Saturday, January 22, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार भभुआअब आदर्श आचार संहिता के बुखार में तपेंगे नेता

अब आदर्श आचार संहिता के बुखार में तपेंगे नेता

हिन्दुस्तान टीम,भभुआNewswrap
Fri, 25 Sep 2020 08:41 PM
अब आदर्श आचार संहिता के बुखार में तपेंगे नेता

आचार संहिता लागू होने के बाद भी दिख रहे हैं बैनर-होर्डिंग्स

प्रशासन द्वारा प्रचार सामग्री हटाने पर देना पड़ सकता है खर्च

भभुआ। कार्यालय संवाददाता

कैमूर में सात नवंबर को चुनाव होगा। राजनीतिक दल और उसके नेता सतर्क हो जाएं। आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है। पोस्टर-बैनर, होर्डिग्स को स्वत: हटा लें। अगर उनकी प्रचार सामग्री को जिला प्रशासन हटवाता है, तो उसका खर्च उनसे वसूल सकता है। उनपर मुकदमा हो सकता है। उन्हें आचार संहिता के बुखार में तपना पड़ सकता है। कोर्ट-कचहरी की नौबत आने से पहले ही वह बैनर-होर्डिंग्स उतार लें। दीवार लेखन को मिटा दें।

मालूम हो कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराने के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने आचार संहिता लागू कर दी है। इसके कुछ नियम बनाए गए हैं। इन्हीं नियमों को आचार संहिता कहते हैं। विधानसभा चुनाव के दौरान इन नियमों का पालन करना सरकार, नेता और राजनीतिक दलों की जिम्मेदारी होती है। आयोग द्वारा चुनाव की तारीख की घोषण करते ही आचार संहिता लागू हो गई है।

मिली जानकारी के अनुसार, आदर्श आचार संहिता तब तक लागू रहती है जब तक मतों की गिनती पूरी न हो जाए और चुनाव परिणाम घोषित न कर दी जाएग। मतलब चुनाव की तारीख की घोषण से लेकर वोटों की गिनती होने तक आचार संहिता लागू रहेगी।

नियमों का करना होगा पालन

आचार संहिता लागू होने तक कोई राजनीतिक दल या नेता मतदाताओं को अपने पक्ष में करने के लिए धन या किसी की सामग्री का लालच नहीं दे सकते हैं। इसकी पुष्टि होने पर मुकदमा हो सकता है। सरकारी गाड़ी, सरकारी विमान या सरकारी बंगले का इस्तेमाल चुनाव प्रचार के लिए नहीं किया जा सकता है। किसी भी तरह की सरकारी घोषणा, लोकार्पण, शिलान्यास आदि नहीं होगा। किसी भी चुनावी रैली में धर्म या जाति के नाम पर वोट मांगने पर प्रतिबंध रहेगा। किसी भी राजनीतिक दल, प्रत्याशी, राजनेता या समर्थकों को रैली करने से पहले अनुमति लेनी होगी।

उल्लंघन करने पर कार्रवाई

आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करनेवालों के खिलाफ थानों में मुकदमा होगा। फिर नेताओं को न्यायालय से जमानत लेनी पड़ेगी। इसलिए इसके नियमों का सख्ती से पालन करना जरूरी है। चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन पर दंडात्मक कार्रवाई की जा सकती है।

इनसेट

आचार संहिता की होती रही चर्चा

भगवानपुर। विधानसभा चुनाव को ले आयोग द्वारा शुक्रवार को आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू किए जाने के बाद इसकी चर्चा पूरे दिन होती रही। स्थानीय चौक पर कांग्रेस के प्रखंड अध्यक्ष छोटेलाल पांडेय, जदयू के प्रखंड अध्यक्ष जितेंद्र सिंह, परमानंद पांडेय आदि को यह चर्चा करते सुना गया कि अब सभी तरह के पोस्टर, बैनर, होर्डिंग्स हट जाएंगे। चाहे वह सरकारी योजनाओं का हो या फिर किसी पार्टी या नेता का। बीडीओ मयंक कुमार सिंह ने बताया कि पोस्टर-बैनर, होर्डिंग्स हटाए जाएंगे। जिस दल के बैनर-पोस्टर नहीं हटाए जाएंगे, उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

फोटो- 25 सितंबर भभुआ- 9

कैप्शन- आचार संहिता लागू होने के पहले दिन रामपुर के बेलांव बाजार में लगा होर्डिंग्स।

epaper

संबंधित खबरें