DA Image
20 जनवरी, 2021|10:05|IST

अगली स्टोरी

जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में अब नहीं होंगे सांस्कृतिक कार्यक्रम

default image

जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (जेएलएनएमसीएच ) में अब सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं होंगे। कॉलेज प्रशासन की ओर से आयोजित कार्यक्रम सादे समारोह में होंगे। सारे कार्यक्रम दिन में आयोजित किए जाएंगे। इसमें छात्रों की भागीदारी कम होगी। कॉलेज व अस्पताल परिसर में कार्यक्रमों को लेकर भीड़ नहीं लगने दी जाएगी। प्राचार्य डॉ. हेमंत कुमार सिन्हा ने बुधवार को बताया कि छात्रों के हॉस्टल आने-जाने पर नजर रखी जाएगी। गुरुवार को मेडिकल कॉलेज का स्थापना दिवस है। इस मौके पर भी दिन में सारे कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

दरअसल, शनिवार को मायागंज में हंगामा व पथराव की घटना में मेडिकल छात्रों पर हुई एफआईआर से कॉलेज व अस्पताल प्रशासन काफी सख्त हो गया है। एमबीबीएस कर रहे छात्र-छात्राओं सहित इंटर्न पर नकेल कसने के लिए रणनीति बनाकर काम किया जा रहा है ताकि आने वाले दिनों में इस तरह की घटनाएं दोबारा न हों। अस्पताल अधीक्षक डॉ. आरसी मंडल ने कहा कि मेडिकल कॉलेज व हॉस्टल में छात्र पढ़ाई पर अधिक ध्यान दें। सांस्कृतिक कार्यक्रमों का मकसद हंगामा करना नहीं है। एमबीबीएस छात्र अब क्लास खत्म होते ही सीधे हॉस्टल जाएंगे। इस बीच वे कहीं आ-जा नहीं सकते हैं। हॉस्टल में आने-जाने के समय की साप्ताहिक जांच होगी। बुधवार को इंटर्न छात्रा हॉस्टल में सुरक्षा को देखते हुए सीसीटीवी कैमरे लगाए गए। प्राचार्य और अधीक्षक संयुक्त रूप से सुरक्षा के सारे इंतजाम करने में जुटे हुए हैं।

इंटर्न छात्र मिले प्राचार्य से, अभिभावक भी मांग रहे माफी: एमबीबीएस और इंटर्न के छात्रों का एफआईआर में नाम आने से छात्र और उनके अभिभावक परेशान हैं। बुधवार को इंटर्न छात्रों ने प्राचार्य से मिलकर उन्हें बताया कि वे निर्दोष हैं, उन्हें फंसाया गया है। छात्र दिनभर कॉलेज परिसर में रहे। इधर, उनके अभिभावक फोन करके प्राचार्य से एक बार माफ कर देने की मांग कर रहे हैं। कह रहे हैं कि बच्चों का कॅरियर खराब हो जाएगा। प्राचार्य ने बताया कि मेरे हाथ में कुछ नहीं है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: Jawaharlal Nehru Medical College and Hospital will no longer have cultural programs