DA Image
2 जनवरी, 2021|3:59|IST

अगली स्टोरी

भागलपुर में पक्षियों को रिंग पहनाने का काम शुरू

default image

भागलपुर, कार्यालय संवाददाता

भागलपुर के सुंदरवन में संचालित देश के चौथे बर्ड रिंगिंग स्टेशन के पक्षियों को रिंग पहनाने का काम शुरू कर दिया गया। गुरुवार रात जगतपुर पहुंची टीम ने झील में तैर रहे चार पक्षियों को जाल लगाकर पकड़ा। इनमें से दो मादा गिर्री (कॉटन पिग्मी गूज), एक प्रवासी पक्षी गिर्री (कॉमन कूट) व एक अन्य प्रवासी और संकटग्रस्त मादा पक्षी (कोइरा या मंजीठा) फेरूजिनस डक था। इन पक्षियों का पहले पंख, पैर व चोंच की लंबाई व वजन मापा गया। फिर इनके पैरों में एल्मुनियम का छल्ला पहनाकर उन्हें फिर से झील में छोड़ दिया गया। पक्षी वैज्ञानिकों ने यह भी जाना है कि पक्षी नर हैं या मादा, व्यस्क हैं या अव्यस्क व पंख इनके निकल रहे हैं या नहीं। बांबे नैचुरल हिस्ट्री सोसाइटी के सहायक निदेशक और वैज्ञानिक डॉ. सथिया सेलवम ने बताया कि रिंग के छल्ले में नंबर वाले कोड अंकित हैं। इस छल्ले के जरिये पता किया जा सकेगा कि जिस पक्षी को छल्ला पहनाया गया था, उसने कहां से कहां तक विचरण किया। इस मौके पर डीएफओ भागलपुर एस. सुधाकर, इंडियन बर्ड कंजर्वेशन नेटवर्क के स्टेट कोऑर्डिनेटर अरविंद मिश्रा, क्षेत्रीय मुख्य वन संरक्षक अभय कुमार, बीएनएचएच की वैज्ञानिक डॉ. निशा सिंह, डॉ. परवीन शेख, डॉ. तुहिना कट्टी, डॉ. सोहेल मदन, डॉ. सुब्रत देबता, शोधार्थी श्रद्धा सिन्हा आदि की मौजूदगी रही।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ringing of birds started in Bhagalpur