DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO: शाबाश! छोटी उम्र में भागलपुर की बेटी के बड़े कारनामे, मिला बेस्ट स्टेट मॉडल अवार्ड

award winner pallavi at bhagalpur

शाबास! छोटी उम्र में बेटी के बड़े कारनामे, बेस्ट स्टेट मॉडल अवार्ड से हुईं सम्मानित। यहां बात हो रही है भागलपुर के इंटरस्तरीय आदर्श उच्च विद्यालय तुलसीपुर की दसवीं की छात्रा पल्लवी कुमारी की। 

भागलपुर की बेटी पल्लवी को कोलकाता के बिड़ला इंडस्ट्रीयल एंड टेक्नोलॉजिकल म्यूजियम(बीआईटीएम) में आयोजित पूर्वी भारत विज्ञान मेला में अपशिष्ट प्रबंधन और जलाशयों के संरक्षण विषय थीम पर प्रजेंटेशन दिया। इसमें प्लास्टिक रोड की राह दिखाने के लिए बेस्ट स्टेट मॉडल अवार्ड दिया गया। इस मॉडल की प्रोजेक्ट गाइड स्कूल की साइंस टीचर अर्पणा कुमारी भी सम्मानित की गईं।

जानिए कैसे बनाई जा सकती है प्लास्टिक मिक्स सड़क 
पल्लवी ने बताया कि जहां सामान्यत: तारकोल आधारित सड़क की आयु पांच साल होती है वहीं प्लास्टिक पार मॉडल की सड़क की आयु 15-16 वर्ष होगी। पल्लवी ने बताया इस मॉडल में रोड बनाने में तारकोल की खपत 60-70 फीसदी कम हो जाती है। प्लास्टिक के इस्तेमाल से कूड़े प्रबंधन की समस्या से निपटने में काफी मदद मिलेगी। साथ ही प्राकृतिक संसाधन तारकोल की भी बचत होगी। इससे लागत में काफी कमी आयेगी। उसने बताया कि इस मॉडल पर काम करने के दौरान स्कूल परिसर में रोड बनाया। प्रमाण के तौर पर इसका वीडियो भी तैयार किया। सर्वप्रथम स्टॉन चिप्स को 70 डिग्री सेल्सियस पर गर्म किया गया। फिर तारकोल को मेल्टिंग प्वाइंट 180 डिग्री सेल्सियस पर गर्म किया गया। इसी में प्लास्टिक को डाल गया। फिर स्टॉन चिप्स को मिक्स कर संबंधित रोड पर डालकर रॉल किया गया। 

पुरस्कार का श्रेय माता-पिता और शिक्षक को 
पल्लवी ने बताया पुरस्कार मुझे जरूर मिला है। यह हमारी टीचर अर्पणा कुमारी के मार्गदर्शन से संभव हुआ है। साथ में माता पिता के आशीर्वाद के बिना संभव नहीं है। उसने आगे बताया कि इंटर करने के बाद मुझे डॉक्टर बनना है। इसके लिए अभी से मेहनत कर रही हूं। पल्लवी ने बताया कि देश में कूड़े के रूप में पैदा होने वाली प्लास्टिक से पर्यावरण को सबसे बड़ी चुनौती है। यह नदियों में जाकर जलश्रोत को नुकसान पहुंचा रही है। खासकर बाढ़ प्रभावित इलाके में बाढ़ के समय में जलाशयों में जाकर यह जलीय जीवों को भी नुकसान पहुंचा रही है। दूसरी ओर मिट्टी को भी यह बंजर बना रही है। लगभग सभी नगरी इकाइयों के लिए प्लास्टिक युक्त अपशिष्ट पदार्थ से निपटना चुनौती है।

विभिन्न राज्यों के पांच सर्वश्रेष्ठ मॉडल में बना एक 
कोलकाता बीआईटीएम में 9 से 13 जनवरी तक पूर्वी भारत विज्ञान मेले का आयोजन किया गया था। इसमें इंटरस्तरीय आदर्श उच्च विद्यालय तुलसीपुर की दसवीं की छात्रा पल्लवी कुमारी ने अपशिष्ट प्रबंधन और जलाशयों के संरक्षण विषय थीम पर आधारित प्लास्टिक रोड का प्रजेंटेशन दिया। जहां उसने स्टेट बेस्ट मॉडल अवार्ड जीतकर राज्य और जिले का नाम रोशन किया। उसे पुरस्कार स्वरूप चार हजार रुपये का चेक, ट्राफी और सर्टिफिकेट मिले। इस मॉडल की प्रोजेक्ट गाइड स्कूल की साइंस टीचर अर्पणा कुमारी को भी मॉडल के लिए दो हजार रुपये व सर्टिफिकेट मिला। पल्लवी ने बताया कि पर्यावरण की पुस्तक में अपशिष्ट की पढ़ाई हुई थी। इंस्पायर प्रतियोगिता के लिए इस मॉडल पर काम किया। उसे राज्यस्तरीय प्रतियोगिता में पांचवां पुरस्कार मिला। इसी आधार पर पूर्वी भारत विज्ञान मेले में हिस्सा लेने का अवसर मिला। 


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bhagalpur daughter got best state model award for innovation at kolkata BITM