DA Image
5 अगस्त, 2020|7:06|IST

अगली स्टोरी

नमाज पढ़ रब की रजामंदी पर उनकी राह में दी कुर्बानी

default image

इस बार कुछ अलग तरीके से मनाया गया ईद-उल-अजहा का पर्व

मस्जिदों में मौलाना के साथ चंद लोग ही अदा कर सकें नमाज

52 भभुआ में बनाए गए हैं ड्यूटी प्वाइंट

104 पदाधिकारियों की लगी है ड्यूटी

भभुआ। कार्यालय संवाददाता

कोरोना काल में अकीदतमंदों ने कुछ अलग तरीके से ईद-उल-अजहा का पर्व मनाया। इस बार मस्जिदों में मौलाना व हाफिज के साथ चंद लोग ही नमाज अदा कर सकें। वह भी सोशल डिस्टेंसिंग के दायरा में रहकर। घरों में भी इसी तरह नमाज पढ़ी गई। नमाज पढ़ने के बाद अकीदतमंदों ने रब की रजामंदी पर उनकी राह में दुम्बा की कुर्बानी दी। बच्चों के लिए न कहीं मेला लगा और न उन्हें घूमने का मौका ही मिला। दोस्तों से भी मिलने उनके घर नहीं जा सकें। अंसार बिल्ला में 9:30 बजे मौलाना अयूब अंसारी ने नमाज अदा कराई।

बकरीद पर मस्जिदों में मौलाना के पीछे कहीं चार तो कहीं पांच लोग ही नमाज पढ़ सकें। वह भी आपस में दूरी बनाकर। मौलाना ने अपील कर रखी थी कि ईद-उल-अजहा की नमाज तो घर में पढ़ें ही, किसी से मिलने न जाएं, बल्कि फेसबुक, व्हाट्सऐप, ट्वीटर और वीडियो, ऑडियो या अन्य तरीके से मैसेज भेज मुबारकबाद दें। तमाम मस्जिदें बंद हैं। सिर्फ चंद लोग जो मस्जिदों में रहते हैं वही वहां नमाज अदा कर सकते हैं। इस फरमान को सभी ने माना और घरों में ही नमाज अदा की।

बकरीद पर सामूहिक नमाज पढ़ने और खुले में कुर्बानी देने को ले सभी ने परहेज किया। कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए लोगों ने इसे अपनाया। कुछ दिनों से जिले में कोरोना के नए मामलों में काफी तेजी देखने को मिल रही है। पहली ऐसी बकरीद थी, जिसमें न तो लोग समूह में मस्जिदों में नमाज पढ़ें, न किसी के घर गए, न हाथ मिलाएं, न गले मिलें। मुस्लिम धर्मगुरुओं ने इसे अपनाने की सलाह दी थी।

इमारतों को कभी किसी ने इतना तन्हा नहीं देखा होगा। लग रहा था कि इमारतें खड़ी हैं, लेकिन उनका दीदार करने वाला कोई नहीं। भभुआ शहर के किसी मस्जिद में सामूहिक रूप से नमाज नहीं पढ़े गए। बाजार से जरूरत की सामग्री भी जैसे-तैसे खरीद करनी पड़ी। हर तरह की दुकानें खुली नहीं थीं। जो बाजारपर गुलजार रहता था, गलियों में लोगों की आवाजाही लगी रहती थी, एक-दूसरे के गले मिल मुबारकबाद देते थे, एक-दूसरे के घरों में जाकर दावत कबूल करते थे, वहां ऐसा कुछ नहीं दिखा।

बकरीद पर यहां लगी थी इनकी ड्यूटी

बकरीद पर भभुआ शहर के जगजीवन स्टेडियम के पास सहायक सांख्यिकी पदाधिकारी महेन्द्र कुमार सिंह, एकता चौक के पास प्रखंड कल्याण पदाधिकारी ब्रजेश कुमार, महावीर स्थान के पास कनीय अभियंता दिवाकर तिवारी, सीवों चौक कनीय अभियंता शशिभूषण पाठक, पूरब मुहल्ला कनीय अभियंता चंद्रमणि प्रसाद, शिवाजी चौक कनीय अभियंता सुरेन्द्र सिंह, छावनी मुहल्ला सहायक अभियंता भूपेश कुमार, मदरसा चौक कनीय अभियंता विरेन्द्र कुमार, नवाबी मुहल्ला में प्रखंड कल्याण पदाधिकारी अशोक कुमार, वार्ड 15 में मस्जिद के पास प्रफुल्ल चंद नाग के नेतृत्व में पुलिस पदाधिकारी व जवानों की ड्यूटी लगी थी।

ग्रामीण क्षेत्र में भी तैनात रहे अफसर

भभुआ नगर थाना क्षेत्र में भी सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया था। रुइयां में कनीय अभियंता अरुण कुमार, सिकठी में कनीय अभियंता मुकेश कुमार, बबुरा में कनीय अभियंता अश्विनी कुमार, कुंज कनीय अभियंता अरविन्द कुमार रजक, कुड़ासन में कनीय अभियंता सुमन कुमार, सोनहन थाना क्षेत्र के खैरा में पंचायत तकनीकी सहायक रजनीकांत पांडेय व एकौनी में भ्रमणशील पशु चिकित्सका पदाधिकारी के साथ पुलिस अफसर व जवान प्रतिनियुक्त किए गए हैं।

