DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › भभुआ › भोजन का प्रबंध नहीं होने से स्कूल में कम आ रहे बच्चे (युवा पेज की लीड खबर)
भभुआ

भोजन का प्रबंध नहीं होने से स्कूल में कम आ रहे बच्चे (युवा पेज की लीड खबर)

हिन्दुस्तान टीम,भभुआPublished By: Newswrap
Wed, 15 Sep 2021 08:10 PM
भोजन का प्रबंध नहीं होने से स्कूल में कम आ रहे बच्चे (युवा पेज की लीड खबर)

मार्च 2020 से स्कूलों में बंद है एमडीएम, छात्रों के खाते में मेगा सॉफ्ट से मिल रही राशि

विद्यालयों के एचएम को खाता खोलने मिला है निर्देश, 21 सितंबर तक खोलना है खाता

ग्राफिक्स

4.97 रुपए मिलता है प्राथमिक विद्यालय के छात्रों को

7.45 रुपए मिलता है मध्य विद्यालय के छात्रों को

इंट्रो

कोरोना संक्रमण की रफ्तार मंद पड़ने के बाद विद्यालय खुले तो आधी उपस्थिति के साथ छात्रों की पढ़ाई कराने का निर्देश मिला था। तब कुछ दिनों तक छात्रों की उपस्थिति ठीक दिखी। लेकिन, धीरे-धीरे छात्रों की उपस्थिति कम होने लगी। अब पूरी उपस्थिति के साथ पढ़ाई कराने का निर्देश मिला है। हालांकि विद्यालयों में कोरोना संक्रमण को लेकर एमडीएम बंद है। छात्रों को विद्यालयों में भोजन नहीं मिल रहा है। उन्हें एमडीएम के बदले सूखा अनाज और खाते में मेगा सॉफ्ट के माध्यम से राशि भेजी जा रही है। हालांकि एचएम को भी एमडीएम हेड का खाता खोलने का निर्देश दिया जा चुका है।

भभुआ। एक प्रतिनिधि

विद्यालयों में मार्च 2020 से एमडीएम बंद है। हालांकि कोरोना संक्रमण के बढ़ते रफ्तार की वजह से विद्यालय बंद थे। अब कोरोना का प्रभाव कम होने के बाद विद्यालय खुल गए हैं। लेकिन, छात्रों के स्कूल जाने के बाद उनके दोपहर के भोजन का प्रबंधन नहीं हो रहा है। इस वजह से ग्रामीण इलाकों के स्कूलों में छात्रों की उपस्थिति में कमी आई है। शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने विद्यालय के निरीक्षण के क्रम में पाया कि जिले के प्राथमिक व मध्य विद्यालयों में छात्रों की उपस्थिति 40 से 50 फीसदी ही रह रही है। जबकि विभाग द्वारा शत-प्रतिशत छात्रों की उपस्थिति के साथ पढ़ाई कराने का निर्देश दिया गया है।

छात्रों की उपस्थिति को लेकर प्रधानाध्यापक व शिक्षकों को जागरुक करने की भी जिम्मेवारी दी गई है। विभागीय अधिकारी छात्रों के घर जाकर उनके अभिभावकों से बात करने का निर्देश दिए हैं। इसके बाद भी स्कूलों में छात्रों की उपस्थिति नहीं बढ़ रही है। जबकि विद्यालयों में एमडीएम बंद होने के बाद छात्रों के बीच सूखा राशन का वितरण किया गया है। मेगा साफ्ट के माध्यम से उनके खातों में राशि भेजी गई है।

अधिकारियों ने बताया कि कक्षा एक से पांच तक छात्रों के खाते में प्रत्येक कार्य दिवस का 100 ग्राम सूखा राशन और 4.97 रुपए भेजे गए हैं। जबकि मध्य विद्यालय के छात्रों को 100 ग्राम सूखा राशन और 7.45 रुपए दिए जा रहे हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि प्राथमिक व मध्य विद्यालय के एचएम को एमडीएम हेड का खाता खोलवाने का निर्देश दिया गया है। 21 सितंबर तक सभी एचएम को हर हाल में खाता खोलवा लेना है।

