DA Image
21 अक्तूबर, 2020|6:58|IST

अगली स्टोरी

बांस उत्पादन के बाजार को मिलेगा बढ़ावा

default image

राष्ट्रीय बांस मिशन के तहत वित्तीय वर्ष (2020-21) के लिए 1851.61 लाख के बजट को स्वीकृति मिल गयी है। इसमें केंद्र से 1111 लाख एवं राज्य से 740.64 लाख रुपए मिलेगा। यह राशि हाई डेंसिटी पौधशाला, बांस का बड़ा और छोटा पौधशाला, हस्तशिल्प-फर्निचर निर्माण, अगरबत्ती निर्माण, बांस का बाजार, डिपो और गोदाम की व्यवस्था सहित जागरूकता कार्यक्रम सेमिनार, टिशू कल्चरल पर राशि खर्च होगी।

गुरुवार को पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग के प्रधान सचिव डॉ.दीपक कुमार सिंह की अध्यक्षता में राज्यस्तरीय कार्यसमिति की बैठक में इस पर निर्णय लिया गया। वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक हुई। भागलपुर से प्लांट टिशू कल्चर (पीटीसी) परियोजना के प्रधान वैज्ञानिक प्रो. एके चौधरी भी जुड़े थे।

उन्होंने बताया कि बैठक में सभी मौजूद थे। इस दौरान बांस की पैदावार बढ़ाने, किसानों तक पहुंचाने और उसे बेहतर बाजार देने के उद्देश्यों पर चर्चा हुई। बांस के उत्पाद में हस्तशिल्प निर्माण की दो इकाई, फर्नीचर निर्माण की दो इकाई, अगरबत्ती निर्माण के इकाई खोली जानी है। साथ ही बाजार को बढ़ावा देने के उद्देश्यों से सरकारी स्तर पर बांस का डिपो और गोदाम बनाया जाएगा। ग्रामीण बाजार व बांस बाजार की एक-एक इकाई बनायी जाएगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bamboo production market will get a boost