तीन शिफ्ट में लगी है ड्यूटी

डीएम डॉ. नवल किशोर चौधरी व एसपी दिलनवाज अहमद ने बताया कि जिले में बकरीद व रक्षा बंधन पर्व को देखते हुए तीन दिनों तक तीन शिफ्ट में मजिस्ट्रेट, पुलिस अफसर व जवानों की ड्यूटी लगाई गई है। चौक-चौराहा के अलावा गश्ती दल की भी तैनाती की गई है। दंगा नियंत्रण दल भी भ्रमणशील है। मिली जानकारी के अनुसार, भभुआ अनुमंडल के शांति व्यवस्था को ले शहर में 12, भभुआ थाना क्षेत्र में पांच, सोनहन थाना क्षेत्र में दो, भगवानपुर में चार, चैनपुर में 11, चांद में पांच, बेलाव में चार, अधौरा में तीन ड्यूटी प्वाइंट बनाए गए हैं।

भगवानपुर में भी पढ़ी गई नमाज

भगगवानपुर। प्रखंड मुख्यालय भगवानपुर, टोड़ी, रामगढ़, औसान, कोचाड़ी आदि गांवों में ई-उल-अजहा की नमाज पढ़ी गई। अकीदतमंदों ने घरों में नमाज पढ़ी। ग्रामीण क्षेत्र के कुछ मस्जिदों में नमाज पढ़ने अकीदतमंद गए थे। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया। कोचाड़ी में कृषि समन्वयक विनोद कुमार सिंह, टोड़ी में सीओ विनोद कुमार, औसान में अंचल निरीक्षक रामाशंकर पांडेय, रामगढ़ में कृषि समन्वयक रामेश्वर तिवारी की ड्यूटी पुलिस अफसर व जवानों के साथ लगाई गई है।

चैनपुर में ज्यादा सतर्क रहे अफसर

चैनपुर। प्रखंड क्षेत्र के अधिकांश अकीदतमंदों ने घरों में नमाज पढ़ी। कुछ लोग मस्जिदों में भी पहुंचे थे। थाना क्षेत्र में सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम था। प्रखंड मुख्यालय के हरसुब्रह्म धाम मोड़ पर कृषि समन्वयक सोनू कुमार, चैनपुर जामा मस्जिद के पास कृषि समन्वयक प्रवीण कुमार सिंह, मलिक सराय बीपीएम जीविका राकेश कुमार, मुगलपूरा में पंचायत तकनीकी सहायक विजय बहादुर तिवारी, हाटा बाजार सीओ पुरेन्द्र कुमार, सिरबिट में कृषि समन्वयक सुरेन्द्र त्रिपाठी, मुड़ी में कृषि समन्वयक प्रभाकर पांडेय, बिउर में मृत्युंजय सिंह, सिकन्दरपुर में कृषि समन्वयक अमीत कुमार सिंह, इसियां में प्रखंड तकनीकी सहायक संदीप कुमार मौर्य, करजी-करजांव में पंचायत तकनीकी सहायक योगेन्द्र कुमार सिंह की पुलिस पदाधिकारी व जवानों की प्रतिनियुक्ति की गई है।

रामपुर, चांद व अधौरा में रही चौकसी

रामपुर/चांद/अधौरा। रामपुर, अधौरा व चांद प्रखंड में शांतिपूर्ण माहौल में बकरीद पर्व मनाया गया। सुरक्षा चौकस रही। रामपुर के बेलांव थाना क्षेत्र में चार जगहों पर अफसरों के साथ जवान तैनात थे। चांद में प्रखंड सहकारिता पदाधिकारी सुबोध मरांडी, करवंदिया में कृषि समन्वयक दिनेश तिवारी, पतेरी में मनोज कुमार पांडेय, भटानी में बीपीएम जीविका अरुण कुमार, लोहदन में कृषि समन्वयक रमेश कुमार, अधौरा के मड़पा में प्रखंड सांख्यिकी पदाधिकारी शंभू सिंह, चैनपुरा में प्रखंड कृषि पदाधिकारी मोहन कुमार व बभनी में कृषि समन्वयक देवेन्द्र कुमार सिंह शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस पदाधिकारी व जवानों के साथ तैनात किया गया है।

फोटो- 01 अगस्त भभुआ- 1

कैप्शन- लॉकडाउन के दौरान शनिवार की सुबह में शहर के अंसार बिल्ला में ईद-उल-अजहा की नमाज अदा करते अकीदतमंद।

फोटो- 01 अगस्त भभुआ- 2

कैप्शन- लॉकडाउन के दौरान शनिवार की सुबह नमाज पढ़ने के बाद वार्ड 18 में गले मिलते अकीदतमंद।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Offer prayers on the approval of God in prayer