विद्यालय में एमडीएम शुरू होने की बढ़ी उम्मीद

शिक्षा विभाग जिले के प्राथमिक व मध्य विद्यालय के एचएम को एमडीएम हेड का खाता खोलने का निर्देश दिया है। इसके लिए एचडीएफसी बैंक द्वारा बीआरसी स्तर पर कैंप लगाया जा रहा है। शिक्षा विभाग के एमडीएम के जिला साधनसेवी दिलीप कुमार ने बताया कि मार्च 2020 में एमडीएम के बंद होने के बाद सभी विद्यालयों में बची राशि को वापस किया गया था। इसके बाद विद्यालय के बंद होने की वजह से एमडीएम की राशि नहीं भेजी गई थी। अब विद्यालय खुल गए हैं। विभाग द्वारा सभी प्राथमिक व मध्य विद्यालयों के एचएम को खाता खोलने का निर्देश दिया गया है। बैंक को भी बीआरसी स्तर पर कैंप लगाकर खाता खोलने की बात कही गई है। भभुआ अनुमंडल में एचडीएफसी की भभुआ शाखा व मोहनियां शाखा के अधिकारी खाता खोलने को लेकर कैंप में शामिल हो रहे हैं। एचएम को भी अपने बीआरसी के कैंप में खाता खोलने के लिए उपस्थित होने का निर्देश दिया गया है। 21 सितंबर तक हर हाल में जिले के सभी प्राथमिक व मध्य विद्यालयों के एचएम के एमडीएम हेड का खाता खोल लेने का लक्ष्य रखा गया है। कई शिक्षकों का कहना है कि खाता खुलने के बाद एमडीएम के चालू होने की संभावना बढ़ गई है।

एमडीएम चालू होने के बाद छात्रों की तादाद बढ़ने की है संभावना

छात्रों की विद्यालयों में कम हो रही उपस्थिति को लेकर शिक्षक जागरूकता अभियान चला रहे हैं। कुछ शिक्षकों का कहना है कि ग्रामीण इलाकों में ज्यादातर छात्र विद्यालय नहीं आ रहे हैं। हालांकि उनका कहना था कि विभागीय निर्देश के बाद पोषक क्षेत्रों में जागरुकता अभियान चलाने से उपस्थिति में कुछ वृद्धि हुई है। इसके बावजूद कुछ छात्र अभी भी विद्यालय नहीं आ रहे हैं। उन्होंने यह भी बताया कि विद्यालयों में काफी दिनों से एमडीएम बंद है। अब खाता खोलने का निर्देश मिला है। खाता भी खोले जा रहे हैं। ऐसे में खाता खुलने के बाद एमडीएम के चालू होने की संभावना है। विद्यालयों में एमडीएम के चालू होने के बाद छात्रों की उपस्थिति में वृद्धि होने की संभावना बन रही है। उन्होंने कहा कि अब कोरोना का प्रभाव भी नहीं के बराबर रह गया है। लेकिन, हमें सावधानी बरतते हुए शिक्षण कार्य चलाना है।

कोट

प्राथमिक व मध्य विद्यालय के एचएम को एमडीएम हेड का खाता खोलवाने का निर्देश दिया गया है। एचडीएफसी के अधिकारी बीआरसी में जाकर एचएम का खाता खोल रहे है। हालांकि अभी एमडीएम चालू कराने को लेकर विभागीय निर्देश नहीं मिला है। लेकिन, अक्टूबर माह से विद्यालयों में एमडीएम के चालू होने की उम्मीद जताई जा रही है।

विजय प्रसाद, डीपीओ उच्च शिक्षा सह एमडीएम प्रभारी

फोटो-15 सितंबर भभुआ- 1

कैप्शन- शहर के नगरपालिका मध्य विद्यालय में बुधवार को पढ़ाई करतीं छात्राएं।

संबंधित खबरें