकास में बाधक बनना छोड़ दे, नहीं तो जनता उन्हें एक-एक सीट के लिए तरसा देगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें