DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अल्टीमेटम के बावजूद पकड़ से बाहर हैं अपराधी

मधुसूदनपुर थाना क्षेत्र के भीमकित्ता महमदपुर में बुधवार देर रात चाय दुकानदार रंजन यादव को गोली मारने के मामले में पुलिस अबतक अपराधियों को गिरफ्तार करने नहीं कर पायी है। गुरुवार को एसएसपी मनोज कुमार ने मधुसूदनपुर थानाध्यक्ष हारून मुश्ताक को गोलीकांड के दोषियों की 48 घंटे के अंदर गिरफ्तारी तय करने का अल्टीमेटम दिया था। अन्यथा थानाध्यक्ष के निलंबन की बात कही थी। अलटीमेटम का समय लगभग खत्म हो चुका है लेकिन अपराधी अब भी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। पुलिस आरोपी को पकड़ने के लिए नाथनगर मधुसूदनपुर व आसपास के इलाकों में छापेमारी भी की है पर अपराधी चंद्रदेव चौधरी का कोई अता पता नहीं है। हालांकि पुलिस का दावा है कि अपराधियों को जल्द धर दबोचा जाएगा।गौरतलब है कि बुधवार देर रात भीमकित्ता महमदपुर के चाय दुकानदार रंजन यादव ने गांव के ही चंद्रदेव चौधरी व उनके साथियों को दुकान में दारू पीने से मना किया था। इस पर अपराधी चंद्रदेव चौधरी ने घर से पिस्तौल लाकर चंद्रदेव को गोली मार दी थी। गोलीबारी में चाय दुकानदार रंजन यादव गंभीर रूप से घायल हो गए थे। डाक्टरों ने रंजन की स्थिति को अब खतरे से बाहर बताया है। लेकिन कहा कि अभी शरीर में खून की कमी है। डाक्टरों का कहना है कि मरीज के पूरी तरह ठीक होने के बाद जांघ में फंसी गोली को निकाला जाएगा। दरअसल रंजन को लगी गोली पेट को छेद करती हुई जांघ में जाकर फंस गयी है।अन्य बड़े मामलों में है चंद्रदेव की संलिप्तामधुसूदनपुर थाना क्षेत्र में पूर्व में भी कई आपराधिक घटनाओं में भी चंद्रदेव चौधरी का नाम सामने आया है। फरबरी 2015 में कंझिया के मनीष कुमार डीजे संचालक हत्याकांड में भी उसकी संलिप्त रही है। नवंबर 2016 में बिहारीपुर के छोटन बोस की हत्या में उसका नाम आया था। दो हत्याकांडों में पुलिस को उसकी तलाश है। बावजूद अब तक वह पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Despite the ultimatum, the culprit is out of grip