horrible flood at araria: four family member drowned in High flux of water - बूढी आंखों के सामने बाढ़ के तेज बहाव में बह गए बेटे, बहू, पोते और पोती..., एक रिपोर्ट 1 DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बूढी आंखों के सामने बाढ़ के तेज बहाव में बह गए बेटे, बहू, पोते और पोती..., एक रिपोर्ट

18 घंटे तक पेड़ से लटक कर जिंदगी बचाई
18 घंटे तक पेड़ से लटक कर जिंदगी बचाई

घर में बीते 9 दिनों से न चूल्हे जल रहे हैं और न ही किसी को नींद आ रही है। पानी और कीचड़ से सने घर में जिंदा लाश बनकर जिंदगी जिये जा रहे हैं। कुछ पूछो तो आंखों से आंसू छलक आते हैं। यह हाल है फारबिसगंज के कुशमाहा की सरपंच सोनिया देवी और उनके पति रामकिशुन सादा का।

दरअसल 12 अगस्त को इस परिवार के साथ कुदरत ने क्रूर साजिश रची। पानी की धार ने सब कुछ बर्बाद कर दिया। घटना के संबंध में सुरेश सादा और सोनिया बताती हैं कि घर में अचानक पानी आ गया था और परिवार के आठ सदस्यों के साथ वे ऊँचे स्थान पर जा रहे थे लेकिन नियति को कुछ और ही मंजूर था।

थोड़ी ही दूर जाने पर आठ सदस्यों में चार सदस्य 22 वर्षीय बेटा सुरेश सादा, 19 वर्षीया बहू मीना देवी, 07 वर्षीय पोता सागर कुमार और 08 वर्षीया पोती रंजना कुमारी देखते ही देखते पानी की तेज धार के साथ बह गए। बचे चार में दो ने 18 घंटे तक पेड़ से लटक कर जिंदगी बचाई। वे खुद किसी तरह तेज बहाव को पार कर सके।
 

जवान बेटे, बहू सहित खाने खेलने की उम्र वाले पोता-पोती जुदा
जवान बेटे, बहू सहित खाने खेलने की उम्र वाले पोता-पोती जुदा

उन्होंने कहा कि जवान बेटे, बहू सहित खाने खेलने की उम्र वाले पोता-पोती के खोने के गम को बयां करना संभव नही है। पानी में डूबे मासूम सागर की माँ अनिता देवी उस पल को याद करते हुए बताया कि मेरा बेटा मम्मी-मम्मी चिल्ला रहा था और मैंने अपनी साड़ी खोलकर उसकी ओर फेंका ताकि वो उसे पकड़ सके लेकिन वह साड़ी नही पकड़ सका और मेरी आँखों के सामने मेरा बेटा हमेशा के लिये जुदा हो गया।

 
प्रत्यक्षदर्शी ग्रामीण हारून रशीद कहते हैं-‘हम लोगों ने बचाने का बहुत प्रयास किया मगर पानी का बहाव इतना तेज था और उसमें इतनी रेत थी कि किसी का दिमाग काम नही किया और उसे नहीं बचा पाए।’ परिवार के आठ सदस्यों में एक हशिव नारायण सादा ने बताया कि उन लोगों को बचाने में हमलोग अनियंत्रित हो गए और एक पेड़ पकड़ कर वे दो लोग 18 घंटे तक रहे। 


हालांकि दर्द का कहर सिर्फ इसी घर तक सीमित नहीं है। इस गांव की सात जिंदगियों को पानी की तेज धार अपने साथ बहा ले गई। बाढ़ के शिकार लोगों में रुनी देवी, उम्र 55 वर्ष, पति फ़क़ीर सादा, एनव खातून, 65 वर्ष, पति मो. सगीर और भागो देवी, उम्र 75 वर्ष, पति स्व मोतीचंद केशरी शामिल है। पीड़ित सरपंच ने इस  संबंध में एक लिखित रिपोर्ट और सभी मृतकों के नाम स्थानीय थाने में दर्ज करा दिया है।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:horrible flood at araria: four family member drowned in High flux of water