DA Image
25 नवंबर, 2020|1:54|IST

अगली स्टोरी

भारतीय जीवन पद्धति से भगिनी निवेदिता ने किया शिक्षा का प्रचार

default image

विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी, शाखा-भागलपुर व श्रीरामकृष्ण पाठ्चक्र के संयुक्त तत्वावधान में रविवार को भगिनी निवेदिता जयंती के अवसर पर ‘भगिनी निवेदिता की भारत भक्ति विषय पर ऑनलाइन विचार-विमर्श का आयोजन किया गया। प्रो. अमिता मोइत्रा ने विषय प्रवेश करते हुए भगिनी निवेदिता को महान देशभक्त संतान की संज्ञा दी।मुख्य वक्ता स्वामी रामकृष्ण मिशन मुजफ्फरपुर के सचिव भावात्मानंद ने कहा कि भगिनी निवेदिता ने भारतीय जीवन पद्धति से शिक्षा का प्रचार प्रसार किया। साथ ही जब देश की स्वतंत्रता की बात आई तो उसमें भी उनकी भूमिका महत्वपूर्ण थी। वह देश के विभिन्न संगठन गरम व नरम दल दोनों जगहों से सामान्य रूप से जुड़ी थीं। उन्होंने कहा कि वह अपने को रामकृष्ण मां शारदा के उद्देश्यों के अनुरूप अपने जीवन को जीने का प्रयास करती रहीं। स्वामी विवेकानन्द की गुरु भक्ति और राष्ट्रभक्ति की तरह ही भगिनी निवेदिता भी पूर्ण रूप से गुरुपथ गामिनी थी। उनका आदर्श आज भारत की सभी युवतियों को ग्रहण करना चाहिए और उनकी तरह सेवा कार्य करें। कार्यक्रम का संचालन सारिका सरोज ने की। कार्यक्रम में विजय वर्मा, गुरुदेव पोद्दार, सत्येंद्र कुमार शर्मा, डॉ. कुमार सुनीत, दयाशंकर पाण्डेय, धर्मदास व मुकेश मौजूद थे।  

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Sage Nivedita promotes education through Indian way of life