DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  भभुआ  ›  कोविड- 19 वैक्सीन लेने के बाद सुरक्षित हो जाएंगे आप (डॉक्टर से पूछें)

भभुआकोविड- 19 वैक्सीन लेने के बाद सुरक्षित हो जाएंगे आप (डॉक्टर से पूछें)

हिन्दुस्तान टीम,भभुआPublished By: Newswrap
Mon, 24 May 2021 08:10 PM
कोविड- 19 वैक्सीन लेने के बाद सुरक्षित हो जाएंगे आप (डॉक्टर से पूछें)

आपके अपने अखबार हिन्दुस्तान के पाठकों द्वारा कोरोना को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब दे रही हैं दुर्गावती पीएचसी की डॉ. अभिनंदन।

सवाल: कोरोना ठीक होने के बाद क्या दोबारा हो सकता है?

जवाब: विज्ञान कहता है कि एक बार किसी वायरस का संक्रमण होने के बाद इंसानी शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति उस वायरस से लड़ना सीख जाती है। फिर भी कभी-कभी ऐसा होता है कि लोग दुबारा कोरोना वायरस से संक्रमित हो जा रहे हैं।

सवाल: क्या आमजनों को सार्वजनिक तालाब में नहाना सुरक्षित है?

जवाब: जिला तालाब में क्लोरीन डाला जाता है, उसमें स्नान करने में वायरस से खतरा नहीं होता। क्योंकि क्लोरीन से वायरस का खतरा खत्म हो जाता है। लेकिन, पानी के हिसाब से उसकी मात्रा ठीक रहे।

सवाल: किस सतह पर वायरस कितनी देर जिंदा रहता है?

जवाब: यह इस बात पर निर्भर करता है कि सतह कौन सी है, दरवाजे का हैंडल, लिफ्ट बटन जैसी सतहों पर यह 48 घंटों तक एक्टिव रह सकते हैं। कोरोना वायरस अनुकूल परिस्थितियों में एक हफ्ते तक भी एक्टिव रह सकते हैं। कपड़ों जैसे नरम सतहों पर कोरोना वायरस बहुत लंबे वक्त तक नहीं जिंदा रहता है।

सवाल: कोरोना वायरस के प्रभाव से बचने के क्या उपाय है?

जवाब: आप बेवजह घर से बाहर नहीं निकले। कभी भी बाहर निकले तो मास्क जरूर लगाएं। भीड़ में जाने से परहेज करें। सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना है। हाथ को समय-समय पर साबुन से धोते रहें। हैंडवॉश करना जरूरी है। कोरोना पीड़ितों से दूरी बनाए रखें। किसी के छींकने या खांसने वक्त सावधानी बरतें।

सवाल: क्या कोरोना का संक्रमण फोन से भी हो सकता है?

जवाब: यह माना जाता है कि कोरोना वायरस का संक्रमण छींकने या खांसने से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में हो सकता है। लेकिन, जानकारों का कहना है कि ये वायरस किसी सतह पर भी अस्तित्व में रह सकता है और वह भी संभवत: कई दिनों तक।

इसलिए ये अहम है कि आपका फोन चाहे घर पर हो या दफ्तर में पूरी तरह से उसे सेनेटाइज करें। मोबाइल फोन को एल्कोहॉल से, हैंड सेनेटाइजर से या स्टरलाइजिंग वाइप्स से साफ करें।

सवाल: कोरोना का लक्षण हो तो क्या करना चाहिए?

जवाब: अगर आपको सर्दी, खांसी, बुखार, बदन व सिर दर्द, पतला दस्त, गले में खरास, नाक व गला सूखने जैसी शिकायत हो तो लापरवाही नहीं दिखाएं, आप तुरंत डॉक्टर से राय लें। सैंपल की जांच कराएं। अगर आपकी रिपोर्ट पॉजिटिव आए तो डॉक्टर की सलाह पर होम आइसोलेट हो जाएं और नियमित दवा लें। बताई गई सलाह का पालन करें। सवाल: कितने दिन में आपको वायरस हो सकता है और कितने दिन के लिए आप बीमार हो सकते हैं?

जवाब: कोरोना वायरस का इन्क्यूबेशन पीरियड या संक्रमण होने और लक्षण दिखने तक का वक्त- अमूमन 14 दिन है। अब तक जो मामले सामने आए हैं उनके आधार पर कहा जा रहा है कि संक्रमण के पांच दिन के भीतर लक्षण दिखना शुरू हो जाते हैं।

कोरोना के लक्षणों से आप एक हफ्ते में रिकवर भी हो सकते हैं। कई लोगों को तो शायद पता भी नहीं होता है कि उन्हें कोरोना संक्रमण है।

सवाल: कोरोना वायरस मरीज की कब परेशानियां बढ़ जाती हैं?

जवाब: मुश्किल तब होती है जब यह वायरस फेफड़ों में पहुंचता है और वहां एयरसैक बनाने लगता है। इसके बाद व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ हो सकती है और उसे निमोनिया हो सकता है। इसलिए ऑक्सीमीटर से अपने शरीर के ऑक्सीजन लेवेल को हमेशा मापते रहिए। परेशानी होती है बिना देर किए डॉक्टर के पास जाएं।

सवाल: सबसे ज्यादा ध्यान किन्हें रखना चाहिए?

जवाब: बुजुर्गों को और उन लोगों को जिन्हें हाई ब्लडप्रेशर, दिल की बीमारी और फेफड़ों की बीमारी हो या फिर कैंसर या डायबीटिज़ हो उनके लिए संक्रमण मुश्किल साबित हो सकता है। ऐसे रोग के मरीजों को ज्यादा सावधान रहने की जरूरत है, क्योंकि ऐसे मामलों में कोरोना वायरस हमला कर सकता है।

सवाल: कोरोना वायरस से पीड़ित होने पर दवा अलावा घरेलू उपचार क्या है?

जवाब: कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर डॉक्टर की सलाह से ही दवा लें। भांप लेना, गरारे करना, काढ़ा पीना, खट्टे फल खाना, योग करना, आत्मबल बढ़ाना जैसे घरेलू नुस्खे भी कर सकते हैं।

सवाल: मैं कोरोना पीड़ित हूं, तो दूसरे को कैसे बचाऊं?

जवाब: कोरोना पीड़ितों के लिए 10 दिन बहुत जटिल होते हैं। उस दौरान आप दूसरों को संक्रमित कर सकते हैं। इसलिए सभी से दूरी बनाए रखें। अपना कपड़ा, कक्ष, बर्तन, बेड सबकुछ परिवार के अन्य सदस्यों से अलग रखें।

अपने कपड़े और खाने की प्लेट ख़ुद धोयें या ऐसी व्यवस्था करें कि वे घर के अन्य लोगों की चीजों के साथ मिक्स न हों।

सवाल: यदि सांस की दिक्कत बनी हुई है तो क्या करें?

जवाब: बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि सांस वाली दिक्कत घर पर नहीं सुलझाई जा सकती है। एक ऑक्सीमीटर खरीदें, उससे ऑक्सीजन लेवेल मापे। अगर ऑक्सीजन लेवेल 93 से कम है, तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं।

फोटो- डॉ. अभिनंदन, पीएचसी, दुर्गावती

संबंधित खबरें