Girls make principal and teachers three hours hostage - मध्याहन भोजन में गड़बड़ी और भोजन नही मिलने पर रामवती कन्या मध्य विद्यालय रामपुर की छात्राओं ने किया हंगामा, तोड़फोड़ DA Image
20 नबम्बर, 2019|3:06|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मध्याहन भोजन में गड़बड़ी और भोजन नही मिलने पर रामवती कन्या मध्य विद्यालय रामपुर की छात्राओं ने किया हंगामा, तोड़फोड़

प्रखंड क्षेत्र के रामपुर खुर्द पंचायत स्थित रामवती कन्या मध्य विद्यालय की छात्राओं ने मंगलवार को मध्याह्न भोजन नहीं मिलने के कारण हेडमास्टर के चैंबर में तोड़फोड़ की। कार्यालय में रखी कुर्सी और आलमारी को क्षतिग्रस्त कर दिया। कागजात फाड़ डाले। इस दौरान छात्राओं ने स्कूल के मेन गेट पर ताला लगाकर करीब तीन घण्टे तक प्रधानाध्याप सहित सभी शिक्षकों को बंधक बनाए रखा। छात्राओं में इस बात को लेकर भी नाराजगी थी कि मध्याह्न भोजन कभी भी मेन्यू के आधार पर नहीं दिया जाता है। मामले की सूचना पर करीब दो घंटे बाद मधुसूदनपुर पुलिस मौके पर पहुंची। बच्चों को समझाने का प्रयास किया। बच्चे मानने को तैयार नही थे। हंगामा कर रही छात्राओं ने प्रधानाचार्य के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वे हेडमास्टर को अविलंब सस्पेंड करने की मांग कर रहे थे। मधुसूदनपुर के थानाध्यक्ष ने प्रधानाचार्य से व्यवस्था में सुधार लाने की बात कही। प्रिंसिपल ने मध्याह्न भोजन की क्वालिटी में जल्द सुधार लाने, 10 दिनों के अंदर छात्रवृत्ति और पोशाक राशि बच्चे के खाते में डालने का आश्वासन दिया। तब जाकर बच्चे शांत होकर अपने अपने घर गए। स्कूल के अंदर जब छात्राएं हंगामा कर रही थीं तब स्कूल के बाहर परिजनों की भीड़ लग गयी। वे हेडमास्टर के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे थे। स्कूल के हेडमास्टर महेश मिश्रा से जब छात्राओं द्वारा लगाये गये आरोपों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, अभी वे टेंशन में हैं कुछ नहीं बता पाएंगे। हिन्दुस्तान प्रतिनिधि ने नाथनगर बीईओ को फोन कर पूरे प्रकरण पर उनका पक्ष जानना चाहा तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। वहीं डीईओ मधुसूदन पासवान ने फोन पर बताया कि मामले की सत्यता की जांच की जाएगी। दोषी पाए जाने पर प्रधानाध्यापक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। दुबारा मांगने पर गर्म सब्जी शरीर पर फेंक दिया हंगामा की वजह बताते हुए आठवीं की छात्रा मौसम ने बताया कि मंगलवार की दोपहर वह खाना खाने बैठी थी। चावल और सब्जी दिया गया। सब्जी कम होने पर उसने दुबारा सब्जी की मांग की तो रसोइया रानी देवी ने गर्म सब्जी से भरा करछुल शरीर पर फेंक दिया। पैर व अन्य जगह पर जलन होने लगी। उसने घटना की सूचना अपने सहपाठियों को दी। इससे छात्राओं का गुस्सा फूट पड़ा। छात्रा गायत्री ने बताया कि रसोइया का व्यवहार ठीक नहीं रहता है। परोसन देने में आनाकानी करती है और मारपीट भी करती है। छात्राओं ने आरोप लगाया कि शिकायत करने के बाद भी हेडमास्टर रसोइया के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करते हैं। उल्टे उन्हीं लोगों को डांट फटकार लगाते हैं। यूं ही नहीं भड़का छात्राओं का आक्रोशछात्राओं का आरोप था कि विद्यालय में मध्याह्न भोजन के संचालन में गड़बड़ी की जा रही। कभी भी मेन्यू के अनुसार भोजन नहीं खिलाया जाता है। जो भोजन दिया जाता है वह निम्न स्तर का होता है। शुक्रवार को मिलने वाले अंडा और मौसमी फल भी नहीं दिए जाते हैं। कभी दिए भी जाते हैं तो आधा अंडा और सड़ा हुआ केला। विद्यालय में शुद्ध पेयजल और शौचालय की व्यवस्था नहीं है। शौचालय महीनों से गंदा पड़ा हुआ है। छात्राओं ने प्रधानाध्यापक पर आरोप बढ़िया चावल बेच देने और उसकी जगह सड़ा हुआ चावल खिलाने का आरोप लगया। कई बार चावल में कीड़ा निकलता है। शिकायत के बावजूद सड़ा हुआ चावल खिलाया जाता है। छात्राओं का कहना था कि बीते तीन सालों से छात्रवृत्ति राशि, पोशाक राशि उनके खाते में नहीं आयी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Girls make principal and teachers three hours hostage