bhabhua news - ज्ञान प्राप्त कर उसे जीवन में आत्मसात करने का है महत्व DA Image
14 नबम्बर, 2019|9:49|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ज्ञान प्राप्त कर उसे जीवन में आत्मसात करने का है महत्व

प्रवचन के दौरान श्रीजीयर स्वामी जी महाराज ने भक्तों से कहा

कुदरा के असरवलिया में 12 अप्रैल तक चलेगा ज्ञान महायज्ञ

भभुआ। कार्यालय संवाददाता

कुदरा के असरवलिया में शुरू ज्ञान महायज्ञ में रविवार को प्रवचन के दौरान श्री जीयर स्वामी जी महाराज ने कहा कि ज्ञान प्राप्त करने का महत्व तभी है, जब उसे जीवन में आत्मसात किया जाए। अगर हम ज्ञान प्राप्त करते हैं, प्रवचन सुनते हैं, अध्ययन करते हैं, लेकिन उसका जीवन में कोई उपयोग नहीं करते हैं तो उससे कोई फायदा नहीं। उपदेश सुनने तथा ज्ञान प्राप्त करने की सार्थकता तभी है जब उसे जीवन में उतारा जाए। अगर हम रोज प्रवचन में सुने कि माता-पिता की सेवा करनी चाहिए और हम ऐसा नहीं करते हैं। उनको आदर नहीं देते हैं, तो फिर प्रवचन सुनने और ज्ञान प्राप्त करने का कोई औचित्य नहीं रह जाता है।

उन्होंने कहा कि जीवन जीना अलग बात है। लेकिन, मर्यादित रूप में संयमित जीवन जीना एक अलग बात है। जिस प्रकार पुत्र का कर्तव्य माता-पिता की सेवा करना है। उसी प्रकार माता-पिता का भी कर्तव्य है पुत्र को संस्कारी बनाना। अगर कोई चाहे कि हम बेईमानी से धन कमाकर जीवन में शांति प्राप्त करें, तो यह कभी संभव नहीं है। इसलिए जीवन में उचित तरीके से धन का अर्जन करना चाहिए। कर्म का फल मिलना निश्चित है। कर्म करते समय ध्यान देना चाहिए कि किसी के साथ कोई गलत कार्य न हो। अगर हम मंदिर में पूजा कर रहे हैं और ध्यान कहीं और है तो फिर पूजा करने का कोई औचित्य नहीं है। जीवन में स्वच्छता को आत्मसात करना। साफ-सफाई रखना भी एक पूजा है। ईश्वर द्वारा जो मिला हुआ है उसमें व्यक्ति को संतोष करना चाहिए। ज्यादा बिलसितापूर्ण जीवन जीना उचित नहीं है।

स्वामी जी ने कहा कि भागवत कथा का श्रवण करने तथा पाठ करने से जीवन की बहुत सारी परेशानियां दूर हो जाती है। जिस प्रकार अगर हम भोजन करते हैं और कामना नहीं भी करते हैं कि भूख समाप्त हो जाए। फिर भी भूख समाप्त हो जाती है। जिस घर में श्रीमद्भागवत कथा का पाठ होता हो उस घर में लक्ष्मी का वास होता है। शांति मिलती है। जिस घर में महापुरुषों का ऋषि मुनियों का साधु संतों का सम्मान नहीं मिलता है वह घर श्मशान बन जाता है। जिस व्यक्ति के पास जुआ, शराब तथा वेश्यावृत्ति की प्रवृत्ति बढ़ जाए उसका विनाश निश्चित है। विषम परिस्थितियों में भी धर्म से विचलित नहीं होना चाहिए। मीडिया प्रभारी अखिलेश बाबा ने बताया कि प्रवचन सुनने के लिए काफी दूर से श्रद्धालु प्रवचन सुनने आ रहे हैं।

फोटो-07 अप्रैल भभुआ- 8

कैप्शन- कुदरा प्रखंड के असरवलिया गांव में ज्ञान यज्ञ के दौरान रविवार को श्रीजीयर स्वामी जी का प्रवचन सुनतीं महिला श्रद्धालु।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bhabhua news