DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  भागलपुर  ›  तबादले के बाद खाली रह गए पुलिस पदाधिकारी के महत्वपूर्ण पद
भागलपुर

तबादले के बाद खाली रह गए पुलिस पदाधिकारी के महत्वपूर्ण पद

हिन्दुस्तान टीम,भागलपुरPublished By: Newswrap
Mon, 14 Jun 2021 04:31 AM
तबादले के बाद खाली रह गए पुलिस पदाधिकारी के महत्वपूर्ण पद

भागलपुर, वरीय संवाददाता

पुलिस पदाधिकारियों के तबादले के बाद खाली हुए पद पर नये पदाधिकारी की पदस्थापना नहीं हो सकी है। भागलपुर जैसे संवेदनशील जिले में सिटी एसपी और ट्रैफिक डीएसपी का पद पिछले साढ़े पांच महीने से खाली है। सिटी एसपी एसके सरोज का जनवरी में नवगछिया का एसपी बनाया गया, जबकि ट्रैफिक डीएसपी आरके झा पिछले साल 31 दिसंबर को रिटायर हो चुके हैं।

सिटी एसपी का पद महत्वपूर्ण है। सिटी एसपी के रहने से शहरी क्षेत्र में फिल्ड पुलिसिंग पर असर पड़ता है। इसके अलावा केस के निष्पादन कराने की भी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी उनके पास होती है। एसएसपी और सिटी एसपी के एक साथ होने से फिल्ड पुलिसिंग की जिम्मेदारी जहां सिटी एसपी के जिम्मे होती है, वहीं ऑफिस कार्य और जिम्मेदारियां एसएसपी बेहतर तरीके से निभा सकते हैं। कांडों के फरार आरोपियों की गिरफ्तारी, कई वजहों से लंबित केस का निष्पादन आदि के लिए सिटी एसपी की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। लॉ एंड ऑर्डर की समस्या उत्पन्न होने पर भी सिटी एसपी की भूमिका सामने आती है।

भागलपुर में जाम बड़ी समस्या, ट्रैफिक डीएसपी का होना जरूरी

शहर में जाम बड़ी समस्या है। ऐसे में ट्रैफिक डीएसपी का पद यहां बहुत जरूरी है। विक्रमशिला पुल पर जाम की बात हो या शहरी क्षेत्रों में ऐसी परेशानी, ट्रैफिक डीएसपी की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। लंबे समय तक मांग के बाद आरके झा को यहां ट्रैफिक डीएसपी बनाया गया था। उनके पद पर रहते ट्रैफिक में काफी सुधार हुआ था। आने वाले समय में जब स्कूल, कॉलेज खुलेंगे और पहले की तरह सबकुछ सामान्य होगा तो जाम की समस्या फिर से सामने आने की आशंका है।

ट्रैफिक के लिए अतिरिक्त पदाधिकारी और जवान की मांग की गयी थी

जाम की समस्या से निपटने के लिए शहर में अलग से ट्रैफिक थाना खोलने व वहां पुलिस पदाधिकारियों और जवानों के 300 से ज्यादा पद सृजित कर उनकी पदस्थापना को लेकर एसएसपी पुलिस मुख्यालय को लिख चुकी है। वर्तमान में शहर की ट्रैफिक व्यवस्था संभालने की जिम्मेदारी कुल 60 पुलिस पदाधिकारी और जवान के जिम्मे है, जिनमें कुछ होमगार्ड ही हैं। ऐसे में जाम लगने के बाद तुरंत उन जगहों पर पुलिस बल को भेजने में परेशानी हो रही है। विक्रमशिला पुल पर जाम लगने के बाद समस्या और बड़ी हो जाती है। पुल पर खराब हुए वाहनों को हटाने के लिए क्रेन की भी मांग पुलिस मुख्यालय से की गयी है पर अभी तक उसे मंजूरी नहीं मिल सकी है।

कोट

भागलपुर जैसे जिले में सिटी एसपी और ट्रैफिक डीएसपी का पद बहुत ही महत्वपूर्ण है। पिछले कई महीनों से ये दोनों ही पद खाली हैं। पुलिस मुख्यालय से इन दोनों ही पद पर पदाधिकारियों की पदस्थापना के लिए आग्रह किया गया है। उम्मीद है जल्दी ये पदाधिकारी मिल जायेंगे।

- सुजीत कुमार, डीआईजी

संबंधित खबरें