The height of the boundary of the central prison is low the question on security - केंद्रीय कारा की चारदीवारी की ऊंचाई कम, सुरक्षा पर सवाल DA Image
12 दिसंबर, 2019|11:33|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केंद्रीय कारा की चारदीवारी की ऊंचाई कम, सुरक्षा पर सवाल

default image

तिलकामांझी से जेल रोड में सड़क की ऊंचाई बढ़ने से विशेष केंद्रीय कारा, शहीद जुब्बा सहनी केंद्रीय कारा और महिला मंडल कारा की चारदीवारी की ऊंचाई अपेक्षाकृत कम हो जाने से जेल की सुरक्षा को खतरा हो सकता है। इसको लेकर डीआईजी (सुरक्षा) ने भागलपुर के डीएम और एसएसपी को पत्र लिखा है।

दोनों केंद्रीय काराओं की चारदीवारी की ऊंचाई कम होने के पीछे चारदीवारी से सटे कूड़ा डंप किया जाना है। चारदीवारी से सटी दुकान लगाने और पेड़ की टहनियों के परिसर के अंदर तक चले जाने की वजह से सुरक्षा पर सवाल उठते रहे हैं। सुरक्षा ऑडिट में ये सारी बातें आने के बाद सतर्कता बढ़ी और कई पेड़ की टहनियों को कटवा दिया गया। दुकानदारों को वहां से हटाया गया। फिर से जेल की चारदीवारी के आस-पास दुकानें लगा ली गई हैं।

बंद हैं कई कुख्यात और नक्सली, जेलर को मिल चुकी है धमकी : विशेष केंद्रीय कारा और शहीद जुब्बा सहनी केंद्रीय कारा में राज्य के विभिन्न जिलों के कुख्यात अपराधी और नक्सली बंद हैं। कुख्यात जेलर को धमकी दे चुके हैं। महिला कैदियों के बीच मारपीट की घटना भी हो चुकी है।

कब, कौन सी घटना हुई

दो अप्रैल 2019 : विशेष केंद्रीय कारा के जेलर को किशनगंज से लाए गए कुख्यात अपराधी ने धमकी दी थी। उसका साथ अन्य कैदियों ने भी दिया था। इस घटना के बाद जेल प्रशासन ने तिलकामांझी थाने में लिखित शिकायत भी की थी।

19 अगस्त 2017 : विशेष केंद्रीय कारा के तृतीय खंड में बंद कुख्यात अपराधियों द्वारा जेल पदाधिकारियों को जान से मारने की धमकी दी गई थी। मोबाइल छिपा कर रखे जाने की सूचना पर जेल पदाधिकारियों द्वारा छापेमारी के बाद कुख्यात बंदियों ने जेल अधीक्षक और जेलर को एके 56 से उड़ाने की धमकी दे डाली थी।

जून 2017 : शहीद जुब्बा सहनी केंद्रीय कारा परिसर में स्थित महिला मंडल कारा में बंद महिला नक्सली बंदी भारती और अन्य बंदी रूपम पाठक के बची जमकर मारपीट हुई थी। इस घटना की जांच के लिए पटना से टीम भी आई थी।

दोनों सेंट्रल जेलों की सुरक्षा को लेकर इन बिंदुओं पर लिखा गया है : केंद्रीय काराओं की चारदीवारी पर लगे पुराने कंटीले तार को बदलना आवश्यक है , काराधीन बंदियों के न्यायालय में उपस्थापना के दौरान पर्याप्त सुरक्षा एवं सतर्कता जरूरी, कुख्यात अपराधी एवं हार्डकोर नक्सली बंदियों का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा न्यायालय में उपस्थापना हो, केंद्रीय काराओं के चारों तरफ समुचित प्रकाश की व्यवस्था की जाए, मुलाकातियों पर निगरानी की समुचित व्यवस्था की जरूरत है

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The height of the boundary of the central prison is low the question on security