DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › भागलपुर › केरल से कटिहार पहुंचे दूसरे जिले के प्रवासी मजदूरों ने बस और भोजन के लिए किया हंगामा, लाठीचार्ज
भागलपुर

केरल से कटिहार पहुंचे दूसरे जिले के प्रवासी मजदूरों ने बस और भोजन के लिए किया हंगामा, लाठीचार्ज

कटिहार, एक संवाददाताPublished By: Sunil Abhimanyu
Thu, 04 Jun 2020 06:35 PM
केरल के कालीकट से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से कटिहार रेलवे स्टेशन पहुंचे प्रवासी मजदूरों पर लाठी भांजती पुलिस।
1 / 2केरल के कालीकट से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से कटिहार रेलवे स्टेशन पहुंचे प्रवासी मजदूरों पर लाठी भांजती पुलिस।
केरल के कालीकट से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से कटिहार रेलवे स्टेशन पहुंचे प्रवासी मजदूरों पर लाठी भांजती पुलिस।
2 / 2केरल के कालीकट से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से कटिहार रेलवे स्टेशन पहुंचे प्रवासी मजदूरों पर लाठी भांजती पुलिस।

केरल के कालीकट से श्रमिक स्पेशल ट्रेन से कटिहार रेलवे स्टेशन पहुंचे प्रवासी मजदूरों को प्रशासन ने दो घंटे तक न उसके घर जाने की व्यवस्था कराई और न ही खाने पीने का प्रबंध किया। उधर सफर में भी भूखे मजदूरों का आक्रोश भड़क उठा और वे रेलवे स्टेशन के पास स्थित जीआरपी चौक पर सड़क जाम कर दिया।

इस दौरान मजदूरों ने करीब 40 मिनट तक सरकार और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। सौ से ज्यादा की संख्या में प्रवासी मजदूरों के इस जाम के कारण से स्थानीय लोगों को आवागमन में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। दो घंटे तक स्थानीय प्रशासन का कोई भी अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचे। जाम की सूचना पर पहुंची पुलिस ने प्रवासी मजदूरों पर लाठीचार्ज कर जबरन रास्ता खुलवाया। इधर काफी देर के बाद बस उपलब्ध कराने की माइकिंग होने के बाद प्रवासी मजदूर अपने-अपने घर क़ी ओर रवाना हो गए। इसके बाद आवाजाही सामान्य हो पाई। प्रवासियों के लिए भोजन, पानी और उन्हें घर भेजने के लिए बस की व्यवस्था नहीं होने को लेकर कोई भी स्थानीय अधिकारियों ने कुछ भी बोलने से मना कर दिया।

 

बताया जाता है कि केरल के कालीकट से 1381 से अधिक प्रवासियों को लेकर ट्रेन करीब 3 घंटे लेट से कटिहार पहुंची थी। इस ट्रेन की सूचना रेल अधिकारियों को थी लेकिन जिला प्रशासन के अधिकारियों को नहीं दी गई थी। सुबह 7:00 बजे के करीब ट्रेन आने के बाद दो घंटे तक प्रवासियों को उनके घर भेजने की कोई सूचना नहीं दी गई। वहीं प्राइवेट बस वाले मनमाना किराये की मांग कर रहे थे। इससे गुस्साए सभी बेतिया, मुजफ्फरपुर समस्तीपुर, बेगूसराय आदि जिले के सैकड़ों प्रवासी मजदूर बस और भोजन पानी के शिकायत को लेकर जीआरपी चौक पर आ गए और बिहार सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे।  

इस क्रम में लोगों ने जमकर हंगामा किया और तालिंया बजाते हुए प्रदर्शन किया। हंगामा और सड़क जाम के कारण मिर्चाईबारी ओटी पारा न्यू  कॉलोनी, इमरजेंसी कॉलोनी, साहेब पारा, डीआरएम ऑफिस, शहीद चौक,  मंगल बाजार और रेलवे स्टेशन आदि जगहों की ओर आने जाने वाली गाड़ियों और लोगों की कतार लग गई, लोग परेशान हो उठे। वहीं कुछ बाइक सवार और ऑटो सवार लोगों ने जब प्रवासी मजदूरों को समझाने का प्रयास किया तो प्रवासी मजदूर उन पर टूट पड़े और लोगों के साथ हाथापाई करने लगे। इस दौरान स्टेशन के आस पास खड़े आरपीएफ पुलिस और अन्य पुलिसकर्मी मूकदर्शक बने रहे।

इस बीच नगर थाना और सहायक थाना के साथ-साथ ट्रैफिक पुलिस भी घटनास्थल पर पहुंची। हंगामा कर रहे लोगों को काफी समझाया- बुझाया लेकिन वह लोग नहीं माने। पुलिस को देखते ही प्रवासियों का आक्रोश और बढ़ गया और वे जमकर नारेबाजी करने लगे। इसके बाद पुलिस ने वहां लाठीचार्ज कर दिया। मजदूरों को खदेड़-खदेड़ कर पीटने लगी। इससे भीड़ तितर-बितर हो गई। इस बीच स्टेशन परिसर में मौजूद जिला प्रशासन के कुछ कर्मियों ने माइक से बेतिया, मोतिहारी और मुजफ्फरपुर के लिए बस के लगे होने की सूचना दी। इसके बाद हंगामा और जाम करने वाले प्रवासी मजदूर बस में चले गए। करीब 40 मिनट के हंगामे के बाद मामला शांत हो पाया और सड़क पर आवागमन सामान्य हो सका।

इस मामले में नगर थाना अध्यक्ष सह इंस्पेक्टर रंजन कुमार सिंह ने लाठीचार्ज से इनकार करते हुए कहा कि एक ऑटो चालक ने निजी लाठी से प्रवासी मजदूरों को पीटा था। पुलिस ने उसे मना किया और लोगों को समझा-बुझाकर हंगामा शांत करने में सफल रहे हालांकि प्रवासी मजदूरों ने  आरोप लगाया कि पुलिस ने हंगामे के दौरान उसपर लाठीचार्ज किया जिसमें कई प्रवासी मजदूरों को चोटें आईं।

इस आर्टिकल को शेयर करें
लाइव हिन्दुस्तान टेलीग्राम पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

सब्सक्राइब
अपडेट रहें हिंदुस्तान ऐप के साथ ऐप डाउनलोड करें

संबंधित खबरें