DA Image
Monday, November 29, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार बिहारशरीफघाटकुसुम्भा की 5 तो शेखपुरा की 2 पंचायतों के किसानों को ही मिलेगा मुआवजा

घाटकुसुम्भा की 5 तो शेखपुरा की 2 पंचायतों के किसानों को ही मिलेगा मुआवजा

हिन्दुस्तान टीम,बिहारशरीफNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 09:30 PM
घाटकुसुम्भा की 5 तो शेखपुरा की 2 पंचायतों के किसानों को ही मिलेगा मुआवजा

घाटकुसुम्भा की 5 तो शेखपुरा की 2 पंचायतों के किसानों को ही मिलेगा मुआवजा

अबतक 9 सौ किसानों ने दिया आवेदन, 20 तक करना है ऑनलाइन आवेदन

आवेदनों की स्वीकृति के बाद भी यास तूफान से हुई क्षति का नहीं मिला अनुदान

फोटो

14 शेखपुरा 01 - जिला का कृषि कार्यालय, जहां किसानों से लिया जा रहा ऑनलाइन आवेदन।

शेखपुरा। हिन्दुस्तान संवाददाता

घाटकुसुम्भा प्रखंड की सभी पंचायत और सदर प्रखंड की महसार व पुरैना पंचायत के किसानों के लिए खुशखबरी है। यहां के किसानों को फसल की क्षति का मुआवजा दिया जाएगा।

जिला कृषि पदाधिकारी शिवदत सिंहा ने बताया कि अक्टूबर माह के पहले सप्ताह में हुई भारी बारिश से घाटकुसुम्भा और सदर प्रखंड की महसार और पुरैना पंचायतों में धान की फसलों का व्यापक नुकसान हुआ था। मुआवजा के लिए किसानों से ऑनलाइन आवेदन लिये जा रहे हैं। अबतक करीब नौ सौ किसानों ने आवेदन दिया है। 20 नवंबर तक आवेदन लिये जाएंगे। आवेदनों की जांच और भौतिक सत्यापन कर मुआवजा दिया जाएगा।

यास तूफान का नहीं मिला मुआवजा

मई माह में आये यास तूफान में क्षतिग्रस्त हुई फसलों के एवज में जिल के किसानों को अबतक मुआवजा नहीं मिला है। जबकि, पूरे बिहार के किसानों को मुआवजा दिया जा चुका है। डीएओ ने बताया कि यास तूफान के लिए कुल 7794 किसानों के आवेदनों को स्वीकृत कर सरकार को भेज दिया गया है। किस कारण से अबतयक मुआवजा का रुपया नहीं मिला है, इसकी जानकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि यास तूफान में जिला में करीब छह सौ हेक्टेयर में लगी मूंग, मक्का और सब्जी की फसलों का नुकसान हुआ था।

मुआवजा नहीं देने का मामला गुंजेगा विधानसभा में:

जिला के किसानों को मुआवजा नहीं देने का मामला शीतकालीन सत्र में विधानसभा में भी गुंजेगा। राजद विधायक विजय सम्राट ने कहा कि जिला के किसानों के साथ भेदभाव नहीं होने देंगे। विधानसभा में इस मामले को प्रमुखता से उठाया जाएगा। विधायक ने कहा कि यास तूफान का मुआवजा पूरे बिहार के किसानों को मिल चुका है। ऐसे में शेखपुरा के किसानों के साथ भेदभाव करना दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि डीएओ द्वारा सिर्फ घाटकुसुम्भा और सदर प्रखंड की दो पंचायतों में ही धान की फसल की क्षति की रिपोर्ट भेजना नाइंसाफी है। पूरे जिला में क्षति का आंकलन कर रिपोर्ट भेजी जानी चाहिए।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें