DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › भागलपुर › ओपीडी में उमड़ी मरीजों की भीड़, एक दर्जन ऑपरेशन हुए
भागलपुर

ओपीडी में उमड़ी मरीजों की भीड़, एक दर्जन ऑपरेशन हुए

हिन्दुस्तान टीम,भागलपुरPublished By: Newswrap
Wed, 04 Nov 2020 10:10 PM
ओपीडी में उमड़ी मरीजों की भीड़, एक दर्जन ऑपरेशन हुए

मतदान के दिन सूनी रही ओपीडी बुधवार को मरीजों से गुलजार दिखी। मंगलवार की तुलना में बुधवार को ओपीडी में इलाज कराने वाले मरीजों की संख्या में करीब तीन गुनी वृद्धि हुई। आलम यह रहा कि ओपीडी में इलाज कराने वाले मरीज का जो रेला घुसा वह दोपहर बाद एक बजे तक जारी रहा। मेडिसिन, स्त्री रोग, टीबी एवं चेस्ट, हड्डी रोग, शिशु रोग व सर्जरी की ओपीडी में मरीजों की ज्यादा भीड़ देखी गयी।

मायागंज अस्पताल के हॉस्पिटल मैनेजर सुनील कुमार गुप्ता ने बताया कि बुधवार को हड्डी विभाग में नौ मरीजों का ऑपरेशन किया जाना था, उनमें से सात लोगों का ऑपरेशन किया गया। जबकि सर्जरी विभाग में पांच बड़े ऑपरेशन किये गये। इसके अलावा स्त्री एवं प्रसव रोग विभाग में छह प्रसूताओं का सिजेरियन किया गया। इसके अलावा इमरजेंसी में डेढ़ दर्जन छोटे-बड़े ऑपरेशन हुए। इमरजेंसी में रोजाना की तुलना में बुधवार को इलाज के लिए 40 प्रतिशत ज्यादा मरीज भर्ती हुए। इमरजेंसी के मेडिसिन, सर्जरी व शिशु रोग के वार्ड में 64 नये मरीज भर्ती किये गये। इन मरीजों का रैपिड एंटीजन टेस्ट भी किया गया, जिसमें से कोई पॉजिटिव नहीं मिला।

आपस में भिड़ीं दो आशा कार्यकर्ता, गर्भवती महिला मरीज की पर्ची फाड़ी

सदर अस्पताल में नियमित जांच कराने के लिए आयी गर्भवती महिला मरीज की जांच निजी लैब में कराने को लेकर दो आशा कार्यकर्ता अस्पताल परिसर में ही भिड़ गयीं। इस दौरान दो आशा कार्यकर्ता आपस में इस कदर उलझी कि गर्भवती महिला का चिट्ठा यानी पर्ची ही फट गयी। सच्चिदानंदनगर निवासी माला देवी को पांच माह का गर्भ है। वह बुधवार को दोपहर बाद साढ़े 12 बजे सदर अस्पताल में गायनी की डॉक्टर को दिखाने आयी थी। महिला डॉक्टर ने माला को अल्ट्रासाउंड, सीबीसी, एचआईवी, थायराइड जांच कराने की सलाह दी। महिला वार्ड से बाहर निकली तो उसकी जांच निजी जांच घर में कराने को लेकर उसके क्षेत्र की दो आशा कार्यकर्ता आपस में भिड़ गयी। इस दौरान एक आशा कार्यकर्ता के हाथ में रही माला की पर्ची हाथापाई में फट गयी। इसके बाद महिला बिना जांच कराये ही घर चली गयी। इस बाबत सिविल सर्जन डॉ. विजय कुमार सिंह ने कहा कि अगर महिला शिकायत करती है तो संबंधित आशा कार्यकर्ता के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जायेगी।

संबंधित खबरें