DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डिप्टी मेयर ने नगर आयुक्त के खिलाफ खोला मोर्चा

डिप्टी मेयर ने नगर आयुक्त के खिलाफ खोला मोर्चा

शहर में विकास योजनाओं के ठप पड़ जाने को लेकर डिप्टी मेयर ने नगर आयुक्त के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। बुधवार को नगर निगम में 21 पार्षदों के साथ वार्डों की बदहाली को लेकर चर्चा की और गुरुवार को सभी पार्षदों की बैठक बुलाकर आंदोलन की रणनीति पर चर्चा की जाएगी। डिप्टी मेयर ने नगर आयुक्त को इस संबंध में पत्र लिखा है।

डिप्टी मेयर राजेश वर्मा ने कहा कि 22 जून को शहर के लंबित विकास योजनाओं और शहर की समस्याओं को लेकर नगर आयुक्त श्याम बिहारी मीणा के साथ बैठक की गई थी। नगर आयुक्त ने आश्वासन दिया था कि सप्ताह दिन में टेंडर वाली योजनाओं पर काम शुरू हो जाएगा, लेकिन लंबित विकास योजनाओं पर कोई संज्ञान नहीं लिया गया। उन्होंने कहा कि वर्ष 2016-017 के लाखों रुपए के 30 से अधिक योजनाओं का टेंडर हो चुका है, जिसमें मुख्यमंत्री गली-नाली योजना भी शामिल है। नगर आयुक्त विकास योजनाओं में रुचि नहीं ले रहे हैं। शहर की विकास योजना ठप पड़ जाने से लोगों में आक्रोश है और पार्षद को खरी-खोटी सुनना पड़ा है। नगर आयुक्त के साथ बैठक, वार्ता और पत्राचार का कोई असर नहीं पड़ रहा है। अब आंदोलन के सिवाय दूसरा कोई रास्ता नहीं बचा है। गुरुवार दोपहर एक बजे पार्षदों की बैठक बुलाई गई है। बैठक में पार्षद सदानंद मोदी, पंकज दास, खुशबू कुमारी, शिवानी देवी, कल्पना कुमारी और पार्षद प्रतिनिधि शशि मोदी उपस्थित थे।

विकास योजनाओं के लिए दिए गए हैं निर्देश: नगर आयुक्त

नगर आयुक्त श्याम बिहारी मीणा ने कहा कि 22 मई को डिप्टी मेयर और पार्षदों के साथ जिन योजनाओं को लेकर वार्ता हुई थी। सभी में लिखित निर्देश दिया गया है। स्टेशन से खलीफाबाग के बीच सड़क निर्माण में तकनीकी कारणों से देरी हो रही है। पार्षद योजनाओं को लेकर बात कर सकते हैं। जनप्रतिनिधि आंदोलन करने के लिए स्वतंत्र हैं। इस पर कोई कमेंट नहीं कर सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Deputy Mayor Opens Opposition Against Municipal Commissioner