DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फरक्का बैराज तोड़ने और गंगा से गाद हटाने को लेकर मोदी की मंत्री ने किया खुलासा

फरक्का बराज तोड़ना विकल्प नहीं, करेंगी सीएम नीतीश से बात
फरक्का बराज तोड़ना विकल्प नहीं, करेंगी सीएम नीतीश से बात

फरक्का बराज को तोड़ने और गंगा नदी में जमा सिल्ट को हटाने की दिशा में उठाए जा रहे कदम को लेकर उमा भारती ने कही बड़ी बात। उन्होंने कहा कि फरक्का बराज को तोड़ने की दिशा में नहीं बल्कि जमा सिल्ट यानि गाद को हटाने की दिशा में मंत्रालय की ओर से रणनीति तैयार की जा रही है। आईआईटी इंजीनियर, पर्यावरण की टीम, गंगा के जानकार एक साथ मिलकर इस रणनीति पर काम कर रहे है।

केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा सिल्ट को लेकर उठाए गए सवाल का सम्मान करते हुए कहा कि फरक्का बराज तोड़ना विकल्प नहीं है। बल्कि डिसेल्टीनेशन कराने की दिशा में काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसके लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बातचीत भी करेगी। 

 

उन्होंने गंगा की अविरलता बनाने रखने के लिए गंगा के किनारे जैविक कृषि, पौधारोपण, गंगा के जलीय जीव का संरक्षण पर जोर दिया। साथ ही गंगा में बालू उड़ाही को लेकर सख्ती बरतते हुए कहा कि सरकार रणनीति बनाकर बालू उड़ाही का काम करें। जो भी लोग गलत तरीके से बालू उड़ाही में लगे हुए है। उनके खिलाफ केंद्र सरकारी कड़ी कार्रवाई करने जा रही है।
 

अजगैबीनाथ मंदिर स्थित गंगा घाट पर पहुंची उमा भारती
अजगैबीनाथ मंदिर स्थित गंगा घाट पर पहुंची उमा भारती


गुरूवार को उमा भारती नमामि गंगे के तहत गंगा निरीक्षण अभियान के तहत सुल्तानगंज सीढ़ी घाट के पास गंगा चौपाल में शामिल होने के लिए आयी थी। मुरारका कॉलेज में हेलीकॉफ्टर से उतरने के बाद 10.30 बजे के करीब वो गंगा की पूजा करने के लिए अजगैबीनाथ मंदिर स्थित गंगा घाट पर पहुंची।

गंगा की पूजा करने के बाद उमा भारती अजगैबीनाथ बाबा के दर्शन किए। पूजा-अर्चना की। इसके बाद सीढ़ी घाट पर गंगा चौपाल में शामिल हुई। चौपाल में सुश्री उमा भारती ने लोगों के सवालों का जवाब भी दिया। मौके पर डायरेक्टर जनरल राष्ट्रीय स्वास्थ्य गंगा मिशन के यूपी सिंह और उपविकास आयुक्त अमित कुमार भी मौजूद थे। कार्यक्रम के बाद वो मुंगेर के लिए रवाना हो गयी।

गंगा की जमीन का होगा जीएसआई सर्वे
गंगा की जमीन का होगा जीएसआई सर्वे


उमा भारती ने कहा कि गंगा के किनारे की जमीन की जीएसआई सर्वे कराकर बेवसाइट पर डाला जाएगा। इसके साथ ही हर जिले के डीएम और राज्य की सरकारों को यह निर्देश दिया जाएगा कि गंगा की जो भी जमीन है। उसे वापस किया जाए। अतिक्रमण है। तो उसे दूर किया जाए।  

सुल्तानगंज में लगेगा वाटर ट्रीटमेंट प्लांट 
केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा कि 20 करोड़ की लागत से सुल्तानगंज में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाया जाएगा। ताकि शहर का गंदा पानी साफ होकर ही गंगा में गिरे। उन्होंने कहा कि इसकी आधारशिला अक्टूबर माह तक रख दी जाएगी। साथ ही रिवर फ्रंट भी बनाया जाएगा। इसमें महिलाओं के लिए शौचालय से लेकर स्नानागार होगा। जो भी घाट पुराने या कमजोर होंगे उसकी मरम्मत की जाएगी। शमशान घाट को दुरुस्त किया जाएगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Modi minister uma bharti apprised of removal of farakka baraz and Gad from Ganga river