DA Image
20 जनवरी, 2020|3:10|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेरोजगारी के खिलाफ धरना देने वाले बीएयू के दो छात्रों के निष्कासन पर बवाल, कुलपति आवास का घेराव

bhagalpur  ruckus over expulsion of two bau students who staged protest against unemployment

भागलपुर  के सबौर में स्थित बिहार कृषि विश्वविद्यालय(बीएयू सबौर) के दो छात्रों के निष्कासन के खिलाफ बीएयू  के लगभग पांच सौ छात्र-छात्राएं कुलपति आवास के मुख्य द्वार के समीप धरना पर बैठकर प्रदर्शन करने लगे। सभी छात्र अपने दो छात्रों के निष्कासन से आक्रोशित थे और उसके निष्कासन को रद्द करने की मांग बीएयू के कुलपति से कर रहे थे। छात्रों का आरोप है कि बेरोजगारी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे बीएयू के छात्रों पर दबाव देने के लिए धरने में शामिल दो छात्रों का निष्कासन किया गया है। 
 
छात्रों के उग्र आंदोलन को देखते हुए कुलपति ने पुलिस को सूचना दी। इसके बाद कुलपति आवास पर सबौर अंचलाधिकारी विक्रम भास्कर झा समेत लोदीपुर, सबौर, जीरोमाइल व बरारी थाना की पुलिस पहुंच गयी। सबौर थानाध्यक्ष अजय कुमार अजनबी व जीरोमाइल थानाध्यक्ष राजरतन कुलपति से बात करने पहुंचे एवं छात्रों को भी समझाने का प्रयास किया। पर छात्र एक ही जिद पर अड़े रहे कि दोनों छात्रों का निष्कासन पत्र रद्द किया जाए। बीएयू के छात्र-छात्राएं कुलपति के आवास के मुख्य गेट पर देर रात तक जमे थे।

छात्रों ने बताया कि पांच अगस्त को कृषि मंत्री, कृषि विश्वविद्यालय में एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। हमलोग अपनी मांगों को लेकर कृषि विश्वविद्यालय गेट के समीप शांतिपूर्ण धरना दे रहे थे। वर्तमान में भी स्नातक-स्नातकोत्तर बेरोजगार छात्र-छात्राएं एक सप्ताह से धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। वर्तमान में भी हमलोग धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। इसको तुड़वाने के लिए बीएयू के दो छात्र निखिल कुमार एवं घनश्याम ठाकुर को निष्कासित करने का पत्र दे दिया गया। हमलोग शांतिपूर्वक बीएयू के कुलपति से मांग करते हैं कि दोनों छात्रों के निष्कासन पत्र को रद्द किया जाए। हमलोग कुलपति आवास के मुख्य द्वार पर शांतिपूर्ण धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। 

वहीं दूसरी ओर छात्रों ने बीएयू के प्लानिंग डायरेक्टर डॉ. अरुण कुमार पर बिहारी छात्रों के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाया। छात्रों ने आरोप लगाया कि डॉ. अरुण कुमार हमलोगों को धमकी देते हैं कि एक साल के बाद जब हम बीएयू के कुलपति बनेंगे तो तुमलोगों को देख लेंगे। इस पर डॉ अरूण कुमार ने बताया कि ये आरोप निराधार हैं। देर रात डीएसपी विधि व्यवस्था नेशार अहमद शाह भी धरनास्थल पर पहुंच गए और छात्रों को समझाने की कोशिश की। सबौर सीओ भी लगातार छात्रों से बात करते लेकिन वे अपनी मांगों पर अड़े रहे। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ruckus over expulsion of two BAU students who staged protest against unemployment