Three years later the returning baby to her husband - तीन साल बाद पति से जुदा बेबी लौटी ससुराल DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीन साल बाद पति से जुदा बेबी लौटी ससुराल

राष्ट्रीय लोक अदालत में आये फरियादी के चेहरे पर खुशी और सुकून थे। किसी के टूटे रिश्ते जुड़े तो कइयों को सालों बाद उन्हें क्षतिपूर्ति की राशि दिलायी गयी। जो भी कोर्ट में अपनी समस्या लेकर आये उन्हें तत्काल न्याय मिला। एडीजे वन की कोर्ट में दो साल से अलग रह रहे पति-पत्नी को मिलाया।

कोर्ट से ही पत्नी अपने पति के साथ चली गयी। शाहकुंड बेलथू के रहने वाले संजय कुमार और मिरजानहाट कलबगंज की रहनेवाली बेबी कुमारी की शादी 2014 में हुई थी। मगर शादी के कुछ साल बाद ही दोनों में अनबन हो गया था। दो साल से दोनों अलग रह रहे थे। 2017 में संजय कुमार ने बिदागरी का केस किया था। सुनवाई चल रही थी। शनिवर को राष्ट्रीय लोक अदालत में दंपती के बीच न सिर्फ सुलह कराया गया बल्कि कोर्ट से ही बेबी कुमारी अपनी बेटी रुही कुमारी के साथ पति के घर चली गयी। संजय कुमार और बेबी कुमारी ने कहा कि अब हमारे मन में किसी भी तरह का शक नहीं है। हमदोनों साथ-साथ रहकर अपनी बेटी रुही को बेहतर जिंदगी देंगे।

सुल्ताना बेगम को मिली 20 लाख रुपये की क्षतिपूर्ति: बरारी की सुल्ताना बेगम को श्रीराम जनरल इंश्योरेंस से 20 लाख रुपये की अंतरिम क्षतिपूर्ति सहित समझौता कराया गया। सुल्ताना बेगम ने बताया कि 29 जनवरी 18 को उनके पति सरजुद्दीन स्वास्थ्य विभाग की ड्यूटी के दौरान सड़क दुर्घटना के शिकार हुए थे। श्रीराम जनरल इंश्योरेंस पर 48, 14792 रुपए का क्लेम किय गया था। अलीगंज के रहने वाले गिरीश प्रसाद सिंह को छह साल बाद क्षतिपूर्ति की राशि राष्ट्रीय लोक अदालत में दिलाया गया। श्रीराम जनरल इंश्योरेंस ने चार लाख 10 हजार रुपये देने पर सहमति दी। गिरीश प्रसाद सिंह ने बताया कि 27 दिसंबर 2012 को उनकी बेटी प्रियंका कुमारी अपने भाई को लाने के लिए स्कूल जा रही थी। सड़क पार करने के दौरान ट्रक ने उसे कुचल दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Three years later the returning baby to her husband