DA Image
2 दिसंबर, 2020|12:24|IST

अगली स्टोरी

एमबीबीएस की पढ़ाई में कोरोना वायरस की इंट्री, नये सत्र से कोविड-19 महामारी को जानेंगे स्टूडेंट्स

nursing officer job

विश्वभर में कोरोना संक्रमण ने अपने पांव क्या पसारे, पूरे देश की चिकित्सा सेवा की तस्वीर ही बदल गयी। आज कोरोना बीमारी देश की प्रमुख बीमारियों में शुमार हो चुकी है। इस पर लगाम लगाने के लिए हर स्तर पर शोध करने से लेकर नई-नई रणनीति बनायी जा रही है।

इसी के तहत अब एमबीबीएस के पाठ्यक्रम में कोरोना वायरस की इंट्री हो चुकी है। देश को होनहार डॉक्टर बनाने की जिम्मेदारी संभालने वाली एमसीआई (मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया) ने बीओजी (बोर्ड ऑफ गवर्नेंस) संग मिलकर इसी साल से जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज समेत देश के अन्य मेडिकल कॉलेज के एमबीबीएस छात्रों को नये सत्र से कोविड-19 महामारी के बारे में भी पढ़ाने का निर्णय लिया है। 

80 घंटे का होगा नया कोर्स ‘महामारी प्रबंधन’
एमबीबीएस के पाठ्यक्रम में 80 घंटे का नया कोर्स महामारी प्रबंधन जोड़ा गया है। इसके जरिये एमबीबीएस छात्र कोरोना वायरस के इतिहास से लेकर इसके इलाज के साथ-साथ सामाजिक और कानूनी पहलुओं का अध्ययन करेंगे। 

मेडिकल छात्रों को महामारी के दौरान संक्रमण नियंत्रण, रोग प्रबंधन, महामारी प्रबंधन, अनुसंधान, संवाद और कोरोना मरीजों की बेहतर देखभाल के बारे में पढ़ाया जाएगा। इतना ही नहीं, अब तक फैली प्लेग, कोलरा, एशियन फ्लू, स्वाइन फ्लू, एचआईवी के साथ कोविड-19 के मामले, मौत, रिकवरी रेट और मृत्यु नियंत्रण प्रबंधन की पढ़ाई करायी जाएगी। इसके अलावा मौत से लड़कर किस तरह से कोरोना को मात दी गई, इस बारे में भी छात्रों को जानकारी दी जाएगी। इसे सक्सेज स्टोरीज के साथ कोर्स में शामिल किया जाएगा। वहीं कोरोना संक्रमण काल में हुए तमाम मेडिकल रिसर्च को भी इस पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है। 

सैंपल कलेक्शन, एन-95 मास्क व आईसीयू मैनेजमेंट की मिलेगी जानकारी
कोर्स के जरिये एमबीबीएस छात्रों को पढ़ाया जाएगा कि किस तरह से कोरोना संक्रमण को नियंत्रित किया जा सकता है। इसके अलावा सैंपल कलेक्शन, आरटीपीसीआर, एंटिजन रैपिड टेस्ट, आईसीयू मैनेजमेंट, क्वॉरंटाइन, होम आइसोलेशन, कोरोना मृतकों का अंतिम संस्कार, सोशल डिस्टेसिंग, एन- 95 मास्क, पीपीई किट, उपचार और टीकाकरण को भी इस कोर्स में शामिल किया गया है। इस कोर्स को पढ़ाने की जिम्मेदारी जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के कम्युनिटी मेडिसिन, फार्माकोलॉजी व माइक्रोबॉयोलॉजी विभाग की होगी।

कोरोना वायरस ने इसी साल दस्तक दी। शुरू में डॉक्टरों को भी इसके विषय में ज्यादा जानकारी नहीं थी। एमसीआई की पहल सकारात्मक है। छात्र पढ़ने के समय से ही कोरोना के बचाव को लेकर जागरूक रहेंगे। ऐसे में उनके जेहन से इस वायरस को लेकर डर खत्म हो जाएगा। इसे नये सत्र से एमबीबीएस के पाठ्यक्रम में शामिल किया जाना है। - डॉ. हेमंत कुमार सिन्हा, प्राचार्य, जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज भागलपुर 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Entrance of corona virus in MBBS studies Now All Medical College students including JLNMCH will learned about Covid-19 pandemic from new session