DA Image
22 सितम्बर, 2020|7:39|IST

अगली स्टोरी

एक दिन में शादी निपटाने का परिजन कर रहे प्रयास

default image

शादी को यादगार बनाने की दूल्हा-दुल्हन की पूरी नहीं हो सकेगी तमन्ना

पसंदीदा डिजायन में आभूषण बनाने का अभी से दिया जा रहा है ऑर्डर

भभुआ। कार्यालय संवाददाता

कोरोना काल में भाग-दौड़ करने से बचने के लिए एक दिन में ही शादी की सभी रस्में पूरी करने में अधिकांश वर-वधू पक्ष के लोग सोच रहे हैं। इससे न सिर्फ समय बल्कि खर्च की भी बचत होगी। गरीब तबका के लोग मंदिर, पोखरा व अन्य जगहों पर शादी करने का प्लान बना रहे हैं, तो संपन्न लोग लॉन से शादी करने पर विचार कर रहे हैं। कुछ लोग तो इसे अमलीजामा पहनाने के लिए बुकिंग भी शुरू कर दिए हैं। लेकिन, शादी का यादगार बनाने की तमन्ना दूल्हा-दुल्हन दोनों को मलाल रह जाएगा। क्योंकि शादी समारोह में 100 लोगों से ज्यादा की भागीदारी नियम के खिलाफ होगी।

शहर के आमोद कुमार बताते हैं कि तिलक, हल्दी व विवाह करने की रस्म एक दिन में पूरी करने का रिवाज बढ़ने लगा है। कोरोना काल में इसे और अपनाया जाएगा। भाग-दौड़ के जीवन में अधिकांश लोग चाहते हैं कि एक दिन में एक जगह सब कुछ पूरी कर ली जाए। ऐसे लोगों का मानना है कि इससे दोनों पक्षों का खर्च व समय की बचत होगी। महिलाएं, रिश्तेदार, इष्ट-मित्र की संख्या कम होगी। शादी-विवाह के लिए जारी नियम के अनुसार परिजन खास लोगों की सूची तैयार कर रहे हैं, जिन्हें शादी में आमंत्रित करना है।

हर कोई शादी को यादगार बनाना चाहता है। परिजनों का भी शौक होता है। दूल्हा-दुल्हन भी यही चाहते हैं। लड़कियों की शादी हो और साज-सज्जा, शृंगार, चेहरे पर चमक-दमक न रहे ऐसा हो ही नहीं सकता। इसीलिए तो सजावाट के लिए ज्वेलरीवाले, ब्यूटीशियन, मेहंदी सजानेवाली महिलाओं की बुकिंग अभी से ही हो रही है। हाइड्रोलिक वरमाला स्टेज की आकर्षक सजावट का ऑर्डर दिया जा रहा है। लड़केवाले भी पीछे नहीं रहते हैं। वह भी रथ, बैंडबाजा, रोड लाइट के साथ सड़कों पर धूम मचाने की सोचते हैं। लेकिन, इस बार कोरोना काल में कार्यक्रम सीमित होगा।

पसंदीदा डिजायन के बन रहे आभूषण

दुल्हन को बरनेत में चढ़ाने की बात हो या फिर मां-पिता, भाई-बहनों द्वारा गिफ्ट देने की बारी हो लोग दुल्हन की शारीरिक बनावट और उसकी पसंद के आभूषण के डिजायन का आर्डर ज्वेलरी दुकानों पर दिया जा रहा है। कहते हैं कि दुल्हन का अन्य शृंगार में आभूषण भी महत्वपूर्ण है। पैरों में घुंघरु वाले पायजेब तो कमर में कमरधनी की छनछन करती मधुर आवाज पुरुष अभिभावकों को यह अहसास कराती है कि बहू घर में है या आंगन में।

बुकिंग व खरीदारी हो गई शुरू

जिनके घरों में शादी की तारीख तय हो गई है वह तैयारी में व्यस्त हैं। कारोबारी भी ऐसे मौके को भुनाने में पीछे रहना नहीं चाह रहे हैं। ऐसे में सभी की व्यस्तता बढ़ चली है। लोग हलवाई, दूध, पंडित, लग्जरी गाड़ी, बैंड बाजा पार्टी, डीजे, आभूषण, फर्नीचर, सजावट, विवाह मंडप, मैरिज हाल आदि की बुकिंग होने लगी है। दुल्हन को सजाने वाली ब्यूटीशियन व वरमाला स्टेज सजाने वालों की भी बुकिंग शुरू हो गई है। कपड़ों, दूल्हे व दुल्हन को गिफ्ट देने व शृंगार सामग्री की खरीदारी अभी से की जा रही है।

फोटो-01 सितम्बर भभुआ- 15

कैप्शन- शहर के एकता चौक पर स्थित एक दुकान पर मंगलवार को शृंगार की खरीदारी करतीं युवति व महिलाएं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Family members are trying to settle the wedding in one day