DA Image
Friday, December 3, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार भभुआबालू की कमी से कैमूर में निर्माण कार्य की योजनाएं प्रभावित

बालू की कमी से कैमूर में निर्माण कार्य की योजनाएं प्रभावित

हिन्दुस्तान टीम,भभुआNewswrap
Sun, 17 Oct 2021 08:40 PM
बालू की कमी से कैमूर में निर्माण कार्य की योजनाएं प्रभावित

विभिन्न बाजारों में दुकानदारों द्वारा काफी महगे दाम पर बेचा जा रहा है बालू

डिहरी ऑनसोन एवं विभिन्न स्थानों पर खनन बंद होने से उत्पन्न है परेशानी

भभुआ। हिन्दुस्तान संवाददाता

बालू की कमी से कैमूर जिले में निर्माण कार्य प्रभावित हो गया है। वहीं सरकार के द्वारा संचालित भवन निर्माण के विभिन्न योजनाएं भी प्रभावित हो गई है। फिलहाल डिहरी ऑनसोन में स्थित सोन नदी एवं जिले में स्थित विभिन्न नदियों में बालू के खनन पर प्रतिबंध लगाए जाने से काफी दिनों से बाजारों में बालू नहीं आ रहा है। जबकि जो दुकानदार पहले से ही स्टॉक करके रखे हुए बालू को काफी महंगे दाम पर बेच रहे है। इस कारण इन दिनों पक्का का मकान बनाना सबके बूते की बात नहीं रह गई है। जिले में स्थानीय क्षेत्र के अभियंत्रण कार्य संगठन व भवन निर्माण विभाग के द्वारा योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है। निर्माण कार्य में लगे संवेदक एवं इंजीनियरों की माने तो बालू के अभाव में कई योजनाओं पर काम प्रभावित है। नाम नहीं छापने के शर्त पर संवेदक ने बताया कि विभाग द्वारा प्राकल्लन में कम दर पर बनाया गया है, जबकि बालू की कीमत दो गुना अधिक है। ऐसे में बाजारों से महंगा दाम पर बालू खरीदकर काम कराने में घर की पूजी भी गवानी पड़ेगी। बताया जाता है कि चार से छह माह पहले बाजार में दो फिट ट्राली वाले बालू का दाम करीब चार से पांच हजार रुपये था। जबकि फिलहाल दो फिट की ट्राली में लोड बालू छह से सात हजार रुपये में मील रहा है। उधर शहर के वार्ड 19 में मकान में काम लगाए महेन्द्र केशरी, सुनिल प्रजापति एवं राजेन्द्र मल्लाह ने यह बताया कि एक माह पहले जब काम शुरु हुआ था तो बाजार में पर्याप्त मात्रा में बालू उपलब्ध था। इधर करीब दो सप्ताह से बालू की कमी हो गई है। उक्त लोगों ने बताया कि बालू की कमी से एक माह से मकान निर्माण का काम प्रभावित है। बाजार में मिल रहे महंगे दाम पर बालू खरीदकर मकान बनाना हमलोगों के बूते की बात नहीं है। यह तो एक उदाहरण है ऐसे कई लोग है जिनका बालू के आभाव में मकान निर्माण का काम बाधित हो गया है। उधर बालू का खनन बंद होने से ट्रक वालों की आमदनी भी बंद हो गई है। ट्रक एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष राजेश कुमार सिंह ने बताया कि बालू का खनन बंद होने से कोरोबार प्रभावित हो गया है। इतना ही नहीं ट्रक पर काम करने वाले ड्राइवर व खलासी भी अपने परिवार का परवरिश करते है। पर बालू घाट बंद होने से दोनों का रोजगार छीन गया है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें