DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

22 घंटे बिजली आपूर्ति का दिया आश्वासन

भागलपुर इंजीनियरिंग कॉलेज में हुई सभा में बिजली की फ्रेंचाइजी कंपनी के सीईओ कुलदीप कौल ने कॉलेज व आसपास के क्षेत्र में 22 घंटे बिजली आपूर्ति होने का आश्वासन दिया है। सभा में जब छात्रों ने बिजली की आपूर्ति नहीं होने की बात कही तो सीईओ ने कंपनी का पक्ष रखते हुए बताया कि ट्रांसफार्मर खराब होने के कारण परेशानी आ रही है। इसे दूर कर लिया जाएगा। इसके बाद 22 घंटे बिजली की आपूर्ति की जाएगी। कौल ने छात्रों से कहा कि अगर कॉलेज का माहौल अच्छा रहा तो कंपनी यहां के छात्रों के कैंपस सेलेक्शन के लिए भी विचार करेगी। ज्यादा बोलोगे तो केस होगा छात्रों ने सभा में प्राथमिकी का मुद्दा उठाया और कहा कि प्राचार्य बात-बात पर छात्रों पर या तो प्राथमिकी दर्ज कराते हैं या प्राथमिकी कराने की धमकी देते हैं। छात्रों ने इस पर चुटकी भी ली और अपना पक्ष रख रहे एक छात्र से कहा कि ज्यादा मत बोलो वर्ना प्राथमिकी हो जाएगी। इस्तीफा दे दूंगा सभा में ही प्राचार्य छात्रों की मांग पर इस्तीफा देने को तैयार हो गए। उन्होंने एक छात्र की ओर इशारा कर कहा कि इससे पहले भी मैंने इस्तीफे पर हस्ताक्षर कर दिया था। अब भी छात्र कहेंगे तो वह इस्तीफा दे देंगे। डेढ़ साल से कॉलेज में जारी है तनाव भागलपुर' वरीय संवाददाता सभा में प्राचार्य ने बताया कि करीब डेढ़ साल से कॉलेज का माहौल अशांत है। पहली बार जनवरी 2016 में छात्रों ने प्राचार्य के आवास पर पत्थरबाजी की थी। इसके बाद 25 दिसंबर 2016 को छात्रों ने नव वर्ष के कार्यक्रम को लेकर हंगामा किया था। इस वर्ष अप्रैल-मई में भी कॉलेज में हंगामा किया गया जिसमें कई छात्रों पर प्राथमिकी कराई गई थी। अब बुधवार को भी छात्रों ने हंगामा और तोड़फोड़ किया। इस पर छात्रों ने कहा कि 25 दिसंबर 2016 को वह लोग प्राचार्य से मिलने गए थे और उन्हें बधाई देना चाहते थे। लेकिन प्राचार्य नहीं मिले। इसके बाद कभी भी कॉलेज में या प्राचार्य के आवास पर पत्थरबाजी नहीं की गई। बुधवार को भी प्राचार्य द्वारा छात्राओं पर थप्पड़ उठाने और बिजली व पानी की समस्या सुनने को तैयार नहीं होने पर छात्रों ने नाराजगी जताई थी। इधर प्राचार्य ने कहा कि उन्होंने खुद छात्रों के कमरों में हीटर, आयरन और दूसरे इलेक्ट्रिक सामान का उपयोग होते देखा है। बिजली रहती है तब इससे समस्या नहीं होती है। लेकिन जेनरेटर चलने पर छात्र इन चीजों का उपयोग करते हैं जिससे परेशानी होती है। इस पर छात्र भड़क गए और कहने लगे कि जाड़े के दिनों में भी इन चीजों का उपयोग होता था। तब परेशानी क्यों नहीं होती थी। छात्र जेनरेटर के लिए शुल्क देते हैं। छात्रों ने हीटर के उपयोग से इंकार किया। हालांकि कॉलेज प्रशासन ने नोटिस जारी कर छात्रों को हीटर, आयरन जैसी चीजों का उपयोग करने से मना कर दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 22 hours power supply assured in college