ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार भागलपुरप्रबंधन का तरीका सीखेंगे एचएम, एससीईआरटी ने दिया हैंडबुक

प्रबंधन का तरीका सीखेंगे एचएम, एससीईआरटी ने दिया हैंडबुक

हिन्दुस्तान विशेष खास बातें भागलपुर समेत पूरे सूबे के स्कूलों के एचएम के...

प्रबंधन का तरीका सीखेंगे एचएम, एससीईआरटी ने दिया हैंडबुक
हिन्दुस्तान टीम,भागलपुरThu, 22 Feb 2024 01:31 AM
ऐप पर पढ़ें

भागलपुर, वरीय संवाददाता। अब सरकारी स्कूलों के प्रधानाध्यापकों की बुनियादी समझ विकसित होगी। इससे सीधे तौर पर स्कूली बच्चों को फायदा होगा। छात्र-छात्राओं की बुनियादी शिक्षा के स्तर में काफी सुधार होगा। इसको लेकर राज्य शिक्षा शोध एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने भागलपुर समेत सभी जिलों के स्कूलों के प्रधानाध्यापकों में नेतृत्व क्षमता विकसित करने के लिए हस्त पुस्तिका (हैंडबुक) जारी किया है। इसमें स्कूली प्रबंधन के लिए जरूरी हर बातों की जानकारी उपलब्ध रहेगी। यू-ट्यूब के लाइव सेशन में हैंडबुक का अनावरण करते हुए एससीईआरटी के निदेशक डॉ. सज्जन आर ने कहा है कि लंबे समय से प्रधानाध्यापकों को स्कूल के नियमन, प्रबंधन एवं संचालन के लिए उपयुक्त एवं मार्गदर्शक हैंडबुक की आवश्यकता महसूस हो रही थी। उन्होंने कहा है कि एससीईआरटी की संयुक्त निदेशक डॉ. रश्मि प्रभा के निर्देशन में शिक्षकों एवं प्रधानाध्यापकों की टीम ने निष्ठा से काम करते हुए काफी कम समय और संसाधन में यह हस्तपुस्तिका तैयार की है।

बच्चों में बुनियादी शिक्षा-समझ विकसित करने में एचएम की भूमिका अहम

दरअसल, स्कूल में शैक्षणिक गतिविधि को बेहतर करने के साथ-साथ छात्र-छात्राओं के लिए बुनियादी शिक्षा और समझ के विकास के लिए एक नेतृत्वकर्ता जरूरी होता है। स्कूलों में इस भूमिका के लिए प्रधानाध्यापक मौजूद रहते हैं। अगर एचएम को ही नेतृत्व क्षमता और प्रबंधन के लिए जरूरी घटकों की जानकारी नहीं होगी तो वह बच्चों में यह समझ विकसित ही नहीं कर पाएंगे। इस परेशानी को दूर करने के लिए एससीईआरटी की ओर से 72 पेज का नोट बुक तैयार किया गया है। इसमें नेतृत्वकर्ता की भूमिका क्या होती है, आपदा प्रबंधन कैसे करना है, साइबर जागरूकता के लिए क्या-क्या जरूरी बातें हैं और एक आदर्श नेतृत्वकर्ता के लिए जरूरी अर्हताएं क्या-क्या होनी चाहिए, इसकी विस्तृत जानकारी दी गई है। इसमें बताया गया है कि नेतृत्वकर्ता में सभी स्थितियों का प्रबंधन करने, प्रशासित करने, समन्वय करने, निरीक्षण करने और सहानुभूति रखने को आकर्षित करने के गुण होने चाहिए। ये गुण प्रधानाध्यापक में होंगे, तभी स्कूल का शैक्षणिक माहौल बेहतर होगा।

भागलपुर के 1670 समेत सूबे के 80 हजार प्रारंभिक स्कूलों के एचएम को फायदा

भागलपुर जिले के 1670 समेत पूरे प्रदेश के करीब 80 हजार प्रारंभिक स्कूलों के एचएम की प्रबंधन क्षमता को विकसित करने को लेकर एससीईआरटी ने इस हैंडबुक का विकास किया है। इसमें विद्यालय प्रबंधन की सभी छोटी-बड़ी बातों को बहुत अच्छी और प्रायोगिक तरीके से समझाया और बताया गया है। इससे स्कूलों की शिक्षण व्यवस्था में भी काफी सुधार होगा। इसके अलावा उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों के नेतृत्व क्षमता संवर्द्धन में भी यह काफी सहायक होगा। एससीईआरटी की संयुक्त निदेशक डॉ रश्मि प्रभा ने कहा है कि यह हस्तपुस्तिका एससीईआरटी की आधिकारिक वेबसाइट पर भी जारी है।

कोट-----------

हैंडबुक में शैक्षणिक-व्यावहारिक प्रबंधन और आपदा प्रबंधन के साथ-साथ साइबर जागरूकता के लिए जरूरी सामग्रियों का समावेश है। इसके लिए डायट में प्रधानाध्यापकों को प्रशिक्षण दिलाए जाने के अलावा उन्हें इसकी सॉफ्ट कॉपी भी उपलब्ध कराई गई है। हैंडबुक से प्रधानाध्यापकों में नेतृत्व क्षमता का विकास होगा। -श्रुति, प्राचार्य, डायट भागलपुर

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें