DA Image
Friday, December 3, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार भभुआजिले के सरकारी अस्पतालों में अल्ट्रासाउंड जांच की सुविधा नहीं

जिले के सरकारी अस्पतालों में अल्ट्रासाउंड जांच की सुविधा नहीं

हिन्दुस्तान टीम,भभुआNewswrap
Wed, 07 Jul 2021 07:00 PM
जिले के सरकारी अस्पतालों में अल्ट्रासाउंड जांच की सुविधा नहीं

डाक्टर प्रतिदिन औसतन 100 मरीजों को लिखते हैं अल्ट्रासाउंड की जांच

सरकारी अस्पतालों के मरीज रोजाना 60 हजार कर रहे अल्ट्रासाउंड पर खर्च

भभुआ। हिन्दुस्तान प्रतिनिधि

जिले के सरकारी अस्पतालों में इलाज कराने वाले मरीजों के लिए अल्ट्रासाउंड जांच की सुविधा नहीं है। इस कारण सरकारी अस्पतालो के मरीजों को बाजार से अल्ट्रासांउड जांच करानी पड़ रही है। जिले के सदर अस्पताल सहित कैमूर के किसी सरकारी अस्पतालो में अल्ट्रासाउंड जांच की सुविधा नहीं है। सदर अस्पताल में एक अल्ट्रासाउंड मशीन है। लेकिन, उससे सिर्फ प्रशिक्षित महिला डाक्टर किरण सिंह अपनी ड्यूटी में गर्भवती महिलाओं की जांच करती हैं।

सदर अस्पताल के सामान्य मरीजों के लिए अल्ट्रासाउंड जांच की व्यवस्था नहीं रहने से उन्हें बाजार में 500 से 600 रुपया देकर अल्ट्रासाउंड जांच करानी पड़ती है। जिले के सदर अस्पताल सहित अन्य सरकारी अस्पतालों में मरीजों की डाक्टर द्वारा जांच तो की जाती है, लेकिन जब डाक्टर अल्ट्रासाउंड जांच कराने की सलाह देते हैं तो मरीजों को बाहर में जाना पड़ता है। आर्थिक रुप से कमजोर मरीजों को अधिक पैसा देकर बाहर में अल्ट्रासाउंड जांच कराने में परेशानी का सामना करना पड़ता है।

बुधवार को सदर अस्पताल के ओपीडी में इलाज के लिए आई किरण कुमारी व विभा देवी ने बताया कि डाक्टर से जांच तो करा ली, लेकिन अल्ट्रासाउंड जांच की व्यवस्था सदर अस्पताल में नहीं रहने से उन्हें बाहर जाना पड़ेगा। सदर अस्पताल पहुंचे मरीज मुकुंद कुमार व सुशील कुमार ने बताया कि उनके पेट में दर्द की शिकायत है। डाक्टर ने अल्ट्रासाउंड जांच लिखी है। लेकिन, यहां जांच की सुविधा नहीं है। इस कारण उन्हें बाजार में जाकर जांच करानी पड़ेगी।

सदर अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ. विनोद कुमार सिंह ने बताया कि सदर अस्पताल में दो अल्ट्रासाउंड मशीन व सीटी स्कैन मशीन विभाग द्वारा पटना से भेजने की सूचना दी गई है। सीटी स्कैन मशीन व अल्ट्रासाउंड मशीन को स्थापित करने के लिए सदर अस्पताल में स्थल का चयन कर लिया गया है।

वर्ष 2018 में बंद हो गयी थी अल्ट्रासाउंड जांच

भभुआ। सरकार के निर्देश पर वर्ष 2018 में जिले के सरकारी अस्पतालों में अल्ट्रासाउंड जांच बंद कर दी गई। स्वास्थ्य विभाग से संविदा समाप्त होने के कारण अल्ट्रासाउंड मशीनों को जिले के सरकारी अस्पतालों में बंद कर दिया गया। जिले के अधौरा व रामपुर पीएचसी में अल्ट्रासाउंड जांच की व्यवस्था नहीं थी। जबकि भभुआ सदर अस्पताल, मोहनियां अनुमण्डल अस्पताल, रामगढ़ रेफरल अस्पताल, कुदरा, नुआंव, दुर्गावती, चैनपुर, चांद व भगवानपुर में चल रही अल्ट्रासाउंड सेवा को बंद कर दी गई। इसके बंद होने से पहले उक्त अस्पतालों में मरीजों की अल्ट्रासाउंड जांच की सुविधा उपलब्ध थी। हि.प्र.

जिले में 40 प्राइवेट अल्ट्रासाउंड किया गया है रजिस्ट्रेशन

भभुआ। कैमूर जिले में 40 प्राइवेट संस्थानों में अल्ट्रासाउंड जांच के लिए सीएस आफिस से रजिस्ट्रेशन किया गया है। जबकि जिलाधिकारी के निर्देश पर आशीष अल्ट्रासाउंड केन्द्र का रजिस्टे्रशन रद्द कर दिया गया है। उक्त केन्द्र पर अधिक पैसा लेने सहित अन्य शिकायत डीएम के पास की गई थी। डीएम ने सीएस को जांच का आदेश दिया। सीएस ने जांच के लिए टीम का गठन किया। टीम की जांच में शिकायत सही पाई गई, जिसके आधार पर उक्त केन्द्र का रजिस्ट्रेशन रद्द करते हुए बंद कर दिया गया। हि.प्र.

कोट

सदर अस्पताल के ओपीडी में गर्भवती महिलाओं की जांच के लिए अल्ट्रासाउंड मशीन की सुविधा है। जिले के अन्य अस्पतालों में अल्ट्रासाउंड जांच की सुविधा के लिए विभाग को लिखा गया है। मशीन उपलब्ध होते ही जांच की सुविधा मरीजों को दी जाएगी।

डॉ. मीना कुमारी, सीएस, कैमूर

फोटो- 7 जुलाई भभुआ- 2

कैप्शन- सदर अस्पताल में बुधवार को प्रसव से पूर्व स्वास्थ्य जांच के लिए आईं गर्भवती महिलाएं।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें