DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › भागलपुर › खेरैहिया के बेटे ने लेफ्टिनेंट बनकर गांव का नाम किया रौशन
भागलपुर

खेरैहिया के बेटे ने लेफ्टिनेंट बनकर गांव का नाम किया रौशन

हिन्दुस्तान टीम,भागलपुरPublished By: Newswrap
Thu, 16 Sep 2021 06:50 AM
खेरैहिया के बेटे ने लेफ्टिनेंट बनकर गांव का नाम किया रौशन

अकबरनगर। संवाददाता

थाना क्षेत्र के खेरैहिया गांव निवासी मुरारी कुमार सिंह के एकलौते बेटे अंशल कुमार ने मात्र 16 वर्ष की आयु में एनडीए की परीक्षा पास कर पुणे में अफसर बन गया। अंशल सोनवर्षा गोलीकांड में शहीद अर्जुन सिंह के परिवार से तालुकात रखते हैं। अपनी मेहनत से शहीद हुए अर्जुन सिंह, दादा, माता-पिता के सपने को साकार करके दिखाया है। अंशल के पिता भी आर्मी के जवान हैं।

अंशल ने मैट्रिक की परीक्षा सैनिक स्कूल बेंगलुरु से की। मैट्रिक करने के बाद ही उसकी रुचि अपने पिता की तरह डिफेंस में जाकर देश सेवा करने की थी। गांव में शिक्षा व्यवस्था का खस्ता हाल था। इसके बाद पिता अपनी पत्नी व दोनों बच्चों के साथ सात साल पूर्व बेंगलुरु चले गए। वहीं उन्होंने बेटे को सैनिक स्कूल में भर्ती कराया। साथ ही बेटी को मेडिकल कोचिंग भेज दी। जहां बहुत कम ही समय में बेटी सपना ने मेहनत कर मेडिकल की परीक्षा पास की। वहीं पुत्र अंशल ने डिफेंस परीक्षा पास कर लेफ्टिनेंट बनकर  अपने गांव का नाम रोशन किया। अफसर बनने पर विजय सिंह, चंदन, संबित, विवेकानंद सिंह, प्रियांक, शिशिर रंजन ने बधाई दी।

फोटो - खेरेहिया निवासी अंशल अपने माता पिता के साथ 

संबंधित खबरें