DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आओ राजनीति करें: विशेषज्ञों ने कहा, जानकारी के अभाव में जुल्म सहती हैं महिलाएं

aao rajneeti karein: Experts say that womens suffer oppression in lack of law information

महिलाओं को जिस दिन अधिकार की जानकारी मिल जाएगी,  वह खुद आगे आ जाएंगी।  उनके आगे आने से परिवार, समाज, राज्य व देश का विकास होगा इसलिए सरकार को गांव-गांव तक जागरूकता अभियान चलाकर महिलाओं को उसके अधिकार की जानकारी देनी चाहिए। कई महिलाओं को इसकी जानकारी ही नहीं है। इसके कारण वह चुपचाप जुल्म को बर्दाश्त कर लेतीं हैं। सोमवार को आओ राजनीति करें अभियान के तहत हिन्दुस्तान ने एक मिनट का कार्यक्रम जिला विधिक संघ परिसर में रखा।

इसमें महिला अधिवक्ताओं ने अपने हक की आवाज उठायी और सरकार से अधिक सुविधाएं देने की मांग की। बेटियों को शिक्षित करने के लिए विशेष अभियान चलाने की जरूरत बताई। जिला विधिक संघ के महासचिव संजय मोदी, बिहार युवा अधिवक्ता कल्याण समिति पटना के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश तिवारी, अधिवक्ता डॉ. नूरउद्दीन, संजीव कुमार कुशवाहा, अशोक वर्मा, हरेंद्र ठाकुर आदि ने कहा कि महिला की सुरक्षा के लिए विशेष पहल की जानी चाहिए।
 
अधिवक्ता अन्नू श्री ने कहा कि सरकार को महिलाओं को समुचित सुरक्षा प्रदान करनी चाहिए ताकि वह बेखौफ होकर घूम सकें। पढ़ाई हो या नौकरी हर जगह वह सुरक्षित होकर काम कर सकें।

अधिवक्ता अनु शर्मा ने कहा कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान को ही जिस दिन पूरा कर दिया जाएगा, उसी दिन उसे अपने अधिकार की जानकारी मिल जाएगी।

अधिवक्ता कल्पना रंजन ने कहा कि महिलाओं को जिस दिन महिलाएं स्पोर्ट करनी शुरू कर देंगी उसी दिन उसका मनोबल ऊंचा हो जाएगा। इसलिए महिलाओं को चाहिए कि वह एक-दूसरे के प्रोत्साहित करती रहें।
 
अधिवक्ता कमला कोमल ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा पर सरकार ध्यान दें। यहां पुलिसिंग की व्यवस्था अच्छी तरह से की जाए, ताकि बेटियों पर कोई जुल्म नहीं हो सके।

अधिवक्ता आशा सिंह ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा थाने स्तर से ही मजबूत की जानी चाहिए। जिस दिन महिलाएं सुरक्षित हो जाएंगी, उसी दिन से विकास की गति भी बढ़ जाएगी।

अधिवक्ता शबानम मरयम ने कहा कि महिलाओं को अधिकार की जानकारी नहीं है। सरकार को महिलाओं की अधिकार के लिए गांव-गांव तक जागरूकता अभियान चलाना चाहिए।
 
अधिवक्ता मिताली गुहा ने कहा कि जिस दिन बेटी शिक्षित हो जाएगी उन्हें अपने हक की जानकारी खुद मिल जाएगी। इसलिए सरकार उनकी पढ़ाई की समुचित व्यवस्था करे। 

अधिवक्ता नुरजहत फातिमा ने कहा कि बेटियों को कम से कम राशि में सरकार पढ़ाई की व्यवस्था कराए ताकि रुपये की कमी के कारण उसकी पढ़ाई बाधित नहीं हो। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:aao rajneeti karein: one minute program at District Legal Union Campus