DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार भागलपुरदेवोत्थान एकादशी आज, चार माह बाद शुरू होंगे शुभ कार्य

देवोत्थान एकादशी आज, चार माह बाद शुरू होंगे शुभ कार्य

हिन्दुस्तान टीम,भागलपुरNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 10:41 PM
देवोत्थान एकादशी आज, चार माह बाद शुरू होंगे शुभ कार्य

भागलपुर, वरीय संवाददाता

देवोत्थान एकादशी सोमवार को है। इसके बाद शुभ कार्य शुरू जो जाएंगे। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार 14 नवंबर को सुबह 9:12 मिनट में एकादशी प्रवेश कर गया जो 15 नवंबर को सुबह 9:04 तक रहेगा। उदया तिथि मान्य होने के कारण देवोत्थान एकादशी सोमवार को मनाया जायेगा। घरों व मंदिरों में चार माह के बाद भगवान को जगाया जायेगा। भगवान को संध्या काल में वैदिक मंत्रों के द्वारा शंख बजाकर उठाने की परंपरा है।

जगन्नाथ मंदिर के पंडित सौरभ कुमार मिश्रा ने बताया कि कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को देवउत्थान एकादशी कहा जाता है। इसे देव प्रबोधिनी या देव उठावनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। मान्यता है कि चातुर्मास में भगवान विष्णु योग निद्रा में चले जाते हैं, जिनका शयन काल देवउठानी एकादशी के दिन समाप्त होता है। देवउठानी एकादशी पर माता तुलसी और भगवान शालीग्राम के विवाह का विधान है। इसके बाद से चतुर्मास से रूके हुए विवाह, गृह प्रवेश, मुंडन आदि के मांगलिक कार्यक्रमों की शुरुआत हो जाती है।

शाम में होगा तुलसी विवाह

बाबा कुपेश्वरनाथ मंदिर के पंडित विजयानंद शास्त्री ने बताया कि देवोत्थान के दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा होती है। उन्हें विभिन्न मौसमी फलों का भोग लगाया जायेगा। इस दिन शाम में तुलसी विवाह संपन्न कराया जायेगा। कई लोग अपने-अपने घरों में भगवान शालीग्राम की पूजा कराते हैं और तुलसी के पौधे के पास गन्ना खड़ा किया जाता है। वहां अनाज में चावल, धान, जौ आदि भरा जाता है। मान्यता है ऐसा करने से घरों में अनाज की कमी नहीं होती है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें