DA Image
30 नवंबर, 2020|4:44|IST

अगली स्टोरी

नगर परिषद ने शुरू कराई शहर के छठ घाटों की सफाई

default image

छठ को ले अभी नहीं आई गाइडलाइन पर अचानक निर्देश मिलने पर सफाई कराने में नगर परिषद को हो सकती है परेशानी

शहर के कल्याण छात्रावास स्थित सुअरा नदी घाट से शुरू हुई सफाई

नदी पर ही हैं तीन घाट, शहर के अंदर कई सरोवरों में देते हैं अर्घ्य

20 सफाईकर्मी लगाए गए हैं इस कार्य में

04 दिवसीय छठ महापर्व18 से होगा शुरू

भभुआ। कार्यालय संवाददाता

नगर परिषद ने छठ घाटों व शहर की सफाई के लिए कमर कस ली है। हालांकि कोरोना काल में अर्घ्य देने को लेकर अभी तक गाइडलाइन नहीं आई है। लेकिन, नगर परिषद का मानना है कि अगर अचानक निर्देश मिलेगा तो छठ घाटों की सफाई व व्यवस्थित कराने में परेशानी हो सकती है। इसलिए रविवार से छठ घाटों की सफाई शुरू करा दी गई है। पहले दिन कल्याण छात्रावास के पास स्थित सुअरा नदी घाट की सफाई कराई जा रही है। नगर परिषद के प्रबंधक इसराफिल अंसारी के नेतृत्व में शुरू कराए गए सफाई कार्य की मॉनिटरिंग सफाई निरीक्षक कुमार संजीव राज, सफाई जमादार शिव कुमार, रौशन तिवारी, पिंटू कुमार कर रहे हैं।

नगर प्रबंधक ने बताया कि शहर की सुअरा नदी स्थित छात्रावास घाट, कंचननगर घाट, अटलबिहारी हाई स्कूल के अलावा राजेंद्र सरोवर, पूरब पोखरा, ब्रहम्चारी पोखरा, बाबाजी पोखरा, वार्ड 20 में गवई पोखरा आदि घाटों की सफाई कराई जाएगी। नदी घाटों में लगी झाड़ी, घास-फूंस की सफाई कराकर उसके पिंड को समतल किया जाएगा। अगर कोरोना काल में घाटों पर अर्घ्य देने का निर्देश मिलता है तो वहां लाइट-बत्ती, सुरक्षा, चेंजिंग रूम, बैरिकेडिंग आदि का प्रबंध भी किया जाएगा।

नगर परिषद ने शहर के सभी छठ घाटों की सफाई युद्ध स्तर पर कराने का प्लान बनाया है। इसके अलावा शहर के मोहल्लों में भी सफाई अभियान तेज किया गया है। सड़क किनारे व चौक-चौराहों पर जमा कूड़े का उठाव किया जा रहा है। ट्रैक्टर के साथ सफाई मजदूर भी चल रहे हैं। ट्रैक्टर को खड़ा कर जमा कूड़े को उसपर लोड किया जा रहा है। मुहल्लों की गलियों में ठेला गाड़ी से कूड़े का उठाव कराया जा रहा है। दो शिफ्ट में नगर परिषद सफाई अभियान चला रही है।

चौक-चौराहों पर भी डंप किए गए कचरे का उठाव किया जा रहा है। सड़कों पर ट्रैक्टर, तो संकरी गलियों में टीपर से कचरे का उठाव किया जा रहा है। नगर प्रबंधक ने कहा कि सफाई को लेकर कोई समझौता नहीं किया जाएगा। छठ घाटों की सफाई के लिए विशेष सफाई कर्मियों को तैनात किया गया है। वह सिर्फ छठ घाट व उसके आसपास के स्थलों की पूरी तरह सफाई करेंगे। छठ घाटों पर सुरक्षा के लिए बांस से घेराबंदी भी की जाएगी।

ब्लीचिंग व चूना पाउडर का होगा छिड़काव

अगर कोरोना काल में घाटों पर अर्घ्य देने का निर्देश मिलता है तो नगर परिषद द्वारा तालाब के पानी को स्वच्छ बनाने के लिए ब्लीचिंग पाउडर व चूना का छिड़काव किया जाएगा। छठ घाट पहुंच पथ में लाइनिंग की जाएगी। गोताखोरों का प्रबंध किया जाएगा। समाजसेवी भी मुहल्लों, गलियों व सड़कों की सफाई कर पानी का छिड़काव करते हैं। लाइट-बत्ती का भी इंतजाम करते हैं। कहीं-कहीं भगवान सूर्य की मूर्ति भी रखी जाती है।

छठ पूजा उत्सव

छठ पूजा चार दिनों तक चलने वाला लोक महापर्व है। यह चार दिवसीय उत्सव है, जिसकी शुरुआत कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से होती है और कार्तिक शुक्ल सप्तमी को इस महापर्व का समापन होता है।

नहाय-खाय (पहला दिन)

यह छठ पूजा का पहला दिन है। नहाय-खाय से मतलब है कि इस दिन स्नान के बाद घर की साफ-सफाई की जाती है और मन को तामसिक प्रवृत्ति से बचाने के लिए शाकाहारी भोजन किया जाता है।

खरना (दूसरा दिन)

खरना, छठ पूजा का दूसरा दिन है। खरना का मतलब पूरे दिन के उपवास से है। इस दिन व्रत रखने वाले व्यक्ति जल की एक बूंद तक ग्रहण नहीं करते हैं। संध्या के समय गुड़ की खीर, घी लगी हुई रोटी और फलों का सेवन करते हैं। साथ ही घर के सदस्य, मित्र, नाते-रिश्तेदार भी प्रसाद ग्रहण करते हैं।

संध्या अर्घ्य (तीसरा दिन)

छठ पर्व के तीसरे दिन कार्तिक शुक्ल षष्ठी को संध्या के समय सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाता है। शाम को बांस की टोकरी में फलों, ठेकुआ, चावल के लड्डू आदि से अर्घ्य का सूप सजाया जाता है, जिसके बाद व्रति अपने परिवार के साथ सूर्य को अर्घ्य देते हैं। अर्घ्य के समय सूर्य देव को जल और दूध अर्पित किया जाता है और प्रसाद भरे सूप से छठी मैया की पूजा की जाती है। सूर्य देव की उपासना के बाद रात्रि में छठी माता के गीत गाए जाते हैं और व्रत कथा सुनी जाती है।

उषा अर्घ्य (चौथा दिन)

छठ पर्व के अंतिम दिन सुबह के समय सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाता है। इस दिन सूर्योदय से पहले नदी के घाट पर पहुंचकर उगते सूर्य को अर्घ्य देते हैं। इसके बाद छठ माता से संतान की रक्षा और पूरे परिवार की सुख-शांति की प्रार्थना की जाती है। पूजा के बाद व्रति प्रसाद ग्रहण कर पारण करते हैं।

फोटो- 01 नवंबर भभुआ- 5

भभुआ- शहर के कल्याण छात्रावास स्थित सुअरा नदी घाट की रविवार को सफाई करते नगर परिषद के सफाईकर्मी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The city council started cleaning the Chhat Ghats of the city