ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार बिहारशरीफकृषि यांत्रिकीकरण : इंतजार खत्म, आज निकलेगी लॉटरी

कृषि यांत्रिकीकरण : इंतजार खत्म, आज निकलेगी लॉटरी

कृषि यांत्रिकीकरण : इंतजार खत्म, आज निकलेगी लॉटरीकृषि यांत्रिकीकरण : इंतजार खत्म, आज निकलेगी लॉटरीकृषि यांत्रिकीकरण : इंतजार खत्म, आज निकलेगी लॉटरीकृषि यांत्रिकीकरण : इंतजार खत्म, आज निकलेगी...

कृषि यांत्रिकीकरण : इंतजार खत्म, आज निकलेगी लॉटरी
default image
हिन्दुस्तान टीम,बिहारशरीफThu, 20 Jun 2024 10:30 PM
ऐप पर पढ़ें

कृषि यांत्रिकीकरण : इंतजार खत्म, आज निकलेगी लॉटरी
चयनित किसानों को मिलेगा परमिट, आएं हैं 1460 आवेदन

कृषि यंत्रों के खरीद पर 40 से 80 फीसद तक मिलेगी सब्सिडी

फोटो

कृषि : जिला कृषि कार्यालय, जहां ऑनलाइन निकलेगी लॉटरी।

बिहारशरीफ, कार्यालय प्रतिनिधि।

अनुदान पर कृषि यंत्र लेने वाले किसानों का इंताजर खत्म हुआ। 21 जून यानी शुक्रवार को जिला कृषि कार्यालय में ऑनलाइन लॉटरी निकाली जाएगी। उसके बाद जिले के चयनित किसानों को यंत्र खरीदने के लिए परमिट मुहैया कराया जाएगा। अलग-अलग यंत्रों पर 40 से 80 फीसद तक अनुदान मिलेगा। खास यह भी लोकल निर्माताओं से यंत्र लेने पर 10 फीसद अतिरिक्त छूट दी जाएगी।

इसबार अनुदान पर कृषि यंत्र खरीदने के लिए शुरुआत में पांच अप्रैल से पांच मई तक ऑनलाइन आवेदन लिये गये थे। बाद में कुछ दिन के लिए तिथि विस्तारित भी की गयी थी। लेकिन, लोकसभा चुनाव के कारण आचार संहिता लागू हो जाने से किसानों के चयन की प्रक्रिया अटक गयी थी। किसान परमिट के इंतजार में बैठे थें। अब स्थितियां सामान्य हुई है तो लॉटरी की तिथि जारी कर दी गयी है। जिले के 1558 किसानों ने आवेदन दिया है। लेकिन, त्रुटियां रहने के कारण 1460 आवेदन ही फाइनल तौर पर पोर्टल पर सबमिट हुए हैं। लॉटरी के लिए राज्य मुख्यालय से रैंडमाइजेशन सिस्टम लागू किया गया है। ताकि, किसी तरह की गड़बड़ी की गुंजाइश न रहे। लॉटरी निकालते समय जिला कृषि कार्यालय में विभाग के जिला से लेकर प्रखंडस्तरीय पदाधिकारी मौजूद होंगे। साथ ही डीएम के प्रतिनिधि के तौर पर अपर समाहर्ता भी उपस्थित रहेंगे।

यंत्र खरीदने के लिए 15 दिनों की मोहलत:

कृषि अभियंत्रण के सहायक निदेशक अजय कुमार बताते हैं कि लॉटरी के आधार पर जिन किसानों का चयन होगा,उन्हें 24 घंटे में यंत्र खरीदने के लिए परमिट मुहैया करा दिया जाएगा। शर्त यह कि हर हाल में 15 दिनों में यंत्र खरीद लेना होगा। अगर ऐसा नहीं करते हैं तो परमिट को रद्द कर प्रतीक्षा सूची में रहे किसानों को मौका मिलेगा।

यंत्रों को चार कैटेगरी में बांटकर लाभ:

यंत्रों को चार कैटेगरी में बांटा गया है। फसल प्रबंधन के यंत्रों पर 57. 12 लाख, बुआई करने वाले यंत्रों पर 30.85 लाख, हार्वेस्टिंग, थ्रेसरिंग व अन्य यंत्रों पर 82.26 लाख तथा पोस्ट हार्वेस्टिंग के यंत्रों पर 30.85 लाख खर्च करने का लक्ष्य रखा गया है। यानी कुल 201.08 करोड़ के यंत्र किसानों को मुहैया कराये जाने हैं। साथ ही 80 फीसद अनुदान पर किसानों के बीच 1150 मैन्यूअल किट बांटने का लक्ष्य रखा गया है।

क्या कहते हैं अधिकारी

कृषि यांत्रिकीरण योजना के लिए प्राप्त आवेदनों का सत्यापन कर लिया गया है। शुक्रवार को लॉटरी के माध्यम से किसानों का चयन किया जाएगा। उसके पर यंत्र खरीदने के लिए परमिट जारी होगा।

महेन्द्र प्रताप सिंह, डीएओ

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।