DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीतामढ़ी के कुख्यात अपराधी विकास झा को भगाने के आरोप में 4 सिपाही गिरफ्तार

four policemen arrested for fleeing sitamarhis infamous criminal vikas jha

सीतामढ़ी के कुख्यात विकास झा उर्फ कालिया को भागलपुर के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल(JLNMCH) से रुपये लेकर भगाने के आरोप में कैदी वार्ड के हवलदार महेश पासवान, होमगार्ड सियाराम कुंवर, दीनानाथ सिंह और जेल सिपाही रंजय कुमार मंडल को बरारी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

ये भी पढ़ें: सीतामढ़ी का कुख्यात संतोष झा गैंग का सदस्य विकास झा कैदी वार्ड से फरार

मुजफ्फरपुर के ठेकेदार अमित झा और सीतामढ़ी के विजय झा के साथ मिलकर चारों ने भगाने की षडयंत्र रची थी। इस मामले में बरारी थानेदार के बयान पर भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। गिरफ्तार विकास झा का फुफेरा भाई आयुष सिंह ने पूरे मामले का खुलासा किया है।

सिटी डीएसपी राजवंश सिंह और बरारी थानेदार सुनील कुमार झा ने गिरफ्तार आयुष सिंह समेत चारों जवानों को मंगलवार शाम ट्रांजिट रिमांड के लिए कोर्ट में पेश किया। बुधवार को पांचों को पटना के विजिलेंश कोर्ट में पेश किया जाएगा। जेल सिपाही और कैदी वार्ड में तैनात जवानों को रुपये लेने की बात सामने आने के बाद मंगलवार सुगह गिरफ्तार कर लिया गया था। गिरफ्तार आयुष सिंह ने कहा कि 14 अगस्त को ठेकेदार अमित झा और विजय झा कैदी वार्ड पहुंचे थे। वार्ड के अंदर दोनों ने विकास झा से लंबी बातचीत की थी। फिर 17 अगस्त को मिलने पहुंचे थे। ठेकेदार अमित झा ने विकास झा को 40 हजार रुपये दिया था। हवलदार महेश पासवान को पांच हजार, जेल सिपाही को 15 हजार, दोनों होमगार्ड जवानों को भी पांच-पांच हजार रुपये दिए गए थे। इसके पहले आयुष सिंह ने जेल सिपाही रंजय कुमार के पटना स्थित आवास पर 12 हजार रुपये नकद और तीन डिब्बे मिठाई पहुंचाई थी।

 ये भी पढ़ें: सीतामढ़ी के संतोष झा गैंग के कुख्यात विकास झा के कैदी वार्ड से फरार होने का जानिए सच!

ठेकेदार अमित झा ने दो बाइक और भगाने वाले आदमी का इंतजाम किया था। आयुष ने कहा कि 17 अगस्त से भगाने की तैयारी थी। मुजफ्फरपुर से आए लोग अस्पताल के पेड़ के नीचे समय गुजार रहे थे। बाइक को स्टैंड में लगाकर रखा गया था। सोमवार सुबह भागने की बात थी, इसलिए सुबह चार बजे से ही सभी लोग तैयार थे। पांच बजे सुबह विकास झा को आयुष ने ही कैदी वार्ड में जाकर जगाया था। भागने के दौरान वह छूट गया था। इमरजेंसी में जाकर छिप गया था। विकास झा को खोजने के दौरान पुलिसकर्मियों की नजर पड़ी थी और उसे गिरफ्तार कर लिया गया था। सिटी डीएसपी को घटना का जांचकर्ता बनाया गया है। डीएसपी ने कहा कि सरकारी कर्मी के द्वारा कुख्यात विकास झा को भगाया गया है, इसलिए भ्रष्टाचार अधिनियम (पीसी एक्ट) के तहत मामला दर्ज किया गया है।   

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bhagalpur: four policemen arrested for fleeing Sitamarhi infamous criminal Vikas Jha