DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › भभुआ › मुखिया प्रत्याशी ने आवंटित चुनाव चिन्ह लेने से किया इंकार (प्रादेशिक/पेज तीन)
भभुआ

मुखिया प्रत्याशी ने आवंटित चुनाव चिन्ह लेने से किया इंकार (प्रादेशिक/पेज तीन)

हिन्दुस्तान टीम,भभुआPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 08:01 PM
मुखिया प्रत्याशी ने आवंटित चुनाव चिन्ह लेने से किया इंकार (प्रादेशिक/पेज तीन)

कहा, हाईकोर्ट ने आठ अक्टूबर को दिया था निर्देश, पर सोमवार को मिला

मुखिया पद का चुनाव रद्द नहीं करने पर न्यायालय में जाने की कही बात

चांद। एक संवाददाता

प्रखंड की लोहदन पंचायत का चर्चित मामला एक बार फिर चर्चा का विषय बन गया, जब सोमवार को मुखिया पद की प्रत्याशी हीरावती देवी ने आवंटित चुनाव-चिन्ह को लेने से इंकार कर दिया। हीरावती का कहना था कि निर्वाचन आयोग के लिए सभी उम्मीदवार समान हैं। सभी के लिए समान नियम बनाया गया है। आठ अक्टूबर को हाई कोर्ट का आदेश पत्र दिए जाने के बाद भी निर्वाची पदाधिकारी ने 11 अक्टूबर को प्रत्याशी बनाकर चुनाव चिन्ह आवंटित किया। उनकी मंशा में खोट है। हमारी मांग है कि मुखिया पद का चुनाव रद्द कर बाद में कराया जाय, ताकि हमें भी प्रचार-प्रसार करने का समय सभी के बराबर मिल सके। ऐसा नही हुआ तो निर्वाची पदाधिकारी के खिलाफ कोर्ट मे जाउंगी। इस आशय का आवेदन हीरावती देवी ने डीएम, जिला पंचायती राज पदाधिकारी, निर्वाची पदाधिकारी सह बीडीओ को देने के लिए तैयारी की जा रही थी।

इस बावत बीडीओ शशिभूषण साहू ने बताया कि मैंने जिला से मार्ग दर्शन मिलते ही नाम निर्देशन पत्र को स्वीकृत कर प्रपत्र 9 में नाम सम्मिलित कर प्रतीक चिन्ह आवंटित कर दिया है। इसकी लिखित सूचना हीरावती देवी सहित लोहदन के सभी प्रत्याशियों को भी दे दी गई है। अभी पंचायत सेवक लौटकर नहीं आया है। उसके लौटने पर पता चलेगा कि हीरावती देवी ने क्या किया। वैसे उनके पति यमुना पासवान टेलिफोनिक सूचना दिए हैं कि हम इसे स्वीकार नहीं करते हैंं।

मालूम हो कि हाईकोर्ट के निर्देश पर हीरावती देवी का नाम निर्देशन पत्र 1 अक्टूबर 2021 को भरा गया। चार क्टूबर को संवीक्षा के दौरान आवेदन को अस्वीकृत किया गया। तब बीडीओ ने कहा था उम्मीदवार नहीं बनाने का पंचायती राज पटना के आदेश के आलोक में निर्णय लिया गया था। पुन: 8 अक्टूबर को हाइ कोर्ट का आदेश आया कि इन्हें उम्मीदवार घोषित कर सिंबल दिया जाय। इस आलोक में बीडीओ ने डीएम से मार्गदर्शन मांगा। मार्गदर्शन मिला तो 11 अक्टूबर को निर्वाची पदाधिकारी ने हीरावती देवी के नाम निर्देशन पत्र को स्वीकृत करते हुए प्रपत्र 9 मे नाम सम्मिलित करते हुए अंतिम क्रमांक पर प्रतीक चिन्ह ‘छड़ी आवंटित किया।

संबंधित खबरें