DA Image
1 अप्रैल, 2020|8:14|IST

अगली स्टोरी

आयुष्मान योजना के लाभार्थी आधार और राशन कार्ड लेकर आएं, तुरंत होगा अस्पताल में इलाज

default image

आयुष्मान योजना के तहत मरीजों के इलाज के मामले में पिछड़ रहे बिहार को आगे करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने कमर कस ली है। आयुष्मान योजना के हर मरीजों का इलाज हो सके, इसके लिए जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (जेएलएनएमसीएच) प्रशासन ने योजना तैयार की है। इसके तहत हर विभागों को अस्पताल प्रशासन द्वारा महीने में कम से कम 25 आयुष्मान योजना के लाभार्थी मरीजों का इलाज करने का लक्ष्य दिया गया है। अस्पताल अधीक्षक ने अस्पताल में इलाज कराने वाले मरीजों से आग्रह किया है कि वे इलाज कराने आते वक्त साथ में अपना राशन कार्ड व आधार कार्ड लेकर आएं। यदि उनका नाम आयुष्मान योजना की सूची में होगा तो तत्काल उनका नि:शुल्क इलाज होगा।

अस्पताल अधीक्षक डॉ. आरसी मंडल ने बताया कि मायागंज अस्पताल के विभिन्न विभागों में तैनात स्वास्थ्य प्रबंधकों के जरिये अस्पताल में भर्ती मरीजों की स्क्रीनिंग कराई गई कि वे आयुष्मान योजना के लाभार्थी हैं कि नहीं। पहले दिन छह मरीज इस योजना के लाभार्थी पाए गए। उनका तत्काल इस योजना के तहत इलाज शुरू हो गया। उन्होंने बताया कि अब भर्ती के वक्त ही जांच की जाएगी मरीज इस योजना का लाभार्थी है कि नहीं। यह जांच मंगलवार से ही शुरू कर दी जाएगी।

पांच लाख रुपये तक की इलाज फ्री

आयुष्मान योजना के लाभार्थियों की पांच लाख रुपये तक की जांच व इलाज नि:शुल्क की जाती है। अगर कोई जांच या फिर दवा मायागंज अस्पताल में नहीं होगी तो आयुष्मान योजना के लाभार्थियों के लिए अस्पताल प्रशासन अपने खर्च से उसे उपलब्ध कराएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Beneficiaries of Ayushman Yojana should bring Aadhaar and ration card treatment will be done in hospital immediately