DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फरक्का बराज को बिना तोड़े गाद हटाने की दिशा में होगा काम : उमा

फरक्का बराज को बिना तोड़े गाद हटाने की दिशा में होगा काम : उमा

फरक्का बराज को तोड़ने की दिशा में नहीं बल्कि गंगा में जमा सिल्ट यानी गाद हटाने की दिशा में मंत्रालय की ओर से रणनीति तैयार की जा रही है। आईआईटी इंजीनियर, पर्यावरण की टीम, गंगा के जानकार एक साथ मिलकर इस पर काम कर रहे हैं। ये बातें केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने गुरुवार को सुल्तानगंज में कहीं। वे नमामि गंगे के तहत गंगा निरीक्षण अभियान के तहत सुल्तानगंज सीढ़ी घाट के पास गंगा चौपाल में शामिल होने के लिए आयी थीं। उन्होंने कहा कि 20 करोड़ की लागत से सुल्तानगंज में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाया जाएगा ताकि शहर का गंदा पानी साफ होकर ही गंगा में गिरे। इसकी आधारशिला अक्टूबर तक रखी जाएगी। साथ ही रिवर फ्रंट भी बनाया जाएगा। इसमें महिलाओं के लिए शौचालय से लेकर स्नानागार भी होगा। जो भी घाट पुराने या कमजोर होंगे उसकी मरम्मत की जाएगी। श्मशान घाट को दुरुस्त किया जाएगा। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा सिल्ट को लेकर उठाए गए सवाल का सम्मान करते हुए कहा कि फरक्का बराज तोड़ना विकल्प नहीं है, बल्कि डिसेल्टीनेशन कराने की दिशा में काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसके लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी बातचीत करेंगी। उन्होंने गंगा की अविरलता बनाये रखने के लिए गंगा के किनारे जैविक कृषि, पौधारोपण, गंगा के जलीय जीव के संरक्षण पर जोर दिया। साथ ही गंगा में बालू उड़ाही को लेकर सख्ती बरतते हुए कहा कि सरकार इस पर रणनीति बनाकर काम करे। जो भी लोग गलत तरीके से बालू उड़ाही में लगे हुए हैं उनके खिलाफ केंद्र सरकार कड़ी कार्रवाई करने जा रही है। मंत्री उमा ने की गंगा व बाबा अजगैबीनाथ की पूजा इससे पहले मंत्री उमा भारती मुरारका कॉलेज में हेलीकॉफ्टर से उतरने के बाद 10.30 बजे के करीब गंगा की पूजा करने के लिए अजगैबीनाथ मंदिर स्थित गंगा घाट पहुंचीं। पूजा करने के बाद वे अजगैबीनाथ बाबा के दर्शन किए व पूजा-अर्चना की। इसके बाद सीढ़ी घाट पर गंगा चौपाल में शामिल हुईं। चौपाल में सुश्री उमा भारती ने लोगों के सवालों का जवाब भी दिया। मौके पर डायरेक्टर जनरल राष्ट्रीय स्वास्थ्य गंगा मिशन के यूपी सिंह और उपविकास आयुक्त अमित कुमार भी मौजूद थे। कार्यक्रम के बाद वो मुंगेर के लिए रवाना हो गयीं। ---- गंगा की जमीन का होगा जीएसआई सर्वे उमा भारती ने कहा कि गंगा के किनारे की जमीन का जीएसआई सर्वे कराकर वेबसाइट पर डाला जाएगा। इसके साथ ही हर जिले के डीएम और राज्य की सरकारों को यह निर्देश दिया जाएगा कि गंगा की जो भी जमीन है उसे वापस किया जाए। अतिक्रमण है तो उसे दूर किया जाए। --- फूल व अस्थी डालें मगर पॉलीथिन नहीं उन्होंने कहा कि गंगा की निर्मलता वापस लाने के लिए आमलोगों की भागीदारी महत्वपूर्ण है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वो गंगा में फूल, मिठाई वअस्थी डालें मगर पॉलीथिन या प्लास्टिक की बोतल, प्रतिमा का विसर्जन करने से बचें क्योंकि इससे गंगा दूषित होती है। उन्होंने कहा कि चार जून को गंगा स्वच्छता अभियान चलेगा। इसमें लोग शामिल रहें। -----

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Farka Barrage will be working towards removing untreated Gad: Uma