DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रावणी मेला काउंटडाउन: सुल्तानगंज के खतरनाक घाट पर स्नान को मजबूर कांवरिये

shravani fair countdown  kanwariyas forcing to bath on dangerous ghat of sultanganj

भागलपुर के सुल्तानगंज में विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला शुरू होने में मात्र एक दिन शेष है। वहीं उत्तरवाहिनी गंगा नदी के जलस्तर में तेजी से वृद्धि होने लगी है। उद्घाटन पूर्व यहां आ रहे कांवरियों को गंगा स्नान के दौरान काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जलस्तर में हो रही वृद्धि को देख अनुमान लगाया जा रहा है कि जल्द ही मां गंगा पक्की सीढ़ी घाट पर दस्तक देकर कांवरियों को स्नान करने की सुविधा प्रदान करेगी।

सोमवार को मेला तैयारी को देख कांवरियों ने कहा कि बेहतर व्यवस्था का दावा किये जाने के बावजूद अबतक की व्यवस्था देख यह सिर्फ कामचलाऊ लग रहा है। भले ही प्रशासनिक स्तर से मेला का उद्घाटन मंगलवार को विधिवत होना है लेकिन यहां कांवरिया हित में कोई भी विभाग आजतक अपने कार्य को पूर्ण नहीं कर सके हैं। सभी आनन-फानन में अपने कार्यों को पूर्ण कराने में दिन-रात लगे हैं। जहाज घाट एवं सीढ़ी घाट खतरनाक बना हुआ है एवं घाट की सड़कों पर कीचड़ भी है।

जगह-जगह बन रहा टेंट व तोरणद्वार 
उद्घाटन के लिए आनेवाले उपमुख्यमंत्री के लिए कृष्णानंद स्टेडियम में हेलीपैड के कार्य को अंतिम रूप दिया जा रहा है। मंच बनाने का कार्य किया  जा रहा है। जगह-जगह प्रशासन द्वारा टेंट, तोरणद्वार बनाये जा रहे हैं लेकिन प्रखंड परिसर में कांवरियों के आराम के लिए बनने वाले शेड अबतक तैयार नहीं हो पाया है और ना ही रैन बसेरा जाने का रास्ता तैयार हो सका है। म्यूजिकल फव्वारा अबतक चालू नहीं किया जा सका है। पीएचईडी विभाग द्वारा जगह-जगह तेजी से कार्य किए जा रहे हैं तथा उसे अंतिम रूप देने में लगे हुए हैं। बिजली विभाग अपने कार्य को पूरा नहीं कर सका है। इससे शहर एवं ग्रामीण क्षेत्र की बिजली काटी जा रही है।
 
गंगा स्नान के दौरान फिसलन से कांवरिये हो रहे परेशान
दुकानदार अपनी दुकानें सजा चुके हैं। कांवरिया यहां काफी संख्या में पहुंचने लगे हैं। गंगा घाट पर मिले कांवरिया महाराजगंज के बाबूराम यादव, अनीता देवी ने बताया कि गंगा स्नान के दौरान फिसलन के कारण जल भरकर निकलने के दौरान गिर गए। पुन? वापस जल भरना पड़ा। उन्होंने बताया कि घाट खतरनाक है। चाहे इसका जो भी कारण रहा हो, घाट मजबूत होना चाहिए।
 
गंगा घाट के सामने की सड़क पर कीचड़ ही कीचड़
 
गंगा का पानी भी बढ़ रहा है जिसके कारण कांवरियों को परेशानी उठानी पड़ रही है। घाट पर पहुंचे कांवरियों ने कहा कि घाट से बाहर निकलने वाली कच्ची सड़कों पर कीचड़ है। इससे काफी परेशानी हो रही है। गंगा घाट के किनारे कुछ भी व्यवस्था नहीं दिख रहा है। ना तो महिला को कपड़ा बदलने के लिए जगह बनी है और न ही यूरिनल व शौचालक की व्यवस्था है। बिजली के पोल पर अभी काम ही हो रहे हैं। ऐसे में कांवरियों की भीड़ बढ़ने पर भक्त बाबा के भरोसे ही अपनी यात्रा पूरी करेंगे। 

कच्चा कांवरिया पथ पर भक्तों के पैर में चुभ रहे कंकड़
सुल्तानगंज गंगा घाट से जल लेकर निकलने वाले कांवरिये जब कच्चा कांवरिया पथ पर पैर रखते हैं तो उन्हें कष्ट महसूस होता है। कांवरिया पथ पर मिले कांवरिया सावित्री देवी, सरवन यादव आदि ने बताया कि कच्चा कांवरिया पथ पर चलने के दौरान छोटे-छोटे कंकड़ पैरों में चुभते हैं। बालू की जगह मिट्टी डाल दिया गया है। गंगा घाट सहित कच्चा कांवरिया पथ के किनारे कांवर रखने का स्टैंड भी अबतक नहीं बनाया गया है। कांवरिया दुकानदार द्वारा बनाए गए कांवर रखने के स्टैंड पर कांवर रखना पड़ता है। इसके एवज में दुकानदार से कुछ ना कुछ सामान की खरीद करनी पड़ती है। कांवरिया पथ पर लाइटिंग की व्यवस्था भी अबतक नहीं हो सकी है। 


फोटो : 15 एसटीजी 2 : सोमवार को सुल्तानगंज घाट पर गंगाजल संकल्प करने कांवरिये। 
15 एसटीजी 3, 4 एवं 5 : सोमवार को सुल्तानगंज घाट पर कीचड़ से कांवरियों को हुई परेशानी।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Shravani Fair countdown: kanwariyas Forcing to bath on dangerous Ghat of Sultanganj