DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  भभुआ  ›  शहर से गांव तक झील सा नाजारा, जलनिकासी का ठोस प्रबंध नहीं (पटना का टास्क/ पेज चार की लीड खबर)
भभुआ

शहर से गांव तक झील सा नाजारा, जलनिकासी का ठोस प्रबंध नहीं (पटना का टास्क/ पेज चार की लीड खबर)

हिन्दुस्तान टीम,भभुआPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 07:50 PM
शहर से गांव तक झील सा नाजारा, जलनिकासी का ठोस प्रबंध नहीं (पटना का टास्क/ पेज चार की लीड खबर)

हर साल बरसात से पहले जलनिकासी के प्रबंध के लिए नगर परिषद व ग्राम सभा की बैठकों में बनाया जाता है प्लान

शहर की सड़कों व गांव की गलियों में जलजमाव के कारण घुटना व घुट्ठी भर पानी से होकर घरों तक पहुंच रहे लोग

भभुआ। हिन्दुस्तान संवाददाता

कैमूर में एक सप्ताह से लगातार हो रही बारिश के कारण शहर से लेकर गांव तक झील सा नजारा दिख रहा है। जलनिकासी का ठोस प्रबंध नहीं किए जाने से जलजमाव के कारण लोग कई तरह की कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं। कुछ लोगों के घरों में बारिश की पानी घुस जाने से उनका जन-जीवन प्रभावित हो गया है। हर साल बरसात से पहले जलनिकासी का ठोस प्रबंध करने के लिए ग्रामसभा, पंचायत समिति, जिला परिषद व नगर परिषद बोर्ड की बैठकों में ध्वनि मत से अफसरों व जनप्रतिनिधियों द्वारा आपसी सहमति के आधार पर प्रस्ताव पारित होता है।

लेकिन, पारित योजनाएं धरातल पर कितनी उतारी गई, यह तो समस्या ही बता रही है। बरसात के मौसम में हर साल जलजमाव की समस्या उत्पन्न हो रही है। इसका मतलब ठोस पहल नहीं हो रही है। अफसर एवं जनप्रतिधि हर बार रटा-रटाया एक ही जवाब देते हैं जलनिकासी का ठोस प्रबंध करने के लिए योजना पर काम हो रहा है। गांव की बात कौन करे, जिला मुख्याल स्थित भभुआ शहर में जलजमाव की समस्या से लोग कराह रहे हैं।

नगर परिषद कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, जलनिकासी के लिए पूर्व में बनाई गई सभी योजनाएं पूरी कर ली गई हैं। लेकिन, नई बस्तियों के बसने और उनके द्वारा नियमों के अनुसार भवन निर्माण नहीं कराए जाने से नए क्षेत्र में जलनिकासी अवरूद्ध हो रही है। जलनिकासी के लिए छह नई योजनाएं ली गई हैं, जिसका प्रस्ताव विभाग को भेजा गया है। शहर के अंदर में जलजमाव की समस्या नहीं है। बारिश थमने के बाद पानी निकल जाता है। वार्ड सात, 11 व 14 में समस्या है, लेकिन उसे दूर करने के लिए योजना बनाई गई गई है। कुछ जगहों पर सक्शन मशीन से पानी निकाला जाता है।

कलक्ट्रेट परिसर, सदर अस्पताल परिसर, प्रखंड कार्यालय जानेवाली मुख्य सड़क के अलावा कई सरकारी कार्यालय परिसर से लेकर मुहल्लों में पानी जमा है। बारिश के पानी के साथ नालियों का गंदा पानी व कचरा सड़क पर बहने से उसमें निकल रही दुर्गंध से लोगों का खड़ा होना मुश्किल हो जाता है। गुरुवार की दोपहर में शहर के विभिन्न मुहल्लों में लोगों को नाक पर रुमाल रख आते-जाते देखा गया। जबकि प्रशासन द्वारा जलजमाव की समस्या दूर करने के लिए हर साल नाला निर्माण पर करोड़ों रुपये खर्च किए जा रहे हैं।

