DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्मार्ट सिटी भागलपुर: ट्रिपल सी के दस्तावेज जब्त, निगरानी जांच की सिफारिश

officers of bhagalpur

कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के टेंडर की प्रक्रिया में गड़बड़ी की बात सामने आने और टेंडर को रद्द किये जाने के बाद डीएम प्रणव कुमार के निर्देश पर डीडीसी सुनील कुमार सोमवार को नगर निगम पहुंचे और कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से संबंधित सारा दस्तावेज सील कर ले गये।

उधर प्रमंडलीय आयुक्त सह स्मार्ट सिटी लिमिटेड के अध्यक्ष राजेश कुमार ने ट्रिपल सी में गड़बड़ी की जांच की सिफारिश सरकार को कर दी  है। उन्होंने वरीयता के तौर पर पहली वरियता निगरानी  और दूसरी वरीयता वित्त विभाग को दी है। अब सरकार को फैसला लेना है कि किससे जांच कराए।

डीडीसी ने सारा दस्तावेज ट्रेजरी में जमा कर दिया है। डीडीसी नगर निगम में दोपहर लगभग तीन बजे पहुंचे थे, रात लगभग नौ बजे वे वहां से निकले। दस्तावेज को बक्से में बंद गाड़ी में रख वे निकल गये।

संचिका, वित्तीय बिड और अन्य दस्तावेज ले गये
डीडीसी सोमवार को दोपहर में नगर आयुक्त के चैंबर में पहुंचे। उन्होंने ट्रिपल सी के टेंडर से संबंधित सभी दस्तावेज उपलब्ध कराने का आग्रह किया। नगर आयुक्त ने अपने अधीनस्थ कर्मचारी को बुलाया और टेंडर से संबंधित सभी दस्तावेज उपलब्ध कराने को कहा। टेंडर से संबंधित संचिकाएं नगर आयुक्त के टेबल पर भी उपलब्ध थी जो उन्होंने तुरंत डीडीसी को उपलब्ध करा दिया। टेंडर से संबंधित प्री बिड, तकनीकी बिड, वित्तीय बिड, संचिकाएं और आरएफपी से संबंधित दस्तावेज डीडीसी ने अपने कब्जे में ले लिया। डीडीसी वहां से जो भी दस्तावेज ले जा रहे थे उन दस्तावेजों की संचिका बनाकर नगर आयुक्त  और डीडीसी ने उसपर हस्ताक्षर भी किये। 

टेंडर रद्द करने के बाद नगर आयुक्त ने पीसी कर अपनी बात रखी थी
स्मार्ट सिटी के तहत कमांड एंड कंट्रोल सेंटर बड़ा प्रोजेक्ट है। स्मार्ट सिटी में इसका ही एक मात्र टेंडर फाइनल हुआ था। आइटीआई कंपनी को 202 करोड़ में टेंडर दिया गया। टेंडर फाइनल होने के बाद यह विवाद में पड़ गया और टेंडर की प्रक्रिया पर सवाल उठ गये। बताया गया कि ट्रिपल सी का टेंडर 130 करोड़ का ही होना था पर कंपनी को 202 करोड़ में टेंडर दिया गया जिसमें गड़बड़ी बताई गयी।

बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने टेंडर को रद्द कर दिया और इस टेंडर के अलावा अन्य टेंडर में लापरवाही बरतने के आरोप में सीएफओ पर जुर्माना लगाया और आइटी सेल के हेड हो हटाने का निर्देश जारी कर दिया। टेंडर रद्द होने और अधीनस्थों पर कार्रवाई के बाद नगर आयुक्त श्याम बिहारी मीणा ने रविवार को प्रेस वार्ता आयोजित कर अपनी बात रखी और टेंडर की प्रक्रिया को सही बताते हुए अधीनस्थों के खिलाफ कार्रवाई को गलत बताया था। 

पत्र मिला तो गये थे दस्तावेज जब्त कर लाने के लिए 
डीडीसी सुनील कुमार ने बताया कि उन्हें पत्र मिला था जिसमें नगर निगम जाकर ट्रिपल सी से संबंधित दस्तावेज लाने का निर्देश दिया गया था। डीएम प्रणव कुमार ने बताया कि उन्होंने डीडीसी को नगर निगम जाकर ट्रिपल से संबंधित सारा दस्तावेज जांच के लिए लाने को कहा था। दस्तावेज ट्रेजरी मे जमा किया गया है जिसकी जांच की जायेगी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Smart City Bhagalpur: seizure of Triple Sea documents and recommend for monitoring probe by Commissioner