DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रों को कौशल विकास का प्रयास करना चाहिए : कुलपति

तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय (टीएमबीयू) के प्रभारी कुलपति प्रो. एलसी साहा ने गुरुवार को कहा कि कौशल दो प्रकार के होते हैं। एक जन्मजात और दूसरा सीखा हुआ। व्यक्ति कौशल का प्रयोग अपने व्यक्तिगत व व्यवसायिक जीवन का प्रबंधन करने में करते हैं। छात्राओं को कौशल के विकास का प्रयास करना चाहिए।

वह एसएम कॉलेज के मनोवज्ञिान विभाग में त्रिदिवसीय कार्यशाला के उद्घाटन के अवसर पर बोल रहे थे। व्यक्तिगत व व्यवसायिक सफलता के लिए मानवीय संबंधों पर आधारित कार्यशाला में कुलसचिव एके सिंह ने सेना में मनोवज्ञिान की उपयोगिता पर जानकारी दी और मनोवृत्तियों व अंतवैयक्तिक संबंधों की उपयोगिता पर प्रकाश डाला। प्राचार्या डॉ. अर्चना ठाकुर ने व्यक्तिगत व व्यवसायिक जीवन में कौशलों के विकास पर जोर दिया। कार्यक्रम में डॉ. रुखशाना नशर, बीएचयू से रिसोर्स पर्सन डॉ. संदीप कुमार और तुषार सिंह सहित मंच संचालन करने के लिए ज्योतिमा पांडे और डॉ. मिथिलेश तिवारी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Students should try skill development VC