class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पटना से आई निगरानी टीम ने कदवा बीईओ को 60 हजार रुपये घूस लेते दबोचा

katihar BEO arrested in bribe case

निगरानी विभाग के विशेष टीम ने मंगलवार को दोपहर बाद 12:30 बजे जाल बिछा कर कदवा प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी अभय नाथ मिश्र को मीनापुर मध्य विद्यालय के शिक्षक से 60 हजार रुपये घूस लेते हुए गिरफ्तार कर लिया है। बीईओ की गिरफ्तारी कदवा प्रखंड के बीआरसी भवन से किया गया है।

निगरानी विभाग के उपाधीक्षक दीनानाथ चौधरी ने बताया कि आरोपी बीईओ को गिरफ्तार कर पटना ले जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कदवा प्रखंड के मीनापुर मध्य विद्यालय के शिक्षक अबरार अहमद द्वारा कुछ माह पहले निगरानी में शिकायत दर्ज करायी थी। दर्ज शिकायत में शिक्षक का कहना था कि प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी एमडीएम व विभाग के अन्य काम में मदद करने व गलत काम करने के लिए साठ हजार रुपये की मांग कर रहे थे। रुपये नहीं देने पर आरोपी द्वारा मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा था और विभागीय कार्रवाई करने की धमकी दे रहे थे। इससे तंग आकर निगरानी के पास शिकायत दर्ज की गयी थी। इसके बाद निगरानी की अनुसंधान टीम ने कदवा पहुंच कर आरोप की सत्यता की जांच की।

अनुसंधान में आरोप सही पाये जाने पर एसपी निगरानी के आदेश पर उनके नेतृत्व में टीम का गठन किया गया है। मंगलवार को उनके नेतृत्व में छह सदस्यीय टीम कदवा बीआरसी भवन पहुंची। इसके बाद शिक्षक अबरार विभागीय कार्य में मदद करने के लिए तयसुदा समय पर साठ हजार रुपये लेकर बीआरसी भवन के उस कमरे में पहुंचे जहां पर पहले से बीईओ कदवा बैठे हुए थे।

शिक्षक ने जैसे ही बीईओ के हाथ में रुपये दिया कि पहले से जाल बिछाकर बैठे  निगरानी टीम ने उसे धर दबोचा। इसके बाद सभी प्रक्रिया पूरी करने के बाद बीईओ को गिरफ्तार कर पूर्णिया के रास्ते पटना चले गये । डीएसपी निगरानी ने बताया कि आरोपी बीईओ को पूछताछ के बाद न्यायिक हिरासत में भेज दिया जायेगा। छापेमारी निगरानी टीम में डीएसपी श्री चौधरी के अलावा इंस्पेक्टर मिथिलेश कुमार, राजा राम के अलावा सब इंस्पेक्टर व सहायक सब इंस्पेक्टर व सशस्त्र बल शामिल थे।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:BEO arrested with bribe in raid of surveillance Special team
नयागांव राइस मिल से 1397 बोरा खाद्यान्न बरामद, मील दोबारा सीलरूसा ने कालेजों से मांगा तीन साल के काम का प्रस्ताव