DA Image
20 जनवरी, 2021|3:31|IST

अगली स्टोरी

कहलगांव में स्थायी पुनर्वास के लिए कटाव पीड़ितों ने दिया धरना

default image

कहलगांव। संवाद सूत्र

रानी दियारा गंगा कटाव पीड़ित परिवार संघर्ष समिति के बैनर तले कटाव पीड़ितों ने स्थाई पुणर्वास की मांग को लेकर सोमवार से अनुमंडल कार्यालय परिसर में अनिश्चितकालीन सामुहिक धरना शुरू किया। समिति के अध्यक्ष पवन कुमार की अध्यक्षता व सचिव गौरीशंकर विद्यार्थी के नेतृत्व में करीब दो सौ की संख्या में महिला पुरूष धरना में शामिल हैं। धरना देनेवालों की मांग है कि उनलोगों के पुूणर्वास का अविलंब प्रावधान किये जांय, कटाव में क्षतिग्रस्त मकानों का मुआवजा देने, स्थाई पुणर्वास की अवधि के बारे में लिखित आश्वासन देने, पुणर्वास किये जानेवाले कटाव पीड़ितों की सूची उपलब्ध कराने आदि मांगे शामिल हैं।

कटाव पीड़ितों का आरोप है कि वे लोग अरसे से अस्थाई तौर पर किसनदासपुर गांव के निकट रेलवे की जमीन पर रह रहे हैं जहां घोर मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं जिलाधिकारी , अनुमंडल पदाधिकारी तथा जनप्रतिनिधियों द्वारा पूर्व में जल्द स्थाई पुणर्वास का भरोसा दिया गया था लेकिन अबतक इसे मूर्त रूप नहीं दिया जा सका। कटाव पीड़ितों को आशंका है कि अगर जमीन अधिग्रहण में और अधिक विलंब हुआ तो आसन्न पंचायत चुनाव को लेकर आदर्श आचार संहिता लागू होने का खतरा रहेगा जिससे उनलोगों के पुणर्वास में अत्यधिक विलंब होने की संभावना रहेगी। कड़ाके की ठंढ में खुले आसमान के नीचे कटाव पीड़ित धरना देने को विवश हैं।

इस संदर्भ में प्रभारी अनुमंडल पदाधिकारी सह डीसीएलआर संतोष कुमार ने बताया कि कटाव पीड़ितों को पुणर्वासित करने के प्रति प्रशासन गंभीर है। कटाव पीड़ितों से एनओसी लिये जा चुके हैं। जमीन चिह्नित किया जा चुका है। जल्द ही किसनदासपुर और मोहनपुर गौघट्टा में जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू होने की संभावना है। भू अर्जन के लिये अनुमंडल प्रशासन द्वारा प्रस्ताव भेजे जा चुके हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Erosion victims sit on strike for permanent rehabilitation in Kahalgaon