वार्ड सात, 11 व 14 में जलमाव की समस्या गंभीर

भभुआ। नगर परिषद क्षेत्र में जलजमाव की समस्या वर्षों से बनी है। झमाझम बारिश होने पर शहर का कई इलाका जलमग्न हो जाता है। नगर परिषद कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, भभुआ शहर में सबसे अधिक जलजमाव की समस्या वार्ड सात, 11 एवं 14 में होती है। शहरवासी लल्लू जायसवाल, महेन्द्र केशरी, सुदामा प्रजापति व शंभू प्रसाद ने बताया कि प्रशासन द्वारा अगर जलमाव की समस्या के निदान के लिए वार्ड पार्षदों के अलावा आमजनों से भी राय ली जाती तो कुछ हद तक इस समस्या से मुक्ति मिल जाती। शहर में जलजमाव किन कारणों से हो रहा है और इस समस्या का निदान कैसे होगा हमलोग भी नगर परिषद प्रशासन को अपनी राय देते।

छह नाला निर्माण के लिए भेजा प्रस्ताव

भभुआ। नगर परिषद द्वारा शहर में जलजमाव की समस्या को दूर करने के लिए करीब 10 करोड़ की लागत से छह नाला निर्माण कराने के लिए नगर विकास एवं आवास विभाग के विशेष सचिव के पास प्रस्ताव भेजा गया है। शिवाजी चौक से हवाई अड्डा तक आरसीसी नाला निर्माण के लिए नगर परिषद द्वारा निविदा प्रकाशित की गई है। नगर परिषद कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, जिन छह नालों के निर्माण का प्रस्ताव भेजा गया है, उनमें शहर के वार्ड 18 में कैमूर स्तंभ से बबुरा पेट्रोल पंप तक आरसीसी नाला का निर्माण, वार्ड एक में अष्टभुजी मोड़ से हनुमान नगर होते हुए अनुसूचित जाति छात्रावास सुअरा नदीं तक, वार्ड छह में रणविजय चौक से डीएम आवास व गोपाल सिंह के मकान तक, भगवानपुर रोड में पूरब साइड, वार्ड 16 में भभुआ-मोहनियां पथ में एसबीआई बैंक से वंशी प्रसाद के घर तक नाला निर्माण, वार्ड 16 में सब्जी मंडी से चमन लाल तालाब होते हुए पंडाजी पोखरा तक नाला निर्माण एवं वार्ड एक में भभुआ-चैनपुर पथ में रामपुर कॉलोनी पथ से सुअरा नदी तक नाला का निर्माण शामिल है।

फोटो-17 जून भभुआ- 2

कैप्शन- शहर के वार्ड सात, प्रखंड कार्यालय, पुलिस लाइन में जानेवाली सड़क में जमा पानी के बीच से गुरुवार को आते-जाते लोग।

1. चांद में जलनिकासी में अतिक्रमण आ रहा आड़े

चांद। स्थानीय गांव के मुख्य पथ पर बारिश का पानी जमा होने से जलजमाव की समस्या उत्पन्न हो गई है। ग्रामीण कीचड़युक्त पानी से होकर घर आ-जा रहे हैं। नाला की उचाई सड़क से अधिक है। प्रशासन द्वारा जेसीबी मशीन से नाला की सफाई करने का प्रयास किया गया, पर दुकानदार आना-कानी कर रहे हैं। उधर, अस्पताल के बगल से गुजर रही मोहम्मदपुर पइन पर अतिक्रमण होने के कारण पानी की निकासी बंद है। किसान गणेश पाण्डेय, गुड्डू पाण्डेय, परमानन्द सिंह व घुरहू साह ने बताया कि पइन जाम होने से खेत का पानी नहीं निकल पा रहा है।

फोटो-17 जून भभुआ- 3

कैप्शन- चांद गांव में जाने वाली मुख्य गली में गुरुवार को जमा बारिश का पानी।

2. हाथ में जूता-चप्पल लेकर तय कर रहे राह

भगवानपुर। स्थानीय गांव के पुराने बाजार से होकर दक्षिण टोला तक जाने वाली गली में जलजमाव होने से लोगों को आवागमन में काफी परेशानी हो रही है। संजय कुमार गुप्ता, सिपाही कुर्मी, विकास गुप्ता, कुमार पाल, अमित सेठ, मनोज गुप्ता, पोतन साह व कमलेश तिवारी ने बताया कि बरसात के पानी की निकासी के लिए करीब एक साल के अंदर नाला का निर्माण कराया गया था। लेकिन, नाला का निर्माण उचित स्थान पर नहीं कराए जाने से बारिश होने पर जलजमाव की स्थिति उत्पन्न हो रही है। उक्त ग्रामीणों ने बताया कि गली में जलजमाव के कारण जूता-चप्पल हाथ में लेकर घरों तक आना-जाना पड़ रहा है। महिलाओं को परेशानी होती है।

फोटो-17 जून भभुआ- 5

कैप्शन- भगवानपुर गांव के पुराने बाजार से होकर दक्षिण टोला तक जाने वाली गली में जलजमाव का नजारा।

3. सांप-बिच्छू के डर से रात में नहीं आती नींद

चैनपुर। प्रखंड के साहेबाहे गांव के लोग जलजमाव की समस्या से कराह रहे हैं। गांव की गली में घुटना भर पानी जमा है। ग्रामीण गंदे पानी से होकर घरों से बाहर निकल रहे हैं। ग्रामीण अशोक बिंद, चन्द्रावती देवी व प्रमिला खातून ने कहा कि प्रशासन द्वारा पक्की गली का निर्माण तो कराया गया, पर नाली का निर्माण नहीं किए जाने से बरसात के मौसम में घुटनाभर पानी जमा हो जा रहा है। महिलाओं ने यह भी कहा कि गली में जलजमाव के कारण हमलोगों को काफी परेशानी हो रही है। रात में नींद भी नहीं लग रही है। मन में इस बात का भय बना रहता है कि कहीं पानी से होकर सांप-बिच्छू घर में नहीं प्रवेश कर जाएं। बच्चों का ख्याल रख रहे हैं।

फोटो-17 जून भभुआ- 4

कैप्शन- चैनपुर प्रखंड के साहेबाहे गांव की गली में गुरुवार को जमा घुटना भर पानी।

4. महिलाओं, वृद्धों व बच्चों को बाहर निकलना मुश्किल

रामपुर। प्रखंड की सबार पंचायत में स्थित मझियांव गांव के वार्ड नम्बर 12 की गली बारिश के पानी से जलमग्न हो गया है। ग्रामीण दिनेश पांडेय, विनय भारती, मुकेश कुमार, मालती देवी व कमला देवी ने बताया कि गली में जलजमाव के कारण घरों से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। गंदे पानी से होकर आने-जाने के कारण पैर सड़ गया है। जलनिकासी का प्रबंध नहीं होने से मुख्य गली में घुटनाभर पानी जमा हो गया है। गली में पानी जमा होने से छोटो-छोटे बच्चों की हमेशा निगरानी करनी पड़ रही है, ताकि वह खेलने के दौरान कहीं पानी में नहीं चले जाएं। महिलाओं, वृद्धों व बच्चों को घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है।

फोटो-17 जून भभुआ- 6

कैप्शन- रामपुर प्रखंड स्थित सबार पंचायत के मझियांव गांव की गली में गुरुवार को जलजमाव की नजारा।

त्रिलोक जिलाध्यक्ष व अमित मुख्य प्रवक्ता बने

भभुआ। युवा जदयू का त्रिलोक कुमार को जिलाध्यक्ष व अमित कुमार पाठक को मुख्य प्रवक्ता नियुक्त किया गया है। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और संगठन के प्रदेश अध्यक्ष श्याम पटेल जी को साधुवाद दिया है। द्वय नेताओं ने कहा कि सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का लाभ समाज के अंतिम पायदान तक के लोगो को मिले, इसके लिए काम करेंगे और जिला में संगठन के मजबूती के लिए भी कार्य करते रहेंगे। त्रिलोक व अमित की नियुक्ति पर अनिल चौरसिया, अजीत पटेल, मोहम्मद जियाउद्दीन, सोनू गुप्ता, विकास पटेल, रवि भूषण तिवारी, गोलू पटेल आदि ने पार्टी व संगठन के शीर्ष नेताओं को साधुवाद दिया है।

संबंधित खबरें