DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO: लाखों की आबादी पर कहर बनकर टूटी नदी, देखिए पूर्णिया से ग्राउंड रिपोर्ट

flood victim from purnia

13 अगस्त की वह डरावनी शाम, नेपाल से बंगाल की खाड़ी तक सफर करने वाली परमान नदी इसबार अपनी सीमाओं को तोड़कर लाखों आबादी पर कहर बनकर टूटी। पूर्णिया से ग्राउंड रिपोर्ट।

13 अगस्त की वह डरावनी शाम, नेपाल से बंगाल की खाड़ी तक सफर करने वाली परमान नदी इसबार अपनी सीमाओं को तोड़कर लाखों आबादी पर कहर बरपाने वाली है, यह किसी ने सोचा भी नहीं था। खाता हाट के माणिक चंद्र यादव ने तीन सालों की मेहनत और मजदूरी से पैसा बचाकर इस बार पक्का घर बनाने की सोची थी।

VIDEO: भीषण बाढ़ में NDRF टीम ने पीड़ितों को देवदूत की भांति बचाया

दहशरा में छत की ढलाई होनी थी पर अब सबकुछ परमान के साथ बहकर आई रेत के नीचे दफन हो गया है। माणिक कहते-कहते रो पड़ा कि अब यह अरमान कभी पूरा नहीं हो पाएगा। माणिक का आंगन और दरवाजा पूरी तरह नदी की मुख्य धारा में समा गया है। घर की नींव के नीचे से मिट्टी बह गयी है। मेहनत से जोड़ी गयी एक-एक ईंट इस बाढ़ में दरक गयी है।

इधर पड़ोस के बेरोजगार सुमित के घर का हाल भी कुछ ऐसा ही था। फूस टीन और टाट से बने घर और आंगन में नदी की तबाही के निशान साफ है। जहां बिस्तर हुआ करता था वहां अब नदी की धारा बहती है। घर के सदस्यों के लिए बने कमरे की दीवारों पर अब सिर्फ भगवान के चित्र लगे रह गए हैं। दीवार और दरवाजे नदी की गोद में समा गए है। आंगन में बेसुध बैठी विधवा उषा देवी कहने लगी- हो बाबू ऐहन बाढ़ और पाईन कहियो नैय दखलीयै रहियै... आब कै घर बनैयतै हो..... मालिको नए छै..।

VIDEO: तबाही के निशां बाकी, टापू पर जिंदगी बिताने को मजबूर बाढ़ पीड़ित

बांध टूटने के बाद पीपरपैंती के दर्जनों टोलों से पानी निकलने के बाद अब चारों ओर रेत ही रेत दिखाई दे रहा है। तबाही ऐसी कि खाता घाट पर 4 करोड़ की लागत से बन रहा आरसीसी पुल का पिलर पुल तैयार होने से पहले जबाब दे गया। यह पुल पूर्णिया के जलालगढ़ को अररिया के जोकीहाट से जोड़ता है।

VIDEO में देखिए बाढ़ पीड़ितों को कितनी मिली सरकारी राहत, एक रिपोर्ट

 
सुमित 13 अगस्त की शाम को यादकर अब भी सिहर उठता है। शाम को खाता हाट बाजार में खास चहल-पहल थी। पानी रफ्तार से बढ़ रहा था। लेकिन बाजार से घर लौटे माणिक चन्द्र यादव, सुमित कुमार सिंह को यह पता नहीं कि अगले कुछ घंटों के अंदर ही उसका घर परमान नदी की तेज धाराओं में समा जाएगा। सुमित खाता बाजार में ही कोचिंग चलाकर अपने परिवार की गाड़ी को खींचता है। उस दिन वह कोचिंग समाप्त करने के बाद बाजार में पानी घुसने की संभावना से डरकर घर आ गया। शाम 7 बजे तक आंगन में 6 इंच से एक फुट तक पानी भर गया था। मां उषा देवी जल्दी-जल्दी रात का खाना तैयार करने में लगी थी। तब तक पानी आंगन से घर के चौखट तक पहुंच गया। 

बिहार बाढ़:बांध टूटने से मुजफ्फरपुर-समस्तीपुर में NH से घुसा पानी

`खाना पूरी तरह पका भी नहीं रात में ही सभी लोगों ने सामान निकालना शुरू कर दिया। रात 10 बजे तक आंगन और दरबाजा लबालब भर गया । 14 अगस्त की सुबह पौ फटने से पहले खाता हाट से पीपरपैंती तक करीब 5 जगहों पर बांध कुछ ही घंटों के अंतराल में टूटता चला गया। जलालगढ़ प्रखंड के खाता हाट पीपरपैंती बायसी अनुमंडल के अमौर के इलाके में महानंदा और कनकई के साथ परमान नदी का कहर एक साथ टूटा । जलालगढ़ प्रखंड का एकम्मा पंचायत बांध टूटने के बाद पूरी तरह जलमग्न हो गया।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:horrible flood due to parmar river in purnia,  destroy of property and human life, a